कांगड़ा प्रशासन की पड़ताल: कुलदीप ने गाय जुलाई में बेची है, Smartphone 3 महीने पहले खरीदा था
Dharamsala News in Hindi

कांगड़ा प्रशासन की पड़ताल: कुलदीप ने गाय जुलाई में बेची है, Smartphone 3 महीने पहले खरीदा था
कांगड़ा का कुलदीप अपनी पत्नी के साथ. (FILE PHOTO)

जिला कांगड़ा उपायुक्त राकेश प्रजापति से जब इस बारे बात कि गई तो उन्होंने बताया कि जो भी खबर चलाई जा रही है वह तथ्यों से बहुत दूर है. उन्होंने बताया कि उपमंडल जवालामुखी के एसडीएम और तहसीलदार इस परिवार के बारे पूरी तहकीकात कर चुके हैं.

  • Share this:
धर्मशाला. हिमाचल प्रदेश के जिला कांगड़ा (Kangra) के ज्वालामुखी विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पंचायत गुम्मर के गरीब कुलदीप कुमार (Kuldeep Kumar) इन दिनों सोशल मीडिया (Social Media) पर खूब सुर्खियां बटोर रहे हैं. वजह है सोशल मीडिया पर गाय बेचकर बच्चों की पढाई (Study) के लिए स्मार्ट फोन खरीदने की वायरल खबर.

हालांकि, हकीकत में कुलदीप कुमार के पास 2 गाय, 2 भैंस, 2 दो कटड़ियां, 1 भैंसा यानी कुल 7 पशु हैं. 7 पशुओं का मालिक कुलदीप दूध बेचकर परिवार का पालन पोषण कर रहा है. जुलाई माह में एक गाय उसने, अपने ही गांव के सुरेन्द्र मोहन को स्वेच्छा से 6 हजार में बेची थी. क्योंकि बरसात में ज्यादा पशु बांधने का उसके पास कोई भी प्रावधान नहीं है.

परिवार से कुलदीप का विवाद



कुलदीप अपने बच्चों को प्राईवेट स्कूल में शिक्षा दिला रहा है, जबकि उसके घर के नजदीक सरकारी स्कूल में निशुल्क शिक्षा सरकार दे रही है. पारिवारिक विवाद के चलते घर में ना रहकर गौशाला में अपने परिवार के रहने की व्यवस्था बना रखी है. सोशल मीडिया पर फेमस होने के बाद कुलदीप के अकाउंट में हजारों रुपए अब तक जमा हो चुके हैं.
तीन महीने पहले खरीदा था मोबाइल, जुलाई में बेची गाय

जब यह खबर सोशल मीडिया पर वायरल हुई तो स्थानीय प्रशासन ने उसकी जरूरी मदद के लिए घर का दौरा किया. साथ ही पूरी जानकारी भी जुटाई है. जांच के दौरान कई चोंकाने वाले खुलासे सामने आए हैं. इस जांच में पाया गया कि   कुलदीप कुमार ने बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई के लिए 3 महीने पहले 30 अप्रैल 2020 को मोबाइल खरीदा था, जबकि गाय उसने 10 दिन पहले ही जुलाई महीने में  6 हजार रुपए में बेची थी. जांच में ये भी पाया गया कि कुलदीप कुमार का नाम स्थानीय पंचायत ने प्रधानमंत्री आवास योजना में उसे नए मकान के निर्माण लिए नामित किया गया है.

ऐसे की गई कुलदीप के सामानों की जांच पड़ताल.
ऐसे की गई कुलदीप के सामानों की जांच पड़ताल.


क्या बोले डीसी

जिला कांगड़ा उपायुक्त राकेश प्रजापति से जब इस बारे बात कि गई तो उन्होंने बताया कि जो भी खबर चलाई जा रही है वह तथ्यों से बहुत दूर है. उन्होंने बताया कि उपमंडल जवालामुखी के एसडीएम और तहसीलदार इस परिवार के बारे पूरी तहकीकात कर चुके हैं. उन्होंने बताया यह परिवार जहाँ रह रहा है अपनी मर्जी से रह रहा है. उन्होंने बताया कि मोबाइल आन रिकॉर्ड अप्रैल महीने ख़रीदा गया है. राकेश प्रजापति ने बताया कि गाय छह हजार में बेचीं गई है. गाय बेचने के पीछे मंशा अलग ही थी. उपायुक्त ने कहा कि प्रशासन कि तरफ से पेशकश भी की गई कि जो गाय बेची है, उसे खरीदकर उस परिवार को वापिस दे देते हैं. क्योंकि गाय को बेचने के पीछे कारण कोई और था, इसलिए उस परिवार ने गाय को वापिस लेने से भी मना कर दिया. उन्होंने कहा जो मीडिया और सोशल मीडिया में खबर दिखाई जा रही है, वो तथ्यों से कोसों दूर हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading