• Home
  • »
  • News
  • »
  • himachal-pradesh
  • »
  • हिमाचल प्रदेश : पुंछ में शहीद हुए जवान का शव घुमारवीं पहुंचा तो जयघोष से गूंज उठा आसमान

हिमाचल प्रदेश : पुंछ में शहीद हुए जवान का शव घुमारवीं पहुंचा तो जयघोष से गूंज उठा आसमान

 पुंछ में शहीद हुए जवान कमल वैद्य का दाह संस्कार उनके पैतृक गांव में राजकीय और सैन्य सम्मान के साथ किया गया.

पुंछ में शहीद हुए जवान कमल वैद्य का दाह संस्कार उनके पैतृक गांव में राजकीय और सैन्य सम्मान के साथ किया गया.

शहीद जवान कमल वैद्य का दाह संस्कार उनके पैतृक गांव घुमारवीं में राजकीय और सैन्य सम्मान के साथ किया गया. बड़े भाई ने दी मुखाग्नि. इस मौके पर गांव 'भारत माता की जय' और 'शहीद कमल अमर रहे' के नारों से गूंज उठा.

  • Share this:
हमीरपुर. जम्मू-कश्मीर के पुंछ में शहीद हुए जवान कमल वैद्य का दाह संस्कार उनके पैतृक गांव में राजकीय और सैन्य सम्मान के साथ किया गया. आज सुबह हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर के एनआईटी ग्राउड में हेलिकाप्टर से कमल वैद्य का पार्थिव शरीर पहुंचा, जिसके बाद सैन्य वाहन से उनके गृह क्षेत्र भोरंज उपमंडल के ग्राम पंचायत लंगमनवी के गावं घुमारवीं लाया गया. शहीद जवान कमल वैद्य का पार्थिव शरीर जैसे ही घर पहुंचा, तो माहौल पूरी तरह गमगीन हो गया.

गमगीन हो गए घर परिवार के लोग

घर के आंगन में पार्थिक शरीर देखकर परिजन रो-रोकर बेहाल हो गए. कमल अपने पीछे माता-पिता, बड़ा भाई और दो बहनें छोड़ गए हैं. कमल की शहादत पर पिता ने गर्व महसूस किया है, तो गांववासियों ने भी शहीद को नमन किया है. इस मौके पर गांव 'भारत माता की जय' और 'शहीद कमल अमर रहे' के नारों से गूंज उठा. शहीद कमल वैद्य के भाई ने चिता को मुखग्नि दी. इस मौके पर भोरंज विधायक कमलेश कुमारी, जिला परिषद सदस्य पवन कुमार, उपायुक्त हमीरपुर और प्रशासनिक अधिकारियों ने भी शहीद के परिजनों को सांत्वना दी.

कमल को था गाने का शौक

शहीद के मामा का कहना है कि कमल के शहीद होने से पूरा परिवार गमगीन हो गया है. उन्होंने बताया कि अभी कुछ महीने बाद घर आने वाला था और शादी की तैयारियां की जा रही थीं. उन्होंने बताया कि कमल को गाने का शौक था और यूटयूब पर भी गाने गाकर अपलोड करता था.

स्कूल का नामकरण शहीद के नाम पर हो

धिरड वॉर्ड से जिला परिषद सदस्य पवन कुमार ने शहीद के घर पर जाकर परिवार को सांत्वना दी और ढांढ़स बधाया है. पवन कुमार ने कहा कि कमल वैद्य की प्रारंभिक शिक्षा लुददर महादेव स्कूल से हुई थी. उन्होंने मांग की कि सैनिक के सम्मान में इस स्कूल का नाम शहीद के नाम पर किया जाए. साथ ही ग्राम पंचायत लंगमनवी के गांव घुमारवीं की सड़क पर शहीद के नाम का गेट बनवाया, जाए ताकि आने वाले पीढ़ी उनके बलिदान को याद रख सके.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज