लाइव टीवी

पुलिस भर्ती फर्जीवाड़ा: मास्टरमाइंड का खुलासा, पुलिस, HRTC और जेल विभाग में 12 लोगों की लगवाई नौकरी
Dharamsala News in Hindi

Bichitar Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: January 17, 2020, 10:29 AM IST
पुलिस भर्ती फर्जीवाड़ा: मास्टरमाइंड का खुलासा, पुलिस, HRTC और जेल विभाग में 12 लोगों की लगवाई नौकरी
हिमाचल प्रदेश पुलिस भर्ती में फर्जीवाड़े का मुख्य आरोपी विक्रम चौधरी.

Himachal Police Recruitment: एसपी विमुक्त रंजन ने कहा कि पुलिस विभाग में फर्जीवाड़ा कर भर्ती हुए जवानों कर जांच के लिए कार्रवाई शुरू कर दी गई है.

  • Share this:
धर्मशाला. हिमाचल प्रदेश पुलिस (Himachal Pradesh Police) लिखित परीक्षा फर्जीवाड़े के तार पुरानी भर्तियों से भी जुडऩे लगे हैं. मास्टरमाइंड विक्रम चौधरी ने पुलिस पूछताछ में खुलासा किया है कि उसने पुलिस, एचआरटीसी (Hrtc) और जेल विभाग (Jail department) में 12 लोगों को फर्जीवाड़े के माध्यम से सिलेक्ट करवाया है.

मास्टर माइंड के खुलासे के बाद अब वर्ष 2012 से 2017 तक हुई भर्तियों में भर्ती हुए पुलिस जवानों के डाक्यूमेंटस वेरिफाई करने की कार्रवाई पुलिस विभाग ने शुरू कर दी है. पुलिस विभाग में फर्जीवाड़ा कर सिलेक्ट हुए लोगों पर पुलिस विभाग कानूनी कार्रवाई भी करेगा. यह बात एसपी जिला कांगड़ा (SP Kangra) विमुक्त रंजन ने कही.

यह बोले एसपी
एसपी ने कहा कि मास्टर माइंड के खुलासे के अनुसार, पुलिस विभाग में उसके माध्यम से 7 से 8 लोग भर्ती हुए हैं. 1-2 लोग एचआरटीसी में बतौर कंडक्टर और 1 व्यक्ति जेल वार्डन के पद पर उसके माध्यम से भर्ती हुआ है.

कांगड़ा के लोग हुए हैं भर्ती
उन्होंने बताया कि मास्टर माइंड ने खुद कबूला है कि उसने वर्ष 2012 से 2017 तक हुई भर्तियों में युवकों को भर्ती होने में मदद की है. मास्टर माइंड ने जो लोग बताए हैं वह सभी जिला कांगड़ा से संबंधित हैं. उन्होंने बताया कि मास्टर माइंड के अनुसार उसने 12 लोगों की जगह परीक्षा दिलाकर उन्हें विभिन्न विभागों में सिलेक्ट करवाया है.

कांगड़ा के एसपी विमुक्त रंजन.
कांगड़ा के एसपी विमुक्त रंजन.
जरूरत पड़ी तो मामला भी किया जाएगा दर्ज
एसपी विमुक्त रंजन ने कहा कि पुलिस विभाग में फर्जीवाड़ा कर भर्ती हुए जवानों कर जांच के लिए कार्रवाई शुरू कर दी गई है. डाक्यूमेंटस वेरिफाई करके जो दोषी पाए जाएंगे, उन पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी. जरूरत पड़ी तो मामला भी दर्ज किया जाएगा. उन्होंने बताया कि मास्टर माइंड का बैकग्राउंड हरियाणा का है, जबकि वह काम कांगड़ा में ही करता था.

यह है मामला
बीते साल 11 अगस्त 2019 को कांगड़ा में पुलिस भर्ती के एग्जाम के दौरान हाईटैक तरीके से नकल करने का मामला सामने आया था. एग्जाम के दौरान पुलिस ने कुछ आरोपियों को गिरफ्तार किया था, जबकि मुख्य आरोपी कई दिन से फरार था. हाल ही में उसे गिरफ्तार किया गया है. मामले में अब तक कुल 35 लोगों की गिरफ्तारी हुई है. पालमपुर के परौर परीक्षा केंद्र पर करीब साढ़े 11 हजार परीक्षार्थी पहुंचे थे. यहां पर गुप्तचर विंग ने पुलिस की मदद से दूसरे की जगह परीक्षा देने वालों को दबोचा था. 1063 पदों के लिए यह भर्ती हुई है.

ये भी पढ़ें: कश्मीर में बर्फ में फंसा फौजी दुल्हा, मंडी में दुल्हन करती रही बारात का इंतजार

हिमाचल कैबिनेट मीटिंग: शिक्षा-IPH विभाग में बंपर नौकरियां, भरे जाएंगे 2479 पद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्मशाला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 17, 2020, 10:25 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर