लाइव टीवी

फतेहपुर के जवान की अंतिम विदाई पर रोया पूरा गांव, बेटे ने दी मुखाग्नि, बेटी भारतमाता की लगाती रही जयकारे

News18 Himachal Pradesh
Updated: November 30, 2019, 2:02 PM IST
फतेहपुर के जवान की अंतिम विदाई पर रोया पूरा गांव, बेटे ने दी मुखाग्नि, बेटी भारतमाता की लगाती रही जयकारे
फतेहपुर के जवान की अंतिम विदाई पर पूरा गांव रो रहा था. उन्हें मुखाग्नि उनके बेटे ने दी.

पंजाब में हुए सड़क हादसे में काल का ग्रास बने हिमाचल के जवान (Army Man) का उनके पैतृक गांव में पूरे सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार (Last Right) किया गया. इस दौरान सेना की टुकड़ी ने उन्हें सलामी दी. जवान सूबेदार जीत पाल पांजला की चिता को उनके बेटे (Son of Soldier) ने मुखाग्नि दी. बेटी प्रिया रोते हुए भारत माता की जय का उद्द्घोष कर रही थी.

  • Share this:
कांगड़ा. पंजाब में हुए सड़क हादसे (Road Accident) में काल का ग्रास बने हिमाचल के जवान (Armyman) का शुक्रवार को उनके पैतृक गांव में पूरे सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार (Last Right) किया गया. इस दौरान सेना की टुकड़ी ने उन्हें सलामी दी. जवान सूबेदार जीत पाल पांजला की चिता को उनके बेटे ने मुखाग्नि दी. इस दौरान सैकड़ों लोगों ने सूबेदार जीत पाल पांजला की अंतिम यात्रा में हिस्सा लेकर उन्हें नम आंखों से अंतिम विदाई दी. प्रशासन की ओर से तहसीलदार फतेहपुर सुरेश शर्मा, थाना प्रभारी नूरपुर मनोहर लाल ने भी जवान की अंतिम यात्रा में भाग लिया. शहीद जवान सूबेदार जीत पाल पांजला डोगरा रेजिमेंट में थे. इससे पहले सेना की टुकड़ी दोपहर बाद करीब ढाई बजे उनके पार्थिव देह लेकर उनके घर पहुंची. इस दौरान परिवार के लोगों का रो—रोकर बुरा हाल हो रहा था. वहीं, बेटी प्रिया रोते हुए भी भारत माता की जय का उद्घोष कर रही थी।

लावारिस पशु को बचाने में सेना की एंबुलेंस ट्रक से जा टकराई थी, तीन सैनिकों की हुई मौत

बता दें कि बीते रोज पंजाब मुक्तसर के मलोट में गांव कर्मगढ़ के पास लावारिस पशु को बचाने के चक्कर में सैन्य एंबुलेंस ट्रक से जा टकराई. टक्कर लगने के बाद एंबुलेंस के परखच्चे उड़ गए और एंबुलेंस में सवार तीन जवानों की मौत हो गई. इसमें एक जवान फतेहपुर विधानसभा की पंचायत गुरियाल के गांव गारन जिला कांगड़ा के रहने वाले थे.

last right
शहीद की माता, भाई, पत्नी और एक बेटा और एक बेटी हैं.


डोगरा बटालियन में थे तैनात

एंबुलेंस की मलोट में ट्रक के साथ टकराने की वजह से मरने वाले गारन के 17 डोगरा के सूबेदार जीत पाल पांजला की पार्थिव देह शुक्रवार की दोपहर बाद लगभग 2:30 पर उनके पैतृक गांव गारन में पहुंची. सूबेदार दलजीत सिंह की अगुवाई में अबोहर की 17 डोगरा की टुकड़ी जैसे ही जीत पाल पांजला की पार्थिव देह को लेकर उनके पैतृक गांव में पहुंची, सब बिलख-बिलख कर रोने लगे. बुजर्ग माता, भाई, पत्नी अंजू बाला, बेटी प्रिया, बेटा रिशू घर आंगन में सूबेदार जीत पाल पांजला की पार्थिव देह को देखकर जोर-जोर से रोने लगे थे. वहीं बेटी प्रिया रोते हुए भारत माता की जय का उद्द्घोष कर रही थी.

सैनिकों सहित इलाके के सैंकड़ों लोग अंतिम यात्रा में हुए शामिल
Loading...

इसी बीच सेना की टुकड़ी सूबेदार जीत पाल पांजला की अंतिम विदाई के लिए उन्हें मोक्षधाम गारन ले गई. सैंकड़ो लोगों ने सूबेदार जीत पाल पांजला की अंतिम यात्रा में हिस्सा लेकर नम आंखों से उन्हें आखिरी विदाई दी. वहीं मैमून कैंट 8 डोगरा के सैनिकों ने सैन्य सम्मान के साथ सूबेदार जीत पाल पांजला को गन से सलामी दी गई. सूबेदार जीत पाल पांजला के बेटे रिशू ने अपने पापा की चिता को मुखाग्नि दी. इस मौके पर तहसीलदार फतेहपुर सुरेश शर्मा,थाना प्रभारी नूरपुर मनोहर लाल, फतेहपुर से 17 डोगरा पूर्व सैनिकों सहित क्षेत्र के सैंकड़ों लोग भी शामिल रहे.

(नूरपुर से भूषण शर्मा की रिपोर्ट)

यह भी पढ़ें: बहू को बच्चा नहीं होने पर सास, जेठानी और ननद ने मिट्टी का तेल छिड़क आग लगाई

छात्र प्रांजल का सोलर विलेज प्रोजेक्ट जंगली जानवरों से किसानों को बचाएगा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्मशाला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 30, 2019, 1:21 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...