लाइव टीवी

CAB: कांग्रेस को शरणार्थी और घुसपैठिए में फर्क समझना होगा: धूमल

Jasbir Kumar | News18 Himachal Pradesh
Updated: December 13, 2019, 11:29 AM IST
CAB: कांग्रेस को शरणार्थी और घुसपैठिए में फर्क समझना होगा: धूमल
हिमाचल प्रदेश के पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल. (FILE PHOTO)

हिमाचल के पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल ने कहा कि भारत देश में रहने वाले हमारे मुस्लिम समुदाय के लोग देश के नागरिक हैं. देशभक्त और सशक्त हैं.

  • Share this:
हमीरपुर. नागरिकता संशोधन बिल (Citizenship Amendment Bill) लोकसभा और राज्यसभा दोनों में पास हो चुका है और यह मोदी सरकार (Modi Govenment) का तीसरा ऐतिहासिक फैसला है जिसका भाजपा पार्टी पर विश्वास रख सवा सौ करोड़ जनता इंतजार कर रही थी. यह कहना है हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के पूर्व सीएम और भाजपा के सीनियर नेता प्रोफेसर प्रेम कुमार धूमल (Prem Kumar Dhumal) का.

धूमल ने एक बयान में कहा कि मोदी सरकार यह भलीभांति जानती है नागरिकता बिल देश को सुरक्षा को सशक्त बनाता है. कांग्रेस को इस बिल की अहमियत को समझना होगा कि यह बिल दूसरे देशों में रह रहे अल्पसंख्यकों के लिए है, जो उस देश में प्रताड़ित किए जा रहे हैं. पाकिस्तान में 1947 में 23% अल्पसंख्यक थे 2011 में 3.7 प्रतिशत रह गए हैं. बांग्लादेश में 22% थे, जो आज से 1.8 प्रतिशत रह गए हैं,आखिर यह लोग कहां चले गए या फिर इन्हें मार दिया गया या फिर इनसे जबरन धर्म परिवर्तन करा दिया गया है?

देश बदल रहा है. इस देश के लोग बदल रहे-धूमल
धूमल ने कहा कि पड़ोसी देशों के आंकड़ें अल्पसंख्यकों की हालत बताने के लिए काफी हैं. भारत में 9.8 प्रतिशत अल्पसंख्यक लोग थे, जो आज 14.28 प्रतिशत हो गए हैं. इससे पता चलता है कि अल्पसंख्यक कहां खुश और सशक्त हैं. कुछ अल्पसंख्यक नेताओं की राजनीति सिर्फ अल्पसंख्यक जनता को भड़का कर अपनी रोटियां सेक रहे हैं. कुछ मुट्ठी भर लोग होते हैं, जो उनकी हां में हां मिलाते हैं. लेकिन ऐसी विचारधारा के लोगों को समझना होगा कि देश बदल रहा है. इस देश के लोग बदल रहे हैं जिनकी विचारधारा देश के प्रति नहीं है. उनसे गुजारिश है कि वह अपने आप को बदलें.

कांग्रेस ने धर्म के आधार पर विभाजन को क्यों स्वीकार किया?
पूर्व मुख्यमंत्री धूमल ने कहा कि नागरिकता संशोधन बिल से भारत देश में रहने वाले किसी भी अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों का कोई लेना-देना नहीं है. वह देश के नागरिक है और हमेशा रहेंगे. कांग्रेस पार्टी को समझना होगा कि शरणार्थी और घुसपैठिए में क्या फर्क होता है. दुनिया में अगर अल्पसंख्यक अगर सबसे ज्यादा कहीं सुरक्षित है तो वह भारत देश है. अगर देश का विभाजन जिन्ना ने धर्म के आधार पर किया था तो कांग्रेस ने धर्म के आधार पर विभाजन को क्यों स्वीकार किया.

इस्लामिक देश में मुस्लिम समुदाय के लोग अल्पसंख्यक नहींकॉन्ग्रेस पार्टी व अन्य दल जो इस बिल के समर्थन में नहीं थे, उन्हें समझना होगा कि अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान इस्लामिक देश हैं. किसी भी इस्लामिक देश में मुस्लिम समुदाय के लोग अल्पसंख्यक नहीं हो सकते. यह नागरिकता बिल अल्पसंख्यक लोगों के लिए है, जो इन इस्लामिक देशों में प्रताड़ित हो रहे हैं. नागरिकता बिल किसी भी धर्म को हनन नहीं करता है. भारत देश में रहने वाले हमारे मुस्लिम समुदाय के लोग देश के नागरिक हैं. देशभक्त और सशक्त हैं.

ये भी पढ़ें: हिमाचल में बर्फबारी ने रोकी जिंदगी की रफ्तार, 3 हाईवे समेत 195 रोड बंद

शिमला में कोयले की अंगीठी की गैस से दो साल की मासूम बच्ची की मौत

सफेद चादर से ढका शिमला, भारी बर्फाबारी के कारण NH-5 हुआ बंद

'नशे को कहें न' थीम पर मनाया जाएगा रेडक्रॉस मेला,15 को राज्यपाल करेंगे शुभारंभ

मंत्री महेंद्र ठाकुर ने कहा, आउटसोर्स नियुक्तियों पर रोक लगा सकती है सरकार

OMG! हिमाचली युवक के फेफड़े में 13 साल से फंसा था पेन का ढक्कन, IGMC ने निकाला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हमीरपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 13, 2019, 11:18 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर