लाइव टीवी

राष्ट्रीय बालिका दिवस : सम्मानित हुईं समाज के उत्थान में अहम भूमिका निभाने वाली बेटियां व महिलाएं

Bichitar Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: January 24, 2020, 7:01 PM IST
राष्ट्रीय बालिका दिवस : सम्मानित हुईं समाज के उत्थान में अहम भूमिका निभाने वाली बेटियां व महिलाएं
शहरी विकास मंत्री सरवीण चौधरी ने कहा कि वर्तमान में बेटियां हर क्षेत्र में बेटों के कंधे से कंधा मिलाकर काम कर रही हैं.

शहरी विकास मंत्री सरवीण चौधरी (Sarveen Chaudhary) ने कहा कि वर्तमान में बेटियां (Daughters) हर क्षेत्र में बेटों के कंधे से कंधा मिलाकर काम कर रही हैं. ऐसे में लोगों को मानसिकता बदलते हुए बेटे और बेटी में फर्क नहीं करना चाहिए. उन्होंने कहा कि पुराने वक्त के मुकाबले महिलाओं की स्थिति में काफी सुधार हुआ है.

  • Share this:
धर्मशाला. राष्ट्रीय बालिका दिवस (National Girl's Day) के खास मौके पर धर्मशाला (Dharamshala) में आयोजित समारोह में शहरी विकास मंत्री सरवीण चौधरी (Sarveen Chaudhary) बतौर मुख्यातिथि शामिल हुई. समारोह में जिलाभर से सैकड़ों महिलाओं और बेटियों ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराई. दरअसल इस खास मौके पर उन तमाम बेटियों और महिलाओं को सम्मानित और प्रोत्साहित किया गया जो इस समाज के उत्थान के लिए हमेशा तत्पर रहती हैं. इस खास मौके पर शहरी विकास मंत्री सरवीण चौधरी ने कहा कि वर्तमान में बेटियां हर क्षेत्र में बेटों के कंधे से कंधा मिलाकर काम कर रही हैं. ऐसे में लोगों को मानसिकता बदलते हुए बेटे और बेटी में फर्क नहीं करना चाहिए. उन्होंने कहा कि पुराने वक्त के मुकाबले महिलाओं की स्थिति में काफी सुधार हुआ है.

आंगनबाड़ी और आशा वर्कर्स को प्रोत्साहित किया

कार्यक्रम में पहुंची आंगनबाड़ी और आशा वर्कर्स को भी शहरी विकास मंत्री ने प्रोत्साहित किया. सरवीण चौधरी ने कहा कि ये वो महिलाएं हैं जो हर विपरीत परिस्थितियों में भी समाज के विकास के लिए हर चुनौती से पार पाने के लिए अग्रसर रहती हैं. सरकार के ग्राणीण स्तर के हर अभियान को सफल बनाने में इन्हीं महिलाओं का अहम रोल रहता है.

बेटियों का स्कूल से ड्रॉप आउट कम हुआ

कैबिनेट मंत्री ने प्रधानमंत्री मोदी की तरफदारी करते हुए कहा कि उन्होंने 24 जनवरी को हरियाणा के पानीपत से बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का आगाज करके महिला समाज पर बहुत बड़ा परोपकार किया है. आज महिलाएं न केवल जागरूक हुई हैं बल्कि हर शहर में लिंगानुपात में भी काफी अंतर नज़र आ रहा है. बेटियों का स्कूल से ड्रॉप आउट भी कम हुआ है.

समारोह में मुख्यातिथि के तौर पर शिरकत कर रही शहरी विकास मंत्री सरवीण चौधरी ने कहा कि जिस तरह से बेटे के जन्म पर खुशी पर मनाई जाती है, उसी तरह बेटियों के जन्म पर भी खुशी मनाई जानी चाहिए.


कांगड़ा में लिंगानुपात में हुई वृद्धिसरवीण चौधरी ने कांगड़ा में गर्ल्स चाइल्ड अनुपात में हुई बढ़ोतरी पर भी खुशी जाहिर की. उन्होंने कहा कि अभियान से पहले यही अनुपात 800 के करीब था आज ये 915 हो चुका है. वहीं उन्होंने कहा कि गिरते लिंगानुपात को लेकर सरकार सख्त हुई है. जेल का प्रावधान भी है और जुर्माना भी हो सकता है. उन्होंने कहा कि जिस तरह से बेटे के जन्म पर खुशी पर मनाई जाती है, उसी तरह बेटियों के जन्म पर भी खुशी मनाई जानी चाहिए. लोगों को बेटे-बेटी में फर्क नहीं करना चाहिए. इसके लिए लोगों को अपनी मानसिकता बदलनी होगी.

ये भी पढ़ें - विपक्ष पर CM का हमला,कहा-अपनी संस्कृति से विमुख होने वालों का भला नहीं हो सकता

ये भी पढ़ें - गणतंत्र दिवस : राजपथ पर परेड करेंगे सिरमौर NCC के दो कैडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्मशाला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 24, 2020, 7:01 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर