होम /न्यूज /हिमाचल प्रदेश /

कांगड़ा में बारिश के टूटे सारे रिकॉर्ड, बरसात से अस्त-व्यस्त हुआ जनजीवन, प्रशासन ने भी दिखाई मुस्तैदी

कांगड़ा में बारिश के टूटे सारे रिकॉर्ड, बरसात से अस्त-व्यस्त हुआ जनजीवन, प्रशासन ने भी दिखाई मुस्तैदी

इतना ही नहीं धर्मशाला के बाकि के हिस्सों में भी इस बारिश ने खूब कहर बरसाया है.

इतना ही नहीं धर्मशाला के बाकि के हिस्सों में भी इस बारिश ने खूब कहर बरसाया है.

Rain Alert: गनीमत ये रही कि इस घटना में कोई हताहत नहीं हुआ. आज दिनभर हुई बारिश के मद्देनजर जिला प्रशासन ने भी अपनी मुस्तैदी बरतते हुये हर जगह अपनी टीमें तैनात कर दीं. साथ ही अपातकालीन स्थिती में 1077 टोल फ्री नंबर भी जारी कर दिया है. इस बाबत जानकारी देते हुये धर्मशाला की एसडीएम शिल्पी वेक्टा ने कहा कि भारी बारिश की वजह से धर्मशाला के अलग- अलग हिस्सों से भारी नुकसान की जानकारी उन्हें मिल रही है.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

बारिश के मद्देनजर जिला प्रशासन ने भी अपनी मुस्तैदी बरतते हुये हर जगह अपनी टीमें तैनात कर दीं.
एनडीआरएफ और भारतीय सेना के जवानों की मदद से राहत और बचाव कार्य किया.
जो सड़क बनी हुई थीं वो अलग- अलग हिस्सों में डिवाइड हो गईं.

कांगड़ा. हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिला में आज सबसे ज्यादा बारिश रिकॉर्ड की गई है. कांगड़ा में जहां 217.8 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड हुई है तो वहीं धर्मशाला में यही रिकॉर्ड 181.5 मिलीमीटर का रहा है. और बीती रात से ही हो रही इस भारी बरसात की वजह से कांगड़ा के कई क्षेत्रों में भारी नुकसान का अनुमान लगाया जा रहा है. इसी बरसात के चलते धर्मशाला-कांगड़ा-चंडीगढ़ और दिल्ली हाईवे सकोह और चैतड़ू के बीच में भू-स्खलन हुआ और मार्ग पूरी तरह से बंद हो गया था. हाईवे पर भारी मलबे के आ जाने के चलते करीब चार से पांच घंटे तक ये रोड पूरी तरह से वाहनों की आवाजाही के लिये बंद रहा.

इस दौरान जो वाहन चालक अज्ञानतावश इस मार्ग से गुजरा उन्हें दोबारा वापस धर्मशाला लौट कर दूसरे मार्ग के जरिये अपने गंत्वयों तक पहुंचना पड़ा. जब जिला प्रशासन को इस बाबत जानकारी मिली तो उन्होंने तुरंत नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया की टीम के साथ संपर्क करके इस मार्ग को तुरंत बहाल करने की अपील की. जिसके बाद भारी मशीनरी ने मौके पर पहुंचकर करीब एक घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद नेशनल हाईवे को बहाल कर दिया. ठीक इसी तरह से धर्मशाला को मैकलोड़गंज स्थित दलाईलामा टैंपल को जोड़ने वाले खड़ा डंडा रोड का भी करीब 100 मीटर तक का हिस्सा अपने निश्चित स्थान से स्लाइड होकर सीधे लोगों के रिहायशी मकानों तक पहुंच गया. और जो सड़क बनी हुई थीं वो अलग- अलग हिस्सों में डिवाइड हो गईं.

भारतीय सेना के जवानों की मदद से राहत और बचाव कार्य किया
स्थानीय लोगों ने बताया कि हालांकि उन्होंने इस बाबत पहले ही प्रशासन को इतलाह किया था कि ये रोड कभी भी बैठ सकता है. मगर न तब सुनी गई और न अब तक उनके पास कोई सुध लेने पहुंचा है. इतना ही नहीं धर्मशाला के बाकि के हिस्सों में भी इस बारिश ने खूब कहर बरसाया है. इतना ही नहीं आज सबसे ज्यादा भयावह कर देने वाली खबर कांगड़ा के थुरल विधानसभा क्षेत्र से होकर गुजरने वाली न्यूगल खड्ड से आई, जहां 8 ट्रैक्टर चालक खड्ड की जद्द में आ गये. जब ये हादसा हुआ तो स्थानीय लोगों ने तुरंत इस बात की जानकारी स्थानीय पुलिस को दी. पुलिस ने खुद के बश में स्थिती न होने के चलते इस बाबत जिला डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी को दे दी, जिन्होंने एनडीआरएफ और भारतीय सेना के जवानों की मदद से राहत और बचाव कार्य किया.

उन्होंने लोगों से सहयोग की अपील की है
गनीमत ये रही कि इस घटना में कोई हताहत नहीं हुआ. आज दिनभर हुई बारिश के मद्देनजर जिला प्रशासन ने भी अपनी मुस्तैदी बरतते हुये हर जगह अपनी टीमें तैनात कर दीं. साथ ही अपातकालीन स्थिती में 1077 टोल फ्री नंबर भी जारी कर दिया है. इस बाबत जानकारी देते हुये धर्मशाला की एसडीएम शिल्पी वेक्टा ने कहा कि भारी बारिश की वजह से धर्मशाला के अलग- अलग हिस्सों से भारी नुकसान की जानकारी उन्हें मिल रही है. जिनमें से नेशनल हाईवे का सकोह के पास ठप हो जाना शामिल था. उन्होंने कहा कि उस रोड को उन्होंने प्राथमिकता के आधार पर तुरंत बहाल कर दिया है. मगर स्थायी तौर पर अभी उसकी बहाली नहीं हो सकी है, क्योंकि वहां जमीन पूरी तरह से दलदल है और दोबारा फिर वहां भू-स्खलन की संभावना बनी हुई है. उन्होंने लोगों से सहयोग की अपील की है.

Tags: Himachal pradesh news, Kangra News, Rain, Rain alert

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर