चरस तस्करी के दोषी को हुई 5 साल कैद, देना होगा 25 हजार जुर्माना भी

नाबालिग के साथ 2 सालों तक यौन शोषण किया, जिसकी शिकायत होने के बाद ओपी गुप्ता जेल की सलाखों के पीछे हैं.

चरस के साथ पकड़े गए 8 साल पुराने मामले में जान मोहम्मद नाम के एक तस्कर (smuggler ) को कोर्ट ने 5 साल की कठोर कैद (Rigorous imprisonment) और 25 हजार जुर्माने की सजा सुनाई है.

  • Share this:
    धर्मशाला.  सराह में 750 ग्राम चरस समेत पकड़े गए चंबा (Chamba) के जान मोहम्मद नाम के एक व्यक्ति के खिलाफ दोष सिद्ध होने पर विशेष जज (Special Judge) पारस डोगर ने उसे पांच साल की कठोर कारावास (Rigorous imprisonment) व 25 हजार रुपए जुर्माना की सजा सुनाई है. जुर्माना न अदा करने की स्थिति में दोषी को छह माह अतिरिक्त कारावास की सजा भुगतनी होगी.

    सराह क्षेत्र में पकड़ा गया था जान मोहम्मद 

    जिले के अटार्नी राजेश वर्मा ने केस की जानकारी देते हुए बताया कि 10 नवंबर 2011 को पुलिस को सूचना मिली थी कि सराह क्षेत्र में सुबह चरस के साथ एक व्यक्ति घूम रहा है. अलसुबह पुलिस टीम गश्त पर निकली तो सराह में चंबा तहसील के राख का निवासी जान मोहम्मद एक बैग लेकर घूम रहा था.  जैसे ही उनकी नजर पुलिस टीम पर पड़ी तो वह झाड़ियों की ओर जाने लगा.

    पेश किए गए थे नौ गवाह

    पुलिस ने उसे रोका और शक के आधार पर तलाशी ली तो बैग के भीतर एक कैरी बैग था. कैरी बेग से 750 ग्राम चरस मिली. पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया. पुलिस जांच के बाद कोर्ट में पहुंचे मामले में अभियाेजन पक्ष की ओर से केस की पैरवी जिले के अटार्नी विजिलेंस भुवनेश मन्हास ने की और कोर्ट में कुल 9 गवाह पेश किए. गवाहों के बयानों के आधार पर विशेष जज पारस डोगर ने दोषी को पांच साल कठोर कारवास व जुर्माना की सजा सुनाई है.

    ये भी पढ़ें- सुंदरनगर में 5 लाख रुपए की चरस के साथ दो तस्कर गिरफ्तार, जांच में जुटी पुलिस

    तीन साल बाद NSUI को मिला नया प्रदेश अध्यक्ष, चतर सिंह ठाकुर ने संभाली कमान