चमत्कारी ज्योतियों के रूप में साक्षात दर्शन देती हैं मां ज्वाला देवी, पांडव भी आ चुके हैं यहां...

हिमाचल प्रदेश के इस सुप्रसिद्ध शक्तिपीठ में मां चमत्कारी ज्योतियों के रूप में भक्तों को साक्षात दर्शन देती हैं. बता दें कि मंदिर के गर्भगृह में 7 अखंड ज्योतियां विराजमान हैं

News18 Himachal Pradesh
Updated: July 9, 2019, 12:34 PM IST
चमत्कारी ज्योतियों के रूप में साक्षात दर्शन देती हैं मां ज्वाला देवी, पांडव भी आ चुके हैं यहां...
चमत्कारी ज्योतियों के रूप में साक्षात दर्शन देती हैं मां ज्वाला देवी, पांडव भी आ चुके हैं यहां...
News18 Himachal Pradesh
Updated: July 9, 2019, 12:34 PM IST
हिमाचल प्रदेश के देहरा (कांगड़ा) में विश्व प्रसिद्ध शक्तिपीठ श्री ज्वालामुखी मंदिर में मंगलवार की रात परंपरानुसार मां ज्वाला के 'प्रकटोत्सव' के रूप में मनाया जाएगा. हिमाचल प्रदेश के इस सुप्रसिद्ध शक्तिपीठ में मां चमत्कारी ज्योतियों के रूप में भक्तों को साक्षात दर्शन देती हैं. बता दें कि मंदिर के गर्भगृह में 7 अखंड ज्योतियां विराजमान हैं, जिन्हे अलग-अलग नामों से पुकारा जाता है.

7 चमत्कारी ज्योतियों से भक्तों को मां देती हैं साक्षात दर्शन 

ज्योतियों में सर्वप्रथम मां ज्वाला महाकाली का नाम है. इनके बाद मां चंडी, हिंगलाज, विंध्यवासिनी, अन्नपूर्णा, महालक्ष्मी और महासरस्वती के रूप में मंदिर में यह ज्योतियां साक्षात भक्तों को दर्शन देती हैं. 51 शक्तिपीठों में मां ज्वाला को सर्वोपरि माना गया है. ऐसी मान्यता है कि मां ज्वाला इसी दिन इसी स्थान पर ज्योति रूप में प्रकट हुईं थी. बुधवार को 'प्रकटोत्सव' के मौके पर मंदिर के पुजारियों के सौजन्य से विशाल भंडारे का आयोजन किया जाएगा.

ज्वालामुखी मंदिर-jwalamukhi temple
चमत्कारी ज्योतियों के रूप में साक्षात दर्शन देती हैं मां ज्वाला देवी, पांडव भी आ चुके हैं यहां...


एक हजार क्विंटल फूलों से सजाया गया मंदिर

मंदिर को श्रद्धालुओं ने एक हजार क्विंटल फूलों से सजाया है. बुधवार को 9 दिन तक चले गुप्त नवरात्रि का भी महायज्ञ और कन्या पूजन के साथ समापन किया जाएगा. पूरे विश्व से इस आयोजन को देखने के लिए भक्तों के आने की संभावना है. इसलिए मंदिर प्रशासन ने श्रद्धालुओं को सुविधापूर्वक दर्शन के लिए बेहतर इंतजाम कर रखे हैं. श्रद्धालुओं को मां के दर्शन के लिए परिक्रमा मार्ग से भेजा जाएगा.

पुजारी महासभा प्रधान प्रशांत शर्मा और मंदिर ट्रस्ट प्रधान कृष्ण स्वरुप ने बताया कि बुधवार को मंदिर में श्रद्धालुओं को मंदिर न्यास की ओर से 300 किलो देसी घी के हलवे का प्रसाद बांटा जाएगा. इस प्रसाद को पूरे शहरवासियों में भी बंटवाया जाएगा. वहीं मंदिर के अधिकारी जगदीश शर्मा ने भी तैयारीयां पूरी होने की बात कही है.
Loading...

temple-मंदिर
एक हजार क्विंटल फूलों से सजाया गया मंदिर


मां ज्वाला का इतिहास 

कांगड़ा घाटी में स्थित श्री ज्वालामुखी शक्तिपीठ की मान्यता 51 शक्तिपीठों में सर्वोपरि है. इन पीठों में यही एक ऐसा शक्तिपीठ है जहां मां के दर्शन साक्षात ज्योतियों के रूप में होते हैं. शिव महापुराण में भी इस शक्तिपीठ का वर्णन है. जब भगवान शिव माता सती को पूरा ब्रह्मांड घूमाने लगे, तब सती की जिव्हा इस स्थान पर गिरी थी. इससे यहां ज्वाला ज्योति रूप में यहां दर्शन देती हैं.

सबसे पहले ग्वालों को हुए इस ज्योति के दर्शन

एक अन्य दंत कथा के अनुसार जब माता ज्वाला प्रकट हुईं, तब ग्वालों की एक टोली को सबसे पहले पहाड़ी पर ज्योति के दिव्य दर्शन हुए. बता दें कि राजा भूमि चंद्र ने यहां मंदिर का भवन बनवाया था. यह भी धारणा है कि पांडव ज्वालामुखी में आए थे. कांगड़ा का एक प्रचलित भजन भी इस का गवाह बनता है- "पंजा पंजा पांडवां मैया तेरा भवन बनाया, अर्जुन चंवर झुलाया मेरी माता."

अकबर भी हुआ था मां ज्वाला का मुरीद 

शक्तिपीठ-Shaktipeeth
अकबर भी हुआ था मां ज्वाला का मुरीद


राजा अकबर भी मां ज्वाला की परीक्षा लेने के लिए मां के दरबार में पहुंचा था. उसने ज्योतियों को बुझाने के लिए अकबर नहर का निर्माण करवाया था, लेकिन मां के चमत्कार से ज्योतियां नहीं बुझ पाई. तब राजा अकबर एक अन्य प्रचलित भेंट के अनुसार नंगे पैरों माता के दरबार आया. राजा अकबर को अहंकार हुआ था कि उसने सवा मन सोने का छत्र हिंदू मंदिर में चढ़ाया था. मां ज्वाला ने इस छत्र को अस्वीकार कर खंडित कर दिया था. आज भी दर्शनार्थ अकबर का छत्र मंदिर में मौजूद है.

ज्वालाजी मंदिर मंडप शैली निर्मित है 

मुख्य मंदिर के बाहरी छत्र पर सोने का पॉलिश चढ़ाया गया है. इसे महाराजा रणजीत सिंह ने अपने शासनकाल में चढ़वाया था. उनके पौत्र कुंवर नौनिहाल सिंह ने मंदिर के मुख्य दरवाजों पर चांदी के पतरे चढ़वाऐ थे, जो आज भी दर्शनीय हैं.

(बर्जेश्वर साकी की रिपोर्ट)

ये भी पढ़ें:- आयुष्मान कार्ड से इलाज नहीं, IGMC से मिला 3 लाख का एस्टिमेट 

ये भी पढ़ें:- हिमाचल में प्रशासनिक फेरबदल, 4 SP समेत 11 पुलिस अफसर बदले
First published: July 9, 2019, 12:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...