Home /News /himachal-pradesh /

himachal freedom fighter history to be collect by historians of hamirpur and dharamshala college hpvk

हिमाचल में आजादी के गुमनाम नायकों को खोजेंगे ये 3 इतिहासकार, 3 माह में सौंपेंगे रिपोर्ट

देशभर में स्वतंत्रता संग्राम के गुमनाम नायकों के रिकॉर्ड को सूचिबद्ध करने का दायित्व इतिहासकारों के जिम्मे आ गया है.

देशभर में स्वतंत्रता संग्राम के गुमनाम नायकों के रिकॉर्ड को सूचिबद्ध करने का दायित्व इतिहासकारों के जिम्मे आ गया है.

डॉ. राकेश कुमार शर्मा ने बताया कि हिमाचल प्रदेश का स्वतंत्रता संग्राम में अग्रणी योगदान रहा है, जिसमें इस पहाड़ी राज्य के असंख्य देशभक्तों ने देश की आजादी के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर किया है.

हमीरपुर. देशभर में स्वतंत्रता संग्राम के गुमनाम नायकों के रिकॉर्ड को सूचिबद्ध करने का दायित्व इतिहासकारों के जिम्मे आ गया है. भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय ने देश के कुछ इतिहासकारों को यह जिम्मेदारी सौंपी है, जो उन्हें तीन महीनों में पूरा करके सरकार को सौंपेंगे. हमीरपुर के नेताजी सुभाष चंद्र बोस स्मारक राजकीय महाविद्यालय के सहायक आचार्य इतिहास विभाग, डॉ. राकेश कुमार शर्मा प्रोजेक्ट के लिए काम करेंगे.

इस संदर्भ में संस्कृति मंत्रालय का पत्र भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय के विशेष कार्य अधिकारी डॉ संजय गर्ग की तरफ से जारी किया गया है. इसके अलावा, डॉ, राघवेंद्र यादव, केंद्रीय विश्वविद्यालय धर्मशाला, डॉ राकेश कुमार शर्मा, डॉ. राजकुमार, हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय क्षेत्रीय केंद्र धर्मशाला को भी जिम्मेदारी दी गई है. डॉ. राघवेंद्र यादव के साथ रिसर्च असिस्टेंट के रूप में डॉ राकेश कुमार और डॉ राजकुमार का साथ देंगे.

इन तीनों इतिहासकारों की टीम तीन महीने के अंदर हिमाचल प्रदेश के गुमनाम नायकों का रिकॉर्ड संकलित करके संस्कृति मंत्रालय को देंगे. डॉ राघवेंद्र यादव ने बताया कि आजादी के अमृत महोत्सव के तहत देशभर के स्वतंत्रता संग्राम में शामिल रहे गुमनाम नायकों का रिकॉर्ड एकत्रित कर एक जगह संस्कृति मंत्रालय के माध्यम से प्रकाशित किया जाएगा. इससे आजादी के नायकों की एक अलग पहचान बनेगी.

डॉ. राकेश कुमार शर्मा ने बताया कि हिमाचल प्रदेश का स्वतंत्रता संग्राम में अग्रणी योगदान रहा है, जिसमें इस पहाड़ी राज्य के असंख्य देशभक्तों ने देश की आजादी के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर किया है. उन्होंने बताया कि प्रदेश में ऐसे स्वतंत्रता के नायक हैं, जिनके बारे में राष्ट्रीय स्तर पर बहुत कम जानकारी उपलब्ध है. डॉ. राजकुमार ने बताया कि हिमाचल प्रदेश के सभी बारह जिलों के गुमनाम नायकों की सूची तैयार करने की योजना बनाई जा रही है. गौरतलब है कि तीनों युवा इतिहासकार हिमाचल प्रदेश के इतिहास में अच्छी जानकारी रखते हैं. ये तीनों ही इतिहास शोध संस्थान नेरी से जुड़े हुए हैं और उन्होंने इस क्षेत्र में इससे पूर्व भी कार्य किया है.

Tags: Himachal pradesh, History of India, Independence day

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर