उत्तर पुस्तिका की जांच में कोताही बरतने पर तीन अध्यापक ड्यूटी से किए गए बाहर
Dharamsala News in Hindi

हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड ने बोर्ड परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं की जांच करने में कोताही बरतने वाले 3 अध्यापकों को पेपर चैकिंग की ड्यूटी से प्रतिबंधित कर दिया है.

  • Share this:
हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड ने बोर्ड परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं की जांच करने में कोताही बरतने वाले 3 अध्यापकों को पेपर चैकिंग की ड्यूटी से प्रतिबंधित कर दिया है. पेपर की जांच करने के दौरान बच्चों को अंक देने के मामले में कोताही की बढ़ती शिकायतों को देखते हुए स्कूल शिक्षा बोर्ड ने कड़ा रुख अपना लिया है. दरअसल बोर्ड द्वारा परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं की चैकिंग में लापरवाही बरतने वाले अध्यापकों की सूची तैयार की जा रही है और अगले कुछ दिनों में ऐसे कई अध्यापकों को पेपर चेकिंग की ड्यूटी से बाहर किया जाएगा. छात्रों के भविष्य को देखते हुए बोर्ड ने यह फैसला लिया है.

गणित के सवाल में दिए शून्य अंक

बोर्ड के सामने आए एक ऐसे ही मामले में एक अध्यापक ने गणित की उत्तर पुस्तिका की चैकिंग के दौरान एक सवाल के 3 अंक दिए, लेकिन दोबारा जांच के बाद उसने अंकों का कुल जोड़ शून्य कर दिया.




बोर्ड के सामने आए एक ऐसे ही मामले में एक अध्यापक ने गणित की उत्तर पुस्तिका की चैकिंग के दौरान एक सवाल के 3 अंक दिए, लेकिन दोबारा जांच के बाद उसने अंकों का कुल जोड़ शून्य कर दिया. इसे लेकर बाकायदा उस अध्यापक से जवाब भी मांगा जा रहा है. उक्त अध्यापक को पेपर चेकिंग की ड्यूटी से हटाकर शिक्षा विभाग को भी जांच के लिए लिखा जाएगा. लगातार अनियमितताएं बरतने वाले अध्यापकों को भविष्य में पेपर चैकिंग से हटाकर तय समय के लिए इस कार्य से प्रतिबंधित किया जाएगा.
एक पेपर की जांच के लिए 10 रुपये मिलते हैं

बता दें कि स्कूल शिक्षा बोर्ड एक पेपर चैक करने के अध्यापकों को 10 रुपए मानदेय प्रदान करता है और एक दिन में अध्यापक अधिकतम 30 पेपर चेक कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें: भारत-पाक शिमला समझौता: जब आधी रात को पत्रकार के दिए पेन से हुए साइन

EMPLOYMENT: 'यहां उद्योग लगाएंगे तो 80% हिमाचलियों को देना ही होगा रोजगार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading