ईराक हादसा: सुषमा स्वराज को याद कर भावुक हुआ कांगड़ा के अमन का परिवार

2007 में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करने के लिए सुषमा स्वराज धर्मशाला के नगरोटा बगवां पहुंची थी. न्यूज18 से बातचीत में भाजपा की महिला वर्कर मुधबाला ने कहा कि 2007 में एक चुनावी जनसभा के लिए सुषमा आईं थी.

Bichitar Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: August 7, 2019, 12:14 PM IST
ईराक हादसा: सुषमा स्वराज को याद कर भावुक हुआ कांगड़ा के अमन का परिवार
कांगड़ा के अमन की इराक में मौत हो गई थी. चार साल बाद उनकी अस्थियां हिमाचल पहुंची थी.
Bichitar Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: August 7, 2019, 12:14 PM IST
पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के अकस्मिक निधन से समूचे आवाम में शोक की लहर है. वहीं, उनके साथ सरोकार रखने वाले लोग आज उन्हें याद कर भावुक और दुख में हैं. इराक हादसे में मारे गए नौजवानों की अस्थियों को बीते साल उनके परिजनों को सौंपने में अहम भूमिका निभाने वाली सुषमा स्वराज की मौत पर उन नौजवानों के परिजन फफक-फफक रो पड़े.

सुषमा स्वराज की धर्मशाला से जुड़ी यादों और इराक हादसे के पीड़ित परिजनों से न्यूज़18 ने की खास बातचीत की. इराक हादसे में धर्मशाला के पासो गांव का रहने वाला अमन भी मारे गए थे. चार साल बाद उनकी अस्थियां घर पहुंची थी. इसमें विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने काफी प्रयास किए थे.

ये बोले अमन के भाई
अमन के भाई रमन कुमार ने उनके निधन पर शोक जताया और कहा कि उन्होंने विदेशों में फंसे कई भारतीय को उनके परिजनों से मिलाया. उन्हीं की वजह से ईराक हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को उनके अंतिम दर्शन करने का मौका मिला.

परिवार ने किया याद
अमन की मां ने सुषमा को याद करते हुए कहा कि शायद की कोई मंत्री ऐसा करता कि उनके बेटे की अस्थियां विदेश से घर तक पहुंची. अमन की माता ने कहा कि उन्हें विश्वाश नहीं हो रहा है कि सुषमा स्वराज का निधन हो गया है. उन्हें लगता है कि वह अब भी जिंदा हैं. बता दें कि इराक के मोसुल में मारे गए 39 भारतीयों में चार हिमाचल से थे. इनमें से एक मंडी और तीन युवक कांगड़ा से थे. जानकारी के मुताबिक, मृत युवक संदीप कुमार फ़तेहपुर धमेटा से है. जबकि इंद्रजीत कुमार कांगड़ा के शाहपुर के लंज का रहने वाला था. वहीं, अमन नामक युवक धर्मशाला के पासो गांव का रहने वाला है.इसके अलावा, मंडी के सुंदरनगर का हेमराज भी इनमें शामिल था.

2007 में धर्मशाला आई थी सुषमा स्वराज
Loading...

गौरतलब है कि 2007 में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करने के लिए सुषमा स्वराज धर्मशाला के नगरोटा बगवां पहुंची थी. न्यूज18 से बातचीत में भाजपा की महिला वर्कर मुधबाला ने कहा कि 2007 में एक चुनावी जनसभा के लिए सुषमा आईं थी. इस दौरान उन्हें सुनने का मौका मिला. मधुबाला का कहना है कि वह काफी मधुरभाषी थी.

हिमाचल के सीएम, राज्यपाल, स्वास्थ्य मंत्री ने जताया शोक
हिमाचल के सीएम जयराम ठाकुर, राज्यपाल कलराज मिश्र, स्वास्थ्य मंत्री विपिन सिंह परमार सहित भाजपा के अध्यक्ष सत्ती ने उनके निधन पर दुख जताया है. स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि भाजपा ने एक होनहार नेता खो दिया है.

ये भी पढ़ें: हिमाचल के CM जयराम बोले-सुषमा स्वराज का निधन अत्यंत दुखदायी
First published: August 7, 2019, 12:00 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...