कोरोनिल विवाद: शांता कुमार बोले-शब्दिक गलती हुई, रामदेव पर सवाल उठाना भारतीयों का अपमान
Dharamsala News in Hindi

कोरोनिल विवाद: शांता कुमार बोले-शब्दिक गलती हुई, रामदेव पर सवाल उठाना भारतीयों का अपमान
बाबा रामदेव और शांता कुमार. (FILE PHOTO)

शांता ने कहा कि स्वामी रामदेव जैसे एक महापुरुष को अपराधी के कटघरे में खड़ा करना मेरे जैसे करोड़ों भारतीयों का अपमान है. उन्होंने कहा कि वह, जब यह सब, याद करते है तो स्वामी रामदेव और आचार्य बालकृश्ण को नमन करते हैं.

  • Share this:
पालमपुर. भारतीय जनता पार्टी के नेता और हिमाचल प्रदेश के भूतपूर्व मुख्यमंत्री, शान्ता कुमार ने कोरोना को लेकर पतांजलि (Pantanjali) की ओर से बनाई गई दवा कोरोनिल (Coronil) को लेकर बाबा रामदेव (Baba Ramdev) का बचाव किया है. कोरोनिल को लेकर विवाद होने के बाद अब शांता कुमार ने आयुष मंत्रालय को इस संबंध में एक पत्र लिखा है.

शांता ने आयुष मंत्री श्रीपाद नायक को पत्र लिखकर इस बात पर दुख प्रकट किया है कि कुछ औपचारिकताओं को पूरा न करने के कारण और शब्द प्रयोग की गलती के कारण स्वामी रामदेव जी को अपराधी के कटघरे में खड़ा कर दिया गया है. उन्होंने कहा कि आज भी लाखों कोरोना रोगी केवल शरीर की प्रतिरोधक शक्ति के कारण ठीक हो रहे है. इसी शक्ति की बढ़िया दवाई पंतजलि ने तैयार की थी. उन्होने कहा कि शब्दों की इस प्रकार की गलती कई बार बड़े नेताओं से भी हुई हैं.

स्वामी रामदेव ऐतिहासिक महापुरुष



शांता कुमार ने कहा कि स्वामी रामदेव इस युग के एक एतिहासिक महापुरुष है. हजारों साल से कुछ आश्रमों में सीमित रहने वाले योग को घर-घर तक पहुंचाया उसी कारण प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के प्रयत्न से 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस तय हुआ. शान्ता कुमार ने कहा कि महात्मा गांधी जी ने विदेशी माल की होली जलाई और स्वेदशी का सपना लिया. गांधी जी चले गये, लेकिन उसके बाद कई सरकारें आई और गई, सपना साकार नहीं हुआ. विदेशी कम्पनियों की लूट बढ़ती गई.
गांधी के सपने को पूरा किया

शांता ने कहा कि एक अकेले सन्यासी ने बिना सरकार की सहायता से गांधी जी के सपने को पूरा किया. विदेशी कम्पनियों की लूट को बन्द करवाया. इतना ही नहीं, पंतजलि उत्पाद विक्रय के द्वारा देश के लाखों बेरोजगारों को रोजगार दिया.

स्वामी रामदेव पर सवाल उठाना भारतीयों का अपमान

शांता ने कहा कि स्वामी रामदेव जैसे एक महापुरुष को अपराधी के कटघरे में खड़ा करना मेरे जैसे करोड़ों भारतीयों का अपमान है. उन्होंने कहा कि वह, जब यह सब, याद करते है तो स्वामी रामदेव और आचार्य बालकृश्ण को नमन करते हैं. इस सम्बन्ध मे आयुष मंत्री से आग्रह किया है कि स्वामी रामदेव जी के विरूद्ध सभी प्रकार के अपराध के मामले अतिशीघ्र सम्मानपूर्वक वापिस लिए जाएं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading