होम /न्यूज /हिमाचल प्रदेश /

Manimahesh Yatra: मणिमेहश यात्रा के दौरान शूटिंग स्टोन्स की चपेट में आई मां-बेटी की मौत, 2 घायल

Manimahesh Yatra: मणिमेहश यात्रा के दौरान शूटिंग स्टोन्स की चपेट में आई मां-बेटी की मौत, 2 घायल

हिमाचल प्रदेश के चंबा जिले में मणिमहेश यात्रा के दौरान मां और बेटी की मौत हुई है

हिमाचल प्रदेश के चंबा जिले में मणिमहेश यात्रा के दौरान मां और बेटी की मौत हुई है

Manimahesh Yatra: चंबा पुलिस प्रशासन की ओर से अब प्रंघाला नाला के पास मार्ग छतिग्रस्त होने की वजह से, श्रद्धालुओं की सुरक्षा को मद्देनज़र रखते हुए भरमौर और हड़सर के बीच रात्रि 7:00 से सुबह 5:30 तक किसी भी प्रकार के वाहन अथवा पैदल यात्रा पर रोक लगा दी गई है.

अधिक पढ़ें ...

धर्मशाला. हिमाचल प्रदेश के चंबा जिले में मणिमहेश यात्रा के दौरान मां और बेटी की मौत हुई है, जबकि दो अन्य लोग घायल हुए हैं. दरअसल, बुधवार को हड़सर-दुनाली मार्ग पर शूटिंग स्टोन्स की चपेट में आने से मणिमहेश यात्रा पर जा रहीं मां-बेटी की मौत हो गई. मृतकों की पहचान अवंतिका (10) पुत्री गोगा राम और सोनू देवी (32) पत्नी गोगा राम निवासी लुपयाणा तहसील हारचक्कियां जिला कांगड़ा के रूप में हुई है. साथ ही साहिल शर्मा (22) पुत्र सुभाष चंद गांव सलोली मोड़ जिला ऊना और गणेश (27) पुत्र तिलक राज निवासी वार्ड-5 सुजानपुर तहसील और जिला पठानकोट घायल हुए हैं. फिलहाल, शवों को पुलिस ने कब्जे में लिया है.

घटना के बाद घायलों को हड़सर तक पैदल उठाकर पहुंचाने के बाद भरमौर अस्पताल ले जाया गया और यहां घायलों को प्राथमिक उपचार के बाद साहिल कुमार को मेडिकल कॉलेज चंबा के लिए रेफर किया गया है. भरमौर प्रशासन की ओर से मृतकों के परिजनों को 25-25 हजार की फौरी राहत प्रदान की गई.इस बार मणिमहेश यात्रा के दौरान अब तक तीन श्रद्धालुओं की मौत हो चुकी है.

परिवार पर टूटा दुखों का पहाड़
घटना में मारी गई महिला सोनू देवी वार्ड पंच थी और वह अपनी दस साल की बेटी अवंतिका के साथ जा रही थी. परिवार के मुखिया गोगा राम भी घटना के वक़्त उनके साथ थे. वहीं, कांगड़ा के लपियाणा गांव में मातम का माहौल छाया है. वार्ड पंच सोनू के निधन से समूची लपियाणा पंचायत सदमे में है और सरकार-प्रशासन से पीड़ित परिवार को राहत देने की गुहार लगाई है.

मणिमहेश यात्रा 2022 के लिए जरूरी सूचना
चंबा पुलिस प्रशासन की ओर से अब प्रंघाला नाला के पास मार्ग छतिग्रस्त होने की वजह से, श्रद्धालुओं की सुरक्षा को मद्देनज़र रखते हुए भरमौर और हड़सर के बीच रात्रि 7:00 से सुबह 5:30 तक किसी भी प्रकार के वाहन अथवा पैदल यात्रा पर रोक लगा दी गई है. चंबा पुलिस की ओर से यह जानकारी दी गई है.

Tags: Amarnath Yatra, Chamba, Himachal pradesh

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर