Hamirpur News: गलवान घाटी में शहीद हुआ था 22 साल का अंकुश, CM की घोषणाएं अब तक अधूरी

शहीद अंकुश ठाकुर. (File Photo)

शहीद अंकुश ठाकुर. (File Photo)

लद्दाख के गलवान घाटी में चीन सैनिकों से हिंसक झड़प में हमीरपुर जिले के 21 साल का जवान अंकुश ठाकुर शहीद हो गए थे. अंकुश ठाकुर 2018 में सेना में भर्ती हुए थे. उनके पिता और दादा भी भारतीय सेना में सेवाएं दे चुके हैं.

  • Share this:
हमीरपुर. चीन के साथ देश की गलवान घाटी में शहादत का जाम पीने वाले हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर (Hamirpur) जिला के कडोहता गांव के 22 साल के अंकुश ठाकुर की शहीद के बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर (CM Jairam Thakur) ने कई घोषणाएं की थी. लेकिन अब तक उनकों अमलीजामा पहनाने में सरकार और प्रशासन नाकाम रहा है. इससे अब परिजनों में गहरा रोष है. शहीद अंकुश ठाकुर के पिता अनिल कुमार के साथ दर्जनों ग्रामीणों के प्रतिनिधिमंडल ने उपायुक्त हमीरपुर देव श्वेता बनिक को ज्ञापन सौंप कर जल्द घोषणाओं को पूरा करने की मांग की है.

सीएम आए थे घर

शहीद के पिता अनिल कुमार ने बताया कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने घर पर आकर घोषणाएं की थी, लेकिन शहीद के नाम पर आज तक कुछ नहीं हो सका है. उन्होंने बताया कि मेरा बेटा गलवान घाटी में शहीद हुआ था और शहादत के समय मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने श्मशानघाट के लिए पक्की सडक, शहीद के नाम पर शहीदी गेट, मनोह स्कूल का नामकरण शहीद के नाम पर करने की घोषणा की थी जिस पर कोई काम नहीं हुआ है. उन्होंने बताया कि उपायुक्त से मिलकर सरकार को ज्ञापन भेजा गया है.

डीसी दफ्तर में अंकुश के परिजन और दोस्त.

क्या घोषणाएं हुई थी

साथ ही परिजनों ने मलाल जताया कि आठ महीने बीत जाने पर भी घोषणाएं पूरी नहीं हुई हैं. दरअसल, शहादत के बाद सरकार ने ऐलान किया था कि गांव के श्मशानघाट के लिए पक्की सडक, शहीद के नाम पर शहीदी गेट, मनोह स्कूल का नामकरण शहीद के नाम पर किया जाएगा. लेकिन ऐसा नहीं हुआ है. पूर्व प्रधान वीर सिंह रणौत ने बताया कि शहीद के नाम पर घोषणाओं को पूरा नहीं किया गया है. पीडब्ल्यूडी विभाग सड़क निर्माण में देरी कर रहा है और अभी तक काम शुरू भी नहीं हो पाया है.

Youtube Video




दोस्तों में भी निराशा

शहीद अंकुश ठाकुर के बचपन के दोस्तों में राजन और शशि ने सरकार की घोषणाओं को अमलीजामा नहीं पहनाए जाने पर गहरा रोष व्यक्त किया और कहा कि इतना समय होने पर भी कोई घोषणा पूरी नहीं हुई है. क्षेत्र के साथ पीडित परिवार में भी रोष पनपा हुआ है. उन्होंने मांग करते हुए कहा कि जल्द शहीद के नाम पर की गई घोषणाओं को पूरा किया जाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज