नेशनल हाइवे पर प्रमुख दलों के नेताओं के होर्डिंग टंगे

Manoj Dhiman | ETV Haryana/HP
Updated: October 13, 2017, 3:00 PM IST
नेशनल हाइवे पर प्रमुख दलों के नेताओं के होर्डिंग टंगे
पेड़ पर टंगा कांग्रेस का होर्डिंग फोटो- ईटीवी
Manoj Dhiman | ETV Haryana/HP
Updated: October 13, 2017, 3:00 PM IST
कांगड़ा घाटी में पेड़ों पर कील ठोक कर होर्डिंग्स टांगें जा रहे हैं, लेकिन न तो विभाग और न ही कोई समाजसेवी संस्था इसके विरोध में कुछ बोल रहा है.

कांगड़ा घाटी के नेशनल हाइवे के किनारे दर्जनों ऐसे पेड़ हैं, जहां पर दोनों प्रमुख राजनीतिक दलों ने अपने- अपने शीर्ष पंक्ति के नेताओं के होर्डिंग्स टांगे हैं जो सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों की सरेआम अवहेलना करते नजर आ रहे हैं. इसमें कई निजी कंपनियों का प्रचार और प्रसार करने में पीछे नहीं हैं और विभाग इस पर सुस्त नजर आ रहा है.

घाटी में इन दिनों राजनीतिक दलों की हलचल बढ़ गई है और अपने चुनावी प्रचार में दोनों ही दल साम, दाम, दंड, भेद की नीति को लेकर कमर कस रहे हैं चुनावों में अपने प्रचार को लेकर ये दोनों दल सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों को भी भूल गए कि पेड़ों की जख्मी नहीं करना है, लेकिन पेड़ों पर टंगे होर्डिंग इस बात की गवाही दे रहे हैं कि इन पेड़ों को अपने चुनाव प्रचार का साधन बना लिया गया है आखिर इन दोनों दलों ने क्या सोचकर पेड़ों पर कील ठोंक कर अपनी पार्टी के होर्डिंग टांग दिए यह पता नहीं है.

एक तरफ तो सरकार ने पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ का नारा दिया है दूसरी तरफ खुद राजनीतिक दल इस नारे की धज्जियां उड़ाने में लगे हैं. पेड़ों पर कील ठोकने के बाद पेड़ धीरे-धीरे सूख रहे हैं, जिससे पर्यावरण संरक्षण के दावें भी हवा हो रहे हैं.
First published: October 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर