Home /News /himachal-pradesh /

ये नंबर है खास! 60 हजार की स्कूटी के VVIP नंबर को 18.22 लाख रुपये की बोली लगाई

ये नंबर है खास! 60 हजार की स्कूटी के VVIP नंबर को 18.22 लाख रुपये की बोली लगाई

हिमाचल: स्कूटी के नंबर के लिए लगाई गई 18 लाख रुपये की बोली. (सांकेतिक तस्वीर)

हिमाचल: स्कूटी के नंबर के लिए लगाई गई 18 लाख रुपये की बोली. (सांकेतिक तस्वीर)

सरकार ने वीवीआईपी नंबर के लिए बीते सप्ताह ही ओपन ऑक्शन की अधिसूचना जारी की थी. शाहपुर के एसडीएम मुरारी लाल ने पूरे मामले की पुष्टि की है.

धर्मशाला. कहते हैं शौक का कोई मोल नहीं होता है. शौक के लिए लोग बहुत कुछ कर-गुजरते हैं. ऐसा ही एक मामला हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के कांगड़ा (Kangra) जिले में आया है. जहां पर साठ हजार रुपये की कीमत वाली स्कूटी के लिए वीवीआईपी नंबर (VVIP) की बोली लगाई गई, वह भी 18 लाख रुपये.

जानकारी के अनुसार, एक निजी कंपनी ने स्कूटी के लिए वीवीआईपी नंबर हासिल करने को 18 लाख रुपये की बोली लगाई है. कांगड़ा के शाहपुर एसडीएमस दफ्तर के जरिये यह नंबर जारी होगा.

निजी कंपनी ने लगाई बोली
ऊना जिले की एक निजी कंपनी राहुल पैम प्राइवेट लिमिटेड ने एक नई स्कूटी शाहपुर में कंपनी के नाम रजिस्टर्ड करवाई. इसके बाद कंपनी एचपी 90-0009 नंबर लेना चाहती है. वीआईपी नंबर को लेने के लिए कंपनी ने सरकार की ओर से घोषित ऑनलाइन बोली में हिस्सा लिया. एक सप्ताह पहले शुरू हुई बोली बीत कल 26 जून शुक्रवार को खत्म हो गई. हालांकि, अभी नंबर अलॉट नहीं हुआ है.

तीन दिन में पैसा जमा करना होगा
एक सप्ताह चली ऑनलाइन बोली में कंपनी ने स्कूटी के वीआईपी नंबर के लिए सबसे ज्यादा 18 लाख 22 हजार 500 रुपये की बोली लगाई. कंपनी अगर 3 दिन के अंदर शाहपुर एसडीएम दफ्तर में बोली की राशि जमा करवा देगी तो उसे स्कूटी के लिए वीवीआईपी नंबर मिल जाएगा. बताया जा रहा है कि नीलामी में शाहपुर के कुछ और लोगों ने भी 10 से 15 लाख रुपये तक बोली लगाई. सरकार ने वीवीआईपी नंबर के लिए बीते सप्ताह ही ओपन ऑक्शन की अधिसूचना जारी की थी. शाहपुर के एसडीएम मुरारी लाल ने पूरे मामले की पुष्टि की है.

Tags: Auctioning, Automobile, Himachal pradesh, Kangra district, Shimla

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर