यहां का पुल चार साल पहले बह गया, उफनती नदी पार करना बनी मजबूरी

News18 Himachal Pradesh
Updated: August 19, 2019, 9:43 AM IST
यहां का पुल चार साल पहले बह गया, उफनती नदी पार करना बनी मजबूरी
ज्वालामुखी विधानसभा क्षेत्र का चंगर इलाका आज भी सबसे पिछड़ा हुआ है.

ज्वालामुखी विधानसभा क्षेत्र का चंगर इलाका आज भी सबसे पिछड़ा हुआ है. यहां सरकार मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाने में असफल साबित हुई है.

  • Share this:
हिमाचल प्रदेश के ज्वालामुखी विधानसभा क्षेत्र का चंगर इलाका आज भी बहुत ही पिछड़ा हुआ है. राज्य की सरकारें यहां मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाने में असफल साबित हुई है. मूसलाधार बारिश ने चंगर क्षेत्र में इन दिनों जनजीवन प्रभावित कर रखा है. सोशल मीडिया पर आज वायरल हो रहे वीडियो में थड़ा ढढुरु गांव की जो तस्वीरें सामने आ रही हैं, उसने शासन प्रशासन की पोल खोल कर रख दी है. इस गांव को जोड़ने वाला आधार से ढढुरु पुल लगभग चार साल पहले ही पानी में बह गया था, जिसे आज तक दोबारा नहीं बनाया जा सका है. इस समय लोगों को या तो नदी पार करके जाना पड़ता है या फिर उन्हें दो किलोमीटर पहाड़ चढ़कर दूसरी तरफ जाना पड़ रहा है.

गांव को जोड़ने वाला आधार से ढढुरु पुल चार साल पहले ही पानी में बह गया था, जिसे आज तक दोबारा नहीं बनाया जा सका है. 


थड़ा बूथ पर बीजेपी को 80% वोट मिले हैं

बता दें कि थड़ा बूथ पर बीजेपी (BJP) को 80% वोट मिले हैं. इसके बावजूद इस इलाके का विकास नहीं हो पाने के चलते लोग उपेक्षित महसूस कर रहे हैं. ग्रामीण अब आंदोलन के लिए सड़क पर उतरने की तैयारी कर रहे हैं. इस गांव के दर्द को ध्यान में रखते हुए पूर्व फौजी नायक एडी शर्मा ने पूर्व कांग्रेस विधायक संजय रत्न व मौजूदा बीजेपी विधायक एवं राज्य योजना बोर्ड उपाध्यक्ष रमेश ध्वाला को आड़े हाथों लिया है.

कई दिनों से बच्चे स्कूल नहीं जा पा रहे

यहां कई दिनों से बच्चे स्कूल नहीं जा पा रहे हैं. थड़ा ढढुरु गांव के बच्चों व ग्रामीणों को जान जोखिम में डालकर नाला क्रॉस करना पड़ रहा है. इससे पहले कई सरकारें आई और कई सरकारें गईं. लेकिन इस गांव के लोगों को सिर्फ आश्वासन ही मिले. इस गांव के दर्द को पूर्व फौजी नायक एडी शर्मा ने फेसबुक पर शेयर करके उजागर किया है.

कई दिनों से बच्चे स्कूल नहीं जा पा रहे हैं. थड़ा ढढुरु गांव के बच्चों व ग्रामीणों को जान जोखिम में डालकर नाला क्रॉस करना पड़ रहा है.

Loading...

पूर्व फौजी ने सोशल मीडिया पर लिखा गांव के लोगों का दर्द

एडी शर्मा ने लिखा है कि थड़ा ढढुरु गांव के लिए सरकार नाम की कोई चीज नजर नहीं आती है. इनके लिए मानों सरकार है ही नहीं. चार साल पहले बरसात में इन के लिए जो लोहे का पुल बना था वो पानी में बह गया.  नायक ने आगे लिखा है कि इतना समर्थन देने के बाबजूद वर्तमान विधायक, सरकार या संगठन में ऊंचे ओहदों पर बैठे लोग अगर हजारों लोगों की पीड़ा नहीं समझ पा रहे हैं तो ये दुर्भाग्यपूर्ण है. उन्होंने लिखा है कि अगर सरकार है तो वह चंगर के लोगों की पीड़ा को समझे, अन्यथा रास्ता आंदोलन का ही है.

(देहरा से ब्रजेश्वर साकी की रिपोर्ट)

 ये भी पढ़ें - ओवरलोड ट्रक ने स्कूटी को मारी टक्कर, मां-बेटे की मौत

ये भी पढ़ें - हिमाचल की जानलेवा बारिश में 21 की मौत, 887 सड़कें बंद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्मशाला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 19, 2019, 9:43 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...