जानिए क्यों, देहरा का बड़ा गांव काटेगा 6 महीने काले पानी की सज़ा

हिमाचल प्रदेश में कांगड़ा जिले के देहरा के सबसे करीबी गांव के वासी आगामी 6 महीने तक काले पानी की सज़ा भुगतेंगे.

News18 Himachal Pradesh
Updated: August 3, 2019, 2:06 PM IST
News18 Himachal Pradesh
Updated: August 3, 2019, 2:06 PM IST
हिमाचल प्रदेश में कांगड़ा जिले के देहरा के सबसे करीबी गांव के वासी आगामी 6 महीने तक काले पानी की सज़ा भुगतेंगे. ब्यास नदी के किनारे बसे गांव बड़ा गोपीपुर के लोग अब 6 महीने देहरा से कटे रहेंगे. इस गांव से देहरा शहर के लिए जाने वाला रास्ता पौंग झील का जलस्तर बढ़ने से बह जाता है. गांव से एक अन्य मार्ग नारद खड्ड से होकर गुजरता है, वहां पुल नहीं होने के चलते गांव के लोगों को मुश्किलें पेश आनी वाली है. जान जोखिम में डालकर लोग और उनके बच्चे या तो उफनती नदी में नाव से पार पा पाते हैं. खास कर बरसात के दिनों में ये इलाका खड्डों और ब्यास नदी के जलस्तर में घिर कर रह जाता है.

'हमें सभी सरकारों ने ठगा है, 35 वर्षों से नहीं बनाया पुल'

flood-बाढ़
इस गांव से देहरा शहर के लिए जाने वाला रास्ता पौंग झील का जलस्तर बढ़ने से बह जाता है.


ग्रामीणों ने कहा कि हमारा भरोसा सरकार के सभी प्रतिनिधियों से उठ गया है. उन्होंने कहा कि 35 वर्षों से हमें सभी सरकारों ने पुल व सड़क बनाने के नाम पर सिर्फ ठगा है. यहां मौके पर पहुंचे भाजयुमो जिला अध्यक्ष नितिन ठाकुर ने भी ग्रामीणों की समस्या को मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के समक्ष उठाने का आश्वासन दिया है.

हम जल्द ही पूरा करेंगे मांग: होशियार सिंह, विधायक, देहरा

वहीं देहरा के विधायक होशियार सिंह ने कहा कि ग्राम पंचायत बड़ा के लोगों की वर्षों की मांग पूरी होने जा रही है. उन्होंने कहा कि नारद खड्ड पर बनने वाले पुल की मंजूरी मिल गई है. इसके लिए 50 लाख रुपये की मंजूरी भी मिल गई है और जल्द ही पीडब्ल्यूडी इसका टेंडर करने जा रहा है.

ग्रामीणों ने दी आंदोलन की चेतावनी
Loading...

आने वाले समय में वह अब नेताओं के झांसे में नहीं आएंगे, जो काम करेगा उसे ही वोट डालेंगे. इसके साथ ही ग्रामीणों ने कहा कि अभी तो चुनाव में बहुत समय है, इसलिए वह खुद ही प्रशासन व सरकार से इस कार्य को करवाने का बीड़ा उठाएंगे. उन्होंने कहा कि वह मीडिया के माध्यम से सरकार तक अपनी समस्या पहुंचा रहे हैं और समय रहते सरकार ने अगर उनकी समस्या का समाधान नहीं किया तो मजबूरन उन्हें आंदोलन करना पड़ेगा.

बच्चों को स्कूल आने-जाने में हो रही परेशानी

इस अवसर पर रीना देवी निवासी पंचायत बड़ा ने कहा कि बरसात में पंचायत निवासियों को आने-जाने में भारी परेशानी होती है. वहीं कुछ परिवारों के सदस्य जो दिहाड़ी लगाने जाते हैं, उन्हें भी काम पर जाने में परेशानी होती है. ऐसे में उनके घर का गुजारा कैसे चलेगा. वही सपना देवी ने कहा बरसात में बाढ़ आने से पढ़ने वाले बच्चों को आने जाने में काफी परेशानी उठानी पड़ती है. उफनती खड्ड में उन्हें बच्चों के बह जाने का डर सताता रहता है.

(देहरा से ब्रजेश्वर साकी की रिपोर्ट)

यह भी पढ़ें: HRTC भर्ती: बिना टेस्ट दिए दो चालकों को मिल गई नौकरी, मंत्री ने कहा-पूरी पारदर्शिता बरती गई

VIDEO : हमीरपुर में बस और टैंपू में जोरदार टक्कर, 17 यात्री घायल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्मशाला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 3, 2019, 2:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...