• Home
  • »
  • News
  • »
  • himachal-pradesh
  • »
  • Kangra Cloud Burst: अब तक 8 शव बरामद, 382 लोगों के लिए बगली में राहत कैंप

Kangra Cloud Burst: अब तक 8 शव बरामद, 382 लोगों के लिए बगली में राहत कैंप

कांगड़ा के बोह के रुपेहड़ गांव में 9 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है.

कांगड़ा के बोह के रुपेहड़ गांव में 9 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है.

Kangra Cloud Burst: जिला मुख्यालय पर 24 घंटें आपदा कंट्रोल रूम के माध्यम से आपदा प्रबंधन तथा राहत कार्यों की निगरानी सुनिश्चित की जा रही है.

  • Share this:
    धर्मशाला. हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा (Kangra) जिले में 12 जुलाई को हुई भारी बारिश और भूस्खलन (Landslides) के कारण करेरी झील के नजदीक 49 लोगों को सुरक्षित जगह पर पहुंचाया गया है. इसके साथ ही त्रियुंड में अस्सी लोगों की जान बचाई गई है. गत दो दिन में कांगड़ा जिला में भूस्खलन तथा भारी बारिश के कारण विभिन्न जगहों पर फंसे 141 लोगों को सकुशल सुरक्षित स्थान तक पहुंचाने में कामयाबी हासिल की गई है, जबकि 11 लोगों की मौत हुई है और बोह में लापता दो लोगों, चकवन में एक लापता व्यक्ति को ढूंढने के लिए सर्च अभियान जारी है. बुधवार को एक डेढ़ साल की बच्ची का शव निकाला गया है.

    क्या बोले डीसी कांगड़ा

    डीसी कांगड़ा डा निपुण जिंदल ने बताया कि अब तक शाहपुर उपमंडल के बोह में पांच लोगों को सकुशल निकाला गया है, जबकि आठ लोगों की मौत हो चुकी है और अभी भी दो लोग लापता है. उनकी तलाश में एनडीआरएफ, होम गार्डस पुलिस की टीम ने सर्च अभियान चलाया हुआ है. इसी तरह से चकवन में मांझी खड्ड में बाढ़ की चपेट में आए एक व्यक्ति की तलाश के लिए भी अभियान जारी है. उन्होंने कहा कि करेरी झील के नजदीक फंसे 50 लोगों में से एक की मौत हुई है, जबकि 49 को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है.

    कई लोगों को बचाया

    उन्होंने बताया कि राजोल में गज खड्ड की बाढ़ की चपेट में आए चार लोगों तथा ततवानी में एक व्यक्ति को बचाया गया है. धर्मशाला उपमंडल के घेरा में भूस्खलन की चपेट में आए दो व्यक्तियों को बचाया गया है. उन्होंने बताया कि चैतडू तथा शीला में बाढ़ से प्रभावित 382 लोगों के लिए बगली में राहत कैंप लगाया गया है, जिसमें ठहरने और भोजन इत्यादि की व्यवस्था की गई है।

    राहत तथा पुनर्वास के कार्यों में तेजी के आदेश

    उपायुक्त ने कहा कि जिला में राहत तथा पुनर्वास के कार्यों में तेजी लाने के निर्देश दिए गए हैं तथा लोगों को भी खड्डों नदियों तथा नालों के पास नहीं जाने की हिदायतें दी गई हैं. उन्होंने कहा कि बोह में राहत और पुनर्वास के कार्य में प्रशासन जुटा है इसके साथ ही बारिश से अवरूद्व संपर्क मार्गों को भी खोला जा रहा है. उपायुक्त डा निपुण जिंदल ने कहा कि राजस्व अधिकारियों को बारिश से प्रभावित लोगों के लिए तत्काल प्रभाव से फौरी राहत देने के निर्देश भी दिए गए हैं, ताकि प्रभावितों को किसी भी तरह की असुविधा नहीं झेलनी पड़े. उन्होंने कहा कि जिला मुख्यालय पर 24 घंटें आपदा कंट्रोल रूम के माध्यम से आपदा प्रबंधन तथा राहत कार्यों की निगरानी सुनिश्चित की जा रही है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज