Assembly Banner 2021

Kangra: ‘चिट्टे’ के गढ़ इंदौरा में पुलिस की रेड, 3 लग्जरी गाड़ियां और 2 बाइक बरामद

कांगड़ा में ड्रग तस्कर के घर पर रेड.

कांगड़ा में ड्रग तस्कर के घर पर रेड.

Drugs in Kangra: कांगड़ा पुलिस नशे पर नकेल कसने के लिए इस तरह से अभियान चलाती रहती है. हालांकि, नशे के कई बड़े सौदागर अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं.

  • Share this:
धर्मशाला. हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा (Kangra) जिले में इंदौरा क्षेत्र नशे का गढ़ बनता जा रहा है. यहां लगातार चिट्टे याने नशे के मामले सामने आए हैं. ताजा मामले में एक नशा माफिया (Drug Mafia) के पार्टनर के घर पर पुलिस ने छापेमारी कर उसके पास से तीन लग्जरी गाड़ियां और बाइक बरामद की हैं. पुलिस को शक है कि यह सब नशा (Drugs) बेचने से कमाए गए पैसे से खरीदे गए हैं.

IPS अधिकारी और इंदौरा रेंज के डीएसपी अशोक कुमार की मानें तो तीन महीना पहले जिस गोबिंदा नाम के शख्स के घर पर छापेमारी हुई थी और वहां से साढ़े 15 लाख रुपये की नगद समेत लाखों रुपयों की हैरोइन (Heroin) बरामद हुई थी. इस कड़ी में खूफिया सूचना के तहत उसी के अन्य 6 पार्टनर्स के घर पर भी रेड डाली गई है, जहां से 3 XUB 500 और 2 कमांडो बाइकें भी बरामद की गई हैं. उनकी जो भी लैंड डील्स हुई हैं, उनके दस्तावेज भी ज़ब्त कर लिये गये हैं.

उन्होंने कहा कि आज नूरपुर, डमटाल और इंदौरा के SHO समेत डमटाल की पुलिस फ़ोर्स को लेकर मौके पर जाकर रेड की गई थी. उन्होंने कहा कि आधिकारिक तौर पर चश्मदीद गवाह के इंदौरा के SDM की भी मदद ली गई थी और उन्हीं की अगुवाई में आज इस रेड को अंजाम दिया गया.



पुलिस को सोर्स की तलाश
उन्होंने कहा कि पुलिस ये जानने की भी कोशिश करेगी इन लोगों के पास इतनी सारी धन राशि कहां से आ रही है, जिससे ये लोग लग्ज़री सामान खरीद रहे हैं. उन्होंने कहा कि पुलिस हर पहलू से मामले की जांच करेगी.

इंदौरा के कई इलाकों में सरेआम चलता है नशे का कारोबार
काबिलेगौर है कि इंदौरा के छन्नी वैली, ठाकुरद्वारा, डमटाल, कंडवाल, भदरोया समेत कई ऐसे इलाके हैं, जहां सरेआम नशे का कोराबार होता हैं. बता दें कि इन इलाकों की सीमा पंजाब और जम्मू के साथ भी लगती है. ऐसे में यहां दूसरे राज्यों से भी नशा तस्करी होती है, हिमाचल पुलिस पंजाब और जम्मू पुलिस के साथ का मिलकर नशे के कारोबार को रोकने के लिए त्रिशंकु अभियान भी चला चुकी है. लेकिन नशा तस्करों के कारोबार पर रोक नहीं लगाई जा सकी है. फिलहाल कांगड़ा पुलिस ही गाहे-बगाहे नशे पर नकेल कसने के लिए इस तरह से अभियान चलाती रहती है, जिसमें कई बार उसे छिटपुट सफलता भी मिलती नज़र आती हैं, लेकिन नशे के बड़े सौदागर अभी गिरफ्त से बाहर हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज