Home /News /himachal-pradesh /

हिमाचल: कैग रिपोर्ट के बहाने कांग्रेस ने सरकार पर साधे निशाने, बोली- विधानसभा चुनाव में 60 सीटें जीतेंगे

हिमाचल: कैग रिपोर्ट के बहाने कांग्रेस ने सरकार पर साधे निशाने, बोली- विधानसभा चुनाव में 60 सीटें जीतेंगे

हिमाचल कांग्रेस नेता मुकेश अग्निहोत्री ने सरकार पर निशाना साधा.

हिमाचल कांग्रेस नेता मुकेश अग्निहोत्री ने सरकार पर निशाना साधा.

Congress Attacks Bjp on Cag Report: वित्तीय वर्ष 2019-20 की कैग रिपोर्ट का निष्कर्ष ये है कि हिमाचल सरकार की आमदनी अठ्ठनी और खर्चा रुपया है. बुधवार को धर्मशाला के तपोवन में प्रदेश विधानसभा के शीतकालीन सत्र के अंतिम दिन मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कैग रिपोर्ट सभा पटल पर रखी. नियंत्रक महालेखा परीक्षक (कैग) की रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि 2019-20 में एक ओर प्रदेश की राजस्व प्राप्तियों में गिरावट दर्ज हुई.

अधिक पढ़ें ...

शिमला. हिमाचल प्रदेश में सरकार के वित्त प्रबंधन की पोल नियंत्रक महालेखा परिक्षक ने खोली है. वित्तीय वर्ष 2019-20 की कैग रिपोर्ट के बहाने जय राम सरकार विपक्ष के निशाने पर है. कैग रिपोर्ट के बहाने विपक्ष ने सरकार पर कई निशाने साधे हैं. नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने सरकार को हर क्षेत्र में फेल करार दिया, उन्होंने कहा कि सरकार कर्ज की बैसाखी पर चल रही है. साथ ही ऐलान किया कि कांग्रेस सरकार बनने पर कर्मचारियों की सभी मांगे पूरी की जाएंगी. इतना ही नहीं उन्होंने दावा कि 2022 के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस 68 में से 60 सीटें जीतेगी.

मुकेश अग्निहोत्री ने News 18 से बातचीत में कहा कि कांग्रेस सरकार बनने के बाद ओल्ड पेंशन स्कीम लागू की जाएगी. कांग्रेस सरकार पुलिस कर्मियों को संशोधित वेतनमान देगी. साथ ही ऑउटसोर्स कर्मचारियों के लिए नीति बनाकर उन्हें अनुंबध में लाया जाएगा. उन्होंने कहा कि पीरियड बेस्ड एसएमसी शिक्षकों के लिए नीति बनाई जाएगी और पुलिस अधिकारियों की पदोन्नति के मसले भी सुलाझाएंगे. साथ ही महंगाई, बेरोजगारी और राशन के मुद्दे पर भी सरकार को घेरा. सीएम ने इस मुद्दे पर कांग्रेस पर निशाना साधा है, सीएम ने कहा है कि आज जो आर्थिक हालात हैं उसके लिए कांग्रेस की पूर्व सरकार जिम्मेदार है.

कैग रिपोर्ट में सरकार पर सवाल
बताते चलें कि वित्तीय वर्ष 2019-20 की कैग रिपोर्ट का निष्कर्ष ये है कि हिमाचल सरकार की आमदनी अठ्ठनी और खर्चा रुपया है. बुधवार को धर्मशाला के तपोवन में प्रदेश विधानसभा के शीतकालीन सत्र के अंतिम दिन मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कैग रिपोर्ट सभा पटल पर रखी. नियंत्रक महालेखा परीक्षक (कैग) की रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि 2019-20 में एक ओर प्रदेश की राजस्व प्राप्तियों में गिरावट दर्ज हुई और वहीं दूसरी ओर खर्चों में करीब साढ़े 5 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई. राजकोषीय घाटा जीडीपी का 3.38 फीसदी तक पहुंच गया जबकि ये 3 प्रतिशत से ज्यादा नहीं होना चाहिए. सरकार के आंतरिक ऋण में एक साल के भीतर 4155 करोड़ की बढौतरी हुई, इससे पता चलता है कि सरकार की माली हालत क्या है और कर्ज के सहारे प्रदेश की गाड़ी चल रही है.

राज्य पर देनदारी बढ़ी है
कैग रिपोर्ट के अनुसार, पूंजीगत व्यय में भी 13 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई. राज्य के सकल घरेलू उत्पाद के मुकाबले राजकोषीय देनदारियां भी बढ़ी हैं. कैग ने प्रदेश सरकार के ऋण लेने पर भी सवाल उठाए हैं. रिपोर्ट के मुताबिक 2018-19 तक प्रदेश सरकार के आंतरिक ऋण 35,363 करोड़ रू. था, ये 2019-20 में बढ़कर 39,528 करोड़ रू. तक जा पहुंचा.

Tags: BJP Congress, Himachal pradesh, Shimla News

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर