हिमाचल में डॉक्टर्स की हड़ताल: टांडा में टाले गए 35 ऑपरेशन

हमीरपुर जिले से कार्डियक पेसेंट सुरेंद्र कुमार ने बताया कि टांडा मेडिकल क़ॉलेज में उनका ऑपरेशन हुआ था. आज उन्हें जांच के लिए बुलाया गया था, लेकिन हड़ताल के चलते अब उन्हें मंगलवार को बुलाया गया है.

Bichitar Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: June 17, 2019, 4:12 PM IST
हिमाचल में डॉक्टर्स की हड़ताल: टांडा में टाले गए 35 ऑपरेशन
कांगड़ा के टांडा में स्ट्राइक पर बैठे डॉक्टर.
Bichitar Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: June 17, 2019, 4:12 PM IST
डॉक्टर्स की देशव्यापी हड़ताल का असर हिमाचल के बड़े अस्पतालों पर पड़ा है. हालांकि, सरकारी छुट्टी के चलते जनरल ओपीडी बंद रही, लेकिन तय ऑपरेशन नहीं हो पाएं हैं. आपातकालीन सेवाएं प्रदेश भर के अस्पतालों में बेरोकटोक के चलती रही और इमरजेंसी में मरीजों को पूरा स्वास्थ्य लाभ दिया गया.

कांगड़ा के मेडिकल कॉलेज टांडा का हाल
कांगड़ा के मेडिकल कॉलेज टांडा में भी असर देखने को मिला. यहां डॉक्टर्स की ओर से गेट मीटिंग कर डॉक्टरों की एकदिवसीय देशव्यापी हड़ताल का समर्थन किया. इस दौरान मरीजों और तिमारदारों को बेहद दिक्कतें आई. इतना ही नहीं, 35 के करीब ऐसे सर्जरी केस थे, जो आज डॉक्टर्स की हड़ताल की वजह से टल गए. हालांकि, टीएमसी में इमरजेंसी सेवाएं बाद्धित नहीं थी. बावजूद इसके डॉक्टर्स की इन जगहों पर मौजूदगी न के बराबर दिखी. डॉक्टर्स की हड़ताल से आज टीएमसी कांगड़ा पूरी तरह से बेहाल दिखा.

जांच के लिए आए मरीज लौटे

हमीरपुर जिले से कार्डियक पैशेंट सुरेंद्र कुमार ने बताया कि टांडा मेडिकल क़ॉलेज में उनका ऑपरेशन हुआ था. आज उन्हें जांच के लिए बुलाया गया था, लेकिन हड़ताल के चलते अब उन्हें मंगलवार को बुलाया गया है.

ये बोले डॉक्टर्स
आरडीए के अध्यक्ष अमित राणा की मानें तो आज किसी भी अस्पताल में डॉक्टर्स सुरक्षित नहीं है. इसके लिए बहुत हद तक सरकार की स्वास्थ्य प्रणाली भी जिम्मेदार है. डॉक्टर्स तो अपनी सेवाएं देने में कोई कसर नहीं छोड़ते लेकिन सरकार की सहूलियतें ही मौके पर दम तोड़ जाती हैं जो कि बाद में ऐसे मामलों को जन्म देती हैं.
Loading...

दो दिन पहले ही मरीज भेजे घर
टीएमसी के प्रशासनिक सूत्रों की मानें तो इन दिनों धरना प्रदर्शन और छुट्टियों के माहौल को देखते हुए टीएमसी में दाखिल कई मरीज तो इलाज के दौरान ही घर पहुंच चुके हैं. डॉक्टर्स की मौजूदगी के ढुलमुल रवैये के चलते मरीज हॉस्पीटल के बैड पर स्वास्थ्य सुविधाएं लेने की वजाय अपने घरेलू बैड पर सुविधाएं लेना ज्यादा मुनासिब समझ रहे हैं. बताया गया है कि शनिवार और रविवार और सोमवार को सरकारी छुट्टी के चलते मरीजों को पहले ही छुट्टी दे दी गई थी.

शिमला के आईजीएमसी का हाल
शिमला के आईजीएमसी में सरकारी छुट्टी के चलते सोमवार को कोई ऑपरेशन शेड्यूल्ड नहीं थे. डॉ. भारतेंदु नेगी, आरडीए, जनरल सेक्रेटरी ने बताया कि आज के दिन कोई ऑपरेशन शेड्यूल नहीं थे. इमरजेंसी के तहत आए मरीजों के ऑपरेशन किए गए हैं. हालांकि, सरकारी छुट्टी के चलते प्रदेश के तीन बड़े अस्पतालों में मरीज कम ही संख्या में पहुंचे हैं.

ये भी पढ़ें: 5 साल की बच्ची से रेप: ‘केस वापस लेने को 15 लाख की पेशकश‘

हिमाचल में डॉक्टर्स की हड़ताल: टांडा में टाले गए 35 ऑपरेशन

हिमाचल में मौसम ने बदली करवट, कुल्लू और शिमला में बारिश

VIDEO: जनमंच में कांग्रेस विधायक और भाजपाई मंत्री भिड़े

सड़क किनारे सो रही 9 माह की बच्ची को पिकअप ने कुचला, मौत

नशे में युवक ने महिला डॉक्टर से की छेड़छाड़ और मारपीट
First published: June 17, 2019, 4:05 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...