लाइव टीवी

भ्रष्टाचार के 9 साल पुराने मामले में पटवारी और उसके साथी को हुई जेल
Dharamsala News in Hindi

Bichitar Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: January 4, 2020, 7:37 PM IST
भ्रष्टाचार के 9 साल पुराने मामले में पटवारी और उसके साथी को हुई जेल
अदालत ने करीब 9 साल पुराने भ्रष्टाचार के मामले में बड़ा फैसला सुनाया है.

धर्मशाला में पारस डोगर की विशेष अदालत ने करीब 9 साल पुराने भ्रष्टाचार (Corruption Case) के मामले में बड़ा फैसला (verdict) सुनाया है. अदालत ने भ्रष्टाचारी पटवारी अनिल कुमार (Anil Kumar) और उसके साथी को दोषी करार देते हुए एक-एक साल की सशक्त कैद और 35 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है.

  • Share this:
धर्मशाला. हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में पारस डोगर की विशेष अदालत ने करीब 9 साल पुराने भ्रष्टाचार  (Corruption Case) के मामले में बड़ा फैसला (verdict)  सुनाया है. अदालत ने भ्रष्टाचारी पटवारी अनिल कुमार (Anil Kumar) और उसके साथी को दोषी करार देते हुए एक-एक साल की सशक्त कैद और 35 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है. भ्रष्टाचार का यह मामला वर्ष 2010 का है. कांगड़ा के रजियाणा पटवार सर्कल में तैनात तत्कालीन पटवारी अनिल कुमार ने अशोक कुमार नाम के एक शख्स से उसकी जमीन का इंतकाल करवाने के लिए 15 हजार रुपये की डिमांड की थी. जमीन मालिक अशोक कुमार ने किसी तरह पटवारी से 3 हजार रुपये कम करवा लिए और सौदा 12 हजार में तय हो गया. इससे पहले कि अशोक कुमार पटवारी को ये रकम सौंपता उसने होशियारी के साथ इस पूरे मामले की जानकारी विजिलेंस धर्मशाला को भी दे दी.

मौके पर पहुंच गई थी विजिलेंस टीम

विजिलेंस टीम ने शिकायतकर्ता अशोक के कहने पर मौके पर पहुंच गई. शिकायतकर्ता ने तय वक्त के मुताबिक मौके पर पहुंचकर पटवारी को 12 हजार रुपये की रकम देनी चाही तो पटवारी ने साथ ही बैठे ढाबे के मालिक राकेश कुमार की ओर इशारा कर दिया. राकेश कुमार ने जब ये रकम ली तो विजिलेंस ने तुरंत उन दोनों को रंगे हाथों पकड़ लिया और भ्रष्टाचार अधिनियम कानून के मुताबिक अलग-अलग धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया.

paras dogar
इस मामले में 14 गवाहों के बयानों के आधार पर शनिवार को पारस डोगर की विशेष अदालत ने दोनों आरोपियों को दोषी करार दे दिया है.


14 गवाहों के हुए बयान दर्ज

करीब 9 साल तक अदालत में विचाराधीन इस मामले में 14 गवाहों के बयानों के आधार पर शनिवार को पारस डोगर की विशेष अदालत ने दोनों आरोपियों को दोषी करार दे दिया है. विजिलेंस की ओर से मामले की पैरवी करने वाले जिला न्यायवादी भुवनेश मन्हास ने बताया कि भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत सामने आए इस मामले की अदालत में जिरह के दौरान हर पहलुओं को तथ्यों की कसौटी पर बड़ी ही बारीकी के साथ सुना, जांचा और परखा गया है जिसके बाद अदालत ने अपना फैसला सुनाया है. दोनों दोषियों को सजा मुकर्रर हुई है. फिलहाल इन दोनों के पास हाई कोर्ट में भी जाने की पूरी आजादी है.

यह भी पढ़ें: सेब से भरे दो ट्रक में भारी मात्रा में नशीले पदार्थ ले जा रहा तस्कर गिरफ्तारफिर कर्ज की राह पर जयराम सरकार, 500 करोड़ रुपये ले रही है लोन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्मशाला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 4, 2020, 7:37 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर