लाइव टीवी

कर्ज में डूबी है जयराम सरकार, छिपा रही है कमजोरियां : पूर्व कांग्रेस मंत्री बाली
Dharamsala News in Hindi

Bichitar Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: January 5, 2020, 4:26 PM IST
कर्ज में डूबी है जयराम सरकार, छिपा रही है कमजोरियां : पूर्व कांग्रेस मंत्री बाली
जी. एस. बाली ने कहा कि जयराम सरकार का टैक्स कलेक्शन कम हो रहा है.

हिमाचल पर 50 हजार करोड़ से ज्यादा का कर्ज (Loan) हो चुका है जो प्रदेश के इतिहास में सबसे ज्यादा है. इस चुनौती से लड़ने की बजाय जयराम सरकार (Jairam Government) अपनी कमजोरियां छिपाने में लगी हुई है. जीएस बाली (G S Bali) ने कहा कि जयराम सरकार हर माह कर्ज ले रही है. जीडीपी (GDP) ढाई फीसदी कम हो गई है.

  • Share this:
धर्मशाला. पूर्व कांग्रेस मंत्री जीएस बाली (G.S.Bali) ने जयराम सरकार की वित्तीय स्थिति पर सवाल उठाए हैं. धर्मशाला (Dharamshala) में प्रेस वार्ता के दौरान बाली ने कहा कि जयराम सरकार (Jairam Government) दिवालियापन की ओर जा रही है. सरकार कर्ज लेकर घी पी रही है. हिमाचल पर 50 हजार करोड़ से ज्यादा का कर्ज (Loan) हो चुका है जो प्रदेश के इतिहास में सबसे ज्यादा है. इस चुनौती से लड़ने की बजाय जयराम सरकार अपनी कमजोरियां छिपाने में लगी हुई है. जीएस बाली ने कहा कि जयराम सरकार हर माह कर्ज ले रही है. जीडीपी (GDP) ढाई फीसदी कम हो गई है. सरकार आंकड़ों में दिखा रही है कि जीएसटी (GST) कलेक्शन ज्यादा हो रहा है, लेकिन इसमें हिमाचल  नागालैंड सरीखे प्रदेशों से पीछे है.

पूर्व मंत्री ने कहा कि असल में जयराम सरकार का टैक्स कलेक्शन (Tax Collection) कम हो रहा है. टैक्स कलेक्शन में 30 से 35 फीसदी कमी आई है. प्रदेश की वित्तीय स्थिति इतनी खराब होती जा रही है कि सरकार के सरकारी कर्मचारियों के वेतन देने के लिए हाथ खड़े हो जाएंगे. जयराम सरकार में वित्तीय कुप्रबंधन चल रहा है.

जश्न के बजाय बेरोजगार मेला करवाना चाहिए था

बाली ने कहा कि जयराम सरकार को दो साल का कार्यकाल पूरा होने पर जश्न के बजाय बेरोजगार मेला करवाना चाहिए था. सरकार ने इन्वेस्टर मीट के लिए करोड़ों रुपये पानी की तरह बहा दिए. इन्वेस्टर मीट में जयराम सरकार ने कंगाल कंपनियों के साथ करोड़ों रुपये के MoU साइन कर लिए. दक्षिण की एक कंपनी जिसकी आय एक या दो लाख रुपये है, उसके साथ जयराम सरकार ने 500 करोड़ रुपये का एमओयू साइन कर लिया. उन्होंने मांग करते हुए कहा कि सरकार इन्वेस्टर मीट पर श्वेत पत्र जारी करे. सरकार बताए कि इन्वेस्टर मीट में 50 करोड़ रुपये से ज्यादा राशि के एमओयू साइन करने वाली कंपनियों की नेट इंकम कितनी है. उन्होंने कहा कि इन्वेस्टर मीट में सरकार के करोड़ों रुपये बर्बाद हुए. इसका फायदा सिर्फ दो तीन सप्लायरों और अधिकारियों को हुआ.

पूर्व कांग्रेस मंत्री G. S. Bali ने जयराम सरकार पर इन्वेस्टर मीट में सरकार के करोड़ों रुपये बर्बाद किए जाने का आरोप लगाया.


बाली ने CM जयराम से कई सवाल पूछे

उन्होंने कहा कि सीएम बताएं कि दो साल के कार्यकाल में वह हिमाचल के लिए कौन सा बड़ा प्रोजेक्ट लेकर आए. जयराम सरकार के कार्यकाल में प्याज, गैस, पेट्रोल, और राशन के दाम आसमान छू रहे हैं. सरकार ने कांग्रेस की बेरोजगारी भत्ते की योजना बंद कर बेरोजगारों से अन्याय किया है. हिमाचल में हाउसिंग में कितना निवेश आ रहा है. रेरा का दफ्तर खोलने का क्या फायदा है.बाली ने कहा कि जयराम ठाकुर मंडी एयरपोर्ट बनाने को लेकर जनता को मूर्ख बना रहे हैं. मंडी एयरपोर्ट का प्रपोजल रिजेक्ट हो चुका है. सीएम न तो मंडी में एयरपोर्ट बनाएंगे न ही कांगड़ा एयरपोर्ट का विस्तारीकरण करेंगे. फिर उन्होंने कहा कि जरूरत के मुताबिक कांगड़ा एयरपोर्ट का विस्तारीकरण होना चाहिए. उन्होंने सीएम कांगड़ा जिला के साथ सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाया.

ये भी पढ़ें - मंडी : पंडोह के BBMB स्वीच यार्ड में लगी आग में जलकर पुलिसकर्मी की मौत

ये भी पढ़ें - कुल्लू : 1 किलो 605 ग्राम चरस के साथ बिलासपुर के 4 युवक गिरफ्तार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्मशाला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 5, 2020, 4:26 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर