हिमाचल प्रदेश : सेंट्रल यूनिवर्सिटी कैंपस में 37 दिनों से चल रहा एबीवीपी का क्रमिक अनशन खत्म

कांगड़ा के डीसी ने हड़ताली छात्रों को जूस पिलाकर उनका क्रमिक अनशन खत्म करवाया.

कांगड़ा के डीसी ने हड़ताली छात्रों को जूस पिलाकर उनका क्रमिक अनशन खत्म करवाया.

एबीवीपी के छात्र विभिन्न मांगों को लेकर पिछले 37 दिनों से यूनिवर्सिटी कैंपस में क्रमिक अनशन कर रहे थे. जिलाधीश राकेश प्रजापति के आश्वासन के बाद उन्होंने यह अनशन खत्म कर दिया.

  • Share this:
धर्मशाला. सेंट्रल यूनिवर्सिटी (Central university) कैंपस में बीते 37 दिनों से चली आ रही अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) की क्रमिक भूख हड़ताल (hunger strike) आज खत्म हो गई. जिलाधीश राकेश प्रजापति ने भूख हड़ताल पर बैठे अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं और सेंट्रल यूनिवर्सिटी के छात्रों को आज अपने हाथों से जूस पिलाया और उनका क्रमिक अनशन खत्म करवाया. उन्होंने हड़ताली छात्रों से अपील की कि वे इसी जोश के साथ अब अपनी पढ़ाई में जुट जाएं.

दरअसल, एबीवीपी के छात्र बीते 44 दिनों से स्थायी कैंपस के लिए तुरंत भूमि चयन, मास कॉम और सांइस स्ट्रीम के छात्रों के लिए लैब की सुविधा, पेयजल, कैंटीन समेत कई अन्य समस्याओं के निदान के लिए आंदोलनरत थे. इस आंदोलन की शुरुआत देहरा स्थित सेंट्रल यूनिवर्सिटी कैंपस में हुई तालाबंदी की घटना से शुरू हुई. लेकिन यह सीयू के कुलपति के इस्तीफे के बाद भी नहीं थमी और लगातार जारी रही. अंतत: केंद्र सरकार के मानव संसाधन मंत्री निशंक पोखरियाल ने एबीवीपी के कार्यकर्ताओं के साथ हाल में बैठक की. उसके बाद सरकार हरकत में आई. उसने कांगड़ा के प्रशासन को एबीवीपी की भूख हड़ताल समाप्त करवाने का दिशा निर्देश जारी किया. इसके बाद ही प्रशासन की ओर से कार्यकर्ताओं को हरसंभव सहयोग करने का आश्वासन दिया गया. इसी के मद्देनजर आज जिलाधीश राकेश प्रजापति ने भूख हड़ताल पर बैठे कार्यकर्ताओं को जूस पिलाकर उन्हें इस हड़ताल को रोकने की सलाह दी.

एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने केंद्र सरकार की ओर से मिले ठोस आश्वासन और जिलाधीश राकेश प्रजापति द्वारा मौके पर पहुंचकर कार्यकर्ताओं को दिए गए दिलासे के बाद इस आंदोलन को अपनी बड़ी जीत करार दिया है और फिलहाल खुशी-खुशी अपनी हड़ताल समाप्त करने का फैसला किया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज