Home /News /himachal-pradesh /

अद्भुत है इस मंदिर का रहस्य, पाताल में धंस रहा है शिवलिंग

अद्भुत है इस मंदिर का रहस्य, पाताल में धंस रहा है शिवलिंग

देहरा में कालीनाथ कालेश्वर महादेव के रूप में विद्यमान हैं.

देहरा में कालीनाथ कालेश्वर महादेव के रूप में विद्यमान हैं.

देहरा में बह रही व्यास नदी के तट पर स्थित कालीनाथ महाकालेश्वर महादेव का मंदिर धार्मिक आस्था का पवित्र तीर्थ स्थान है. इस मंदिर में वास्तु कला से निर्मित शंकर महादेव की पिंडी भू-गर्भ में स्थित है.

    देवभूमि हिमाचल में कांगड़ा के एक धार्मिक स्थल उपमंडल देहरा में कालीनाथ कालेश्वर महादेव के रूप में विद्यमान हैं. देहरा में बह रही व्यास नदी के तट पर स्थित कालीनाथ महाकालेश्वर महादेव का मंदिर धार्मिक आस्था का पवित्र तीर्थ स्थान है. इस मंदिर में वास्तु कला से निर्मित शंकर महादेव की पिंडी भू-गर्भ में स्थित है. ऐसी मान्यता है कि मां काली ने शिव को पति रूप में पाने के लिए यहां आकर आखिरी तपस्या की थी. मां काली युद्ध के बाद शिव के मनुष्य रूपी शव को लेकर पूरी पृथ्वी में जगह जगह तपस्या करने लगी. शिव ने काली पर दया करके एक शर्त रखी-  इस भूमि में जहां राक्षसों का रक्त नहीं गिरा होगा, वहीं मैं आपको प्राप्त होउंगा.

    तब कलियुग का अंत हो जाएगा

    एक जनश्रुति के अनुसार भू-शिवलिंग प्रतिवर्ष एक जौ के दाने के बराबर पाताल में धंसता चला जा रहा है.


    देहरा में कालीनाथ कालेश्वर महादेव वही स्थान है. यहीं मां काली को शिव प्राप्त हुए थे. भू-शिवलिंग के बारे में एक जनश्रुति के अनुसार यह शिवलिंग प्रतिवर्ष एक जौ के दाने के बराबर पाताल में धंसता चला जा रहा है. बताया जाता है कि जब यह शिवलिंग पूरी तरह से धरती में समा जाएगा तो कलियुग का अंत हो जाएगा.

    इस कालीनाथ महाकालेश्वर पवित्र तीर्थ स्थल के दर्शनों के लिए बाहरी राज्यों पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, यूपी से इस स्वयं भू-शिवलिंग के दर्शन करने आते हैं.

    (ब्रजेश्वर साकी की रिपोर्ट)

    ये भी देखें - PHOTOS: शिमला के संजौली में फ्लैट में धमाका, उड़े परखच्चे

    ये भी पढ़ें - खुशखबरी! हिमाचल में स्नो लैपर्ड और तेंदुओं की संख्या बढ़ी

    Tags: Himachal pradesh news, Shiv ji

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर