लाइव टीवी

राज्य विजिलेंस ब्यूरो ने केसीसी बैंक का लोन संबंधित रिकॉर्ड सील किया, करोड़ों की देनदारी मामला

Bichitar Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: December 14, 2019, 7:01 PM IST
राज्य विजिलेंस ब्यूरो ने केसीसी बैंक का लोन संबंधित रिकॉर्ड सील किया, करोड़ों की देनदारी मामला
केसीसी बैंक कभी भर्तियों और तो कभी एनपीए के मामलों में विवादों में रहा है.

एसपी विजिलेंस ने बताया कि मामले में 2 FIR के आधार पर कार्रवाई चल रही है. अब तक की जांच (Investigation) से साफ है कि लोन लेने के लिए गलत रास्ते अपनाए गए और फर्जी दस्तावेजों (Fake Documents) का इस्तेमाल किया गया.

  • Share this:
धर्मशाला. राज्य विजिलेंस ब्यूरो (State vigilance bureau) ने कांगड़ा केंद्रीय सहकारी यानी केसीसी बैंक (KCC Bank) का लोन (Loan) से संबंधित रिकॉर्ड सील (Record seal) कर दिया है. ये रिकॉर्ड वर्ष 2012 से 2017 के बीच निदेशक मंडल बैठकों और लोन कमेटी (Loan Committee) की प्रोसीडिंग्स का है. इसी अवधि में ऊना की स्टील कंपनी और पालमपुर की एक रिसॉर्ट कंपनी को करोड़ों का लोन दिया गया था, जो बाद में एनपीए (NPA) हो गया.

विजिलेंस ब्यूरो ने 2 FIR ऊना और धर्मशाला के थानों में दर्ज की 

राज्य में भाजपा सरकार बनने के बाद विपक्ष में रहते हुए भाजपा की चार्जशीट के आरोपों पर विजिलेंस ब्यूरो ने इस बारे में दो अलग-अलग एफआईआर ऊना और धर्मशाला थानों में दर्ज की हैं. इसकी जांच के लिए केसीसी बैंक से एजेंसी ने रिकॉर्ड लिया था. अब बैंक को कहा गया है कि ये रिकॉर्ड सील किया जा रहा
है, इसलिए जरूरी दस्तावेज बैंक फोटो कॉपी करवा ले. नई बात ये भी है कि इस जांच में अब तक ये लोन अप्रूव करने वाले दो बैंक अफसरों पर गाज गिरने वाली है. इनकी गिरफतारी भी हो सकती है.

विवादों में रहा है KCC बैंक

विजिलेंस ब्यूरो का कहना है कि ये बैड लोन थे और इन्हें लेने के लिए न केवल राजनीतिक दबाव बनाया गया बल्कि जाली दस्तावेज भी दिए गए. गौरतलब है कि केसीसी बैंक कभी भर्तियों और तो कभी एनपीए के मामलों में विवादों में रहा है. पूर्व कांग्रेस सरकार के समय की इन अनियमितताओं पर भाजपा ने विपक्ष में रहते हुए चार्जशीट में आरोप लगाए थे. सरकार बनने के बाद इन पर जांच बिठाई गई है.

फर्जी दस्तावेजों से लोन लिए गए: एसपीएसपी विजिलेंस एस. अरुल कुमार ने बताया कि इस मामले में दो एफआईआर के आधार पर कार्रवाई चल रही है. सारा रिकॉर्ड ले लिया गया है. अब तक की जांच से साफ है कि ये लोन लेने के लिए गलत रास्ते अपनाए गए और फर्जी दस्तावेजों का इस्तेमाल किया गया.

ये भी पढ़ें - हिमाचल में बर्फबारी: CM जयराम ने आवश्यक सुविधाएं जल्द बहाल करने के दिए निर्देश

ये भी पढ़ें - युवा पीढ़ी के उज्जवल भविष्य के लिए नशाखोरी रोकनी होगी : राज्यपाल दत्तात्रेय

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्मशाला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 14, 2019, 7:01 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर