Kangra: खेतों के ऊपर से गुजर रही बिजली लाइन में शॉर्ट सर्किट से लगी आग, गेंहू की 400 कनाल फसल राख

कांगड़ा में खेतों में लगी आग.

कांगड़ा में खेतों में लगी आग.

Fire in Kangra: पीड़ित किसानों के अनुसार, इस आग के कारण उनका लगभग 80 से 90 लाख रुपये का नुकसान हुआ है. स्थानीय लोगों ने बताया की उनके द्वारा अग्निशमन विभाग को भी सूचित किया गया.

  • Share this:
धर्मशाला. हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा (Kangra) जिले में खेतों में आग लगने से किसानों की गेंहू की फसल (Crops) तबाह हो गई. कांगड़ा के इंदौरा क्षेत्र में आये दिन आगजनी की घटनाएं सामने आ रही हैं. ताज़ा मामला इंदौरा की पंचायत राजाखासा के गांव हलेड का है. यहां किसानों द्वारा अपना खून पसीना एक करके तैयार की गई रबी की फ़सल आग (Fire) में जलकर स्वाहा हो गई है.

दरअसल, हलेड में किसानों के खेतों के ऊपर से निकल रही बिजली की लाइनों में अचानक से शार्ट सर्किट हो गया और नतीज़तन  किसानों की तैयार हुई लगभग 400 कनाल गेहूं की फसल जलकर राख हो गयी. आग इतनी भयंकर थी कि आग की लपटें 35 से 40 फीट ऊपर तक जा रही थी, जिस कारण इस आग ने खेतों में लगे शीशम, आम और जामुन के पेड़ों को भी अपनी चपेट में ले लिया. जब तक फायर ब्रिगेड की गाड़ियां मौके पर पहुंची, तब तक किसानों की फसल जल कर खाक हो चुकी थी.

बिजली विभाग की लापरवाही से जली फसल.


पोल्ट्री फार्म को भी भारी नुकसान
इस आग के कारण नजदीक ही बने पोल्ट्री फार्म को भी भारी नुकसान पहुंचा है. पिछले 15 दिनों में इंदौरा विधानसभा क्षेत्र में लगभग 700 से 800 कनाल गेंहू की फसल आग की भेंट चढ़ चुकी है. लोगों को कहना है कि अगर अप्पर हिमाचल में सेब की फसल को कोई भी नुकसान होता है तो सरकार उन्हें पूरा मुआवजा देती है और सेब का सीजन शुरू होने से पहले सरकार वहां के किसानों को मुक़म्मल सुविधाएं प्रदान करती है, मगर लोअर हिमाचल में किसानों के पास पाने और खोने के लिये महज़ यही नकदी फसलें हैं, वो भी जलकर ख़ाक हो जाती हैं तो भी कोई पूछने नहीं आता. यहां हर साल आगजनी के चलते किसानों को लाखों रुपयों की चपत लग जाती है बावजूद इसके यहां आज दिन तक फायर स्टेशन तक नहीं खोला गया है.

कांगड़ा में फसल में लगी आग.


क्या बोले किसान



आगजनी के चश्मदीदों की मानें तो गांव के खेतों के बीचोंबीच से गुजर रही बिजली की तारों में शार्ट सर्किट होने से ही यह आग लगी थी, जिसने देखते ही देखते भयंकर रूप धारण कर लिया. इस आग से गोरु कटोच, राकेश सिंह, रंजीत सिंह, संजीव सिंह, सोनू, यशपाल, रशपाल, सुदर्शन सिंह लम्बड़दार, जीत सिंह किसानों की लगभग 300 कनाल गेंहू की तैयार फसल को नुकसान पहुंचाया है. पीड़ित किसानों के अनुसार, इस आग के कारण उनका लगभग 80 से 90 लाख रुपये का नुकसान हुआ है. स्थानीय लोगों ने बताया की उनके द्वारा अग्निशमन विभाग को भी सूचित किया गया, बावजूद इसके वो भी वक़्त पर नहीं पहुंचे और जब तक गाड़ियां पहुंची तब तक फ़सल जलकर तबाह हो चुकी थी. हालांकि, आग बुझाने में ग्रामीणों ने जुगाड़ टेक्नोलॉजी और देशी मैथड लगाकर कुछ हद तक बुझाने में सफलता हासिल की.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज