धर्मशाला: भागसू में जलजले के बाद जागा प्रशासन, अतिक्रमण करने वालों को चेतावनी के साथ नोटिस

भागसू में अतिक्रमण करने वालों को नोटिस

Flood in Bhagsu: प्रशासन की ओर से अतिक्रमण करने वालों को एक सप्ताह तक का अल्टीमेटम दे दिया गया है. साथ ही चेतावनी भी दी है कि अब पूर्व की तरह महज़ नोटिस ही सर्व नहीं होंगे, बल्कि सख्त कार्रवाई भी अमल में लाई जाएगी. मेयर ओंकार नैहरिया ने कहा कि अब कड़े कदम उठाने ही होंगे.

  • Share this:
धर्मशाला. बीते सोमवार को हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के जिला कांगड़ा (District Kangra) के अपर धर्मशाला स्थित ग्लोबल पर्यटन स्थल (Global Tourist Place) और नगर निगम धर्मशाला के वार्ड नंबर 2 भागसू में आये जलजले के बाद अब नगर निगम धर्मशाला भी चौकन्ना हो गई है. निगम की ओर से भागसू में रह रहे उन 14 लोगों को नोटिस सर्व किया है, जिन्होंने बाढ़ ग्रसित नाले पर अतिक्रमण कर रखा है. दरअसल हाल ही में भागसू में जो जलजला आया था उसका कारण बादल फटना नहीं, बल्कि नाले पर अतिक्रमण भी बताया जा रहा है.

बता दें कि भागसू के बीचोंबीच बहने वाले नाले के अति संकीर्ण हो जाने के चलते बरसात के दिनों में उसमें आने वाले अतिरिक्त पानी की निकासी सही ढंग से न हो पाने की वजह से पानी एक जगह इक्ट्ठा हो गया. उसके बाद बाढ़ की शक्ल में वो इस कदर ओवरफ्लो हुआ कि भागसू में करोड़ों की संपत्ति का नुकसान हो गया. इस बाढ़ में बड़ी से लेकर छोटी गाड़ियों को तिनकों की मानिद पानी में बहते हुए देखा गया. गनीमत तो ये रही कि पार्किंग (Parking) के पास आकर तीन से चार गाड़ियां एक के साथ एक चिपक गई और बाढ़ उन्हें नीचे की तरफ नहीं धकेल पाई. अन्यथा इस बाढ़ में और भी ज्यादा नुकसान हो सकता था.

नहीं जागे, तो तबाह हो जाएगा भागसू
दरअसल भागसू, नगर निगम धर्मशाला के मेयर औंकार सिंह नैहरिया का अपना गृह क्षेत्र है और जब ये बाढ़ आई तो वो खुद मौके पर मौजूद थे. इस मंजर को नैहरिया ने जब अपनी आंखों से देखा तो उन्हें आभास हुआ कि भागसू में अतिक्रमण की अति हो चुकी है. अगर वक्त रहते आज लोगों को नहीं समझाया और जगाया गया तो वो दिन दूर नहीं जब समूचा भागसू जलजले की चपेट में आ जायेगा और यहां कुछ भी नहीं बचेगा.

होटल मालिकों को दिए नोटिस
ऐसे में उन्होंने अब इस नाले के साथ लगते प्रॉपर्टी के मालिकों को नाले के ऊपर डाली गई स्लैब समेत उसके साथ किये गए अतिक्रमण को यथाशीघ्र हटाने के लिये नोटिस सर्व कर दिये हैं. एक सप्ताह तक का अल्टीमेटम भी दे दिया गया है. साथ ही चेतावनी भी दी है कि अब पूर्व की तरह महज़ नोटिस ही सर्व नहीं होंगे, बल्कि सख्त कार्रवाई भी अमल में लाई जाएगी.

ओंकार नैहरिया ने कही ये बात
ओंकार नैहरिया ने कहा कि “पूर्व में जो हुआ सो हुआ मगर भविष्य में अगर ऐसी प्राकृतिक आपदाओं से बचना है तो फिर कड़े कदम तो उठाने ही होंगे, जो उनकी ओर से उठाये गये हैं. जिन पर अब आप अमल होते हुये भी देंखेंगे.”

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.