लाइव टीवी

बाबा बालक नाथ मंदिर में तीन करोड़ 68 लाख रु. और सोना-चांदी का रिकॉर्डतोड़ चढ़ावा

Jasbir Kumar | News18 Himachal Pradesh
Updated: April 12, 2019, 1:25 PM IST
बाबा बालक नाथ मंदिर में तीन करोड़ 68 लाख रु. और सोना-चांदी का रिकॉर्डतोड़ चढ़ावा
बाबा बालक नाथ मंदिर का एक दृश्य

सिद्वपीठ बाबा बालक नाथ मंदिर में चैत्र मास मेलों में रिकार्ड तोड़ चढ़ावा हुआ है. बाबा के दरबार में अब तक मेलों के दौरान 3 करोड़ 68 लाख के करीब चढ़ावा श्रद्वालुओं ने चढ़ाया है. इसके अलावा 177 ग्राम सोना और 2701 ग्राम चांदी भी चढ़ावे में चढ़ाए के साथ विदेशी मुद्रा भी चढ़ाई गई है

  • Share this:
हिमाचल प्रदेश के प्रसिद्व सिद्वपीठ बाबा बालक नाथ मंदिर में चैत्र मास मेलों में रिकार्ड तोड़ चढ़ावा हुआ है. बाबा के दरबार में अब तक मेलों के दौरान 3 करोड़ 68 लाख के करीब चढ़ावा श्रद्वालुओं ने चढ़ाया है. इसके अलावा 177 ग्राम सोना और 2701 ग्राम चांदी भी चढ़ावे में चढ़ाए के साथ विदेशी मुद्रा भी चढ़ाई गई है. मंदिर के अधिकारी ओपी लखनपाल के अनुसार चैत्र मास मेलों के दौरान श्रद्वालुओं के द्वारा चढ़ावे में वृद्वि हुई है और इससे बाबा के खजाने में करोड़ों की बढ़ोतरी हुई है.

ओपी लखनपाल ने बताया कि इस बार मेलों के दौरान तीन करोड़ 68 लाख के करीब चढ़ावा चढ़ाया गया है और अभी मेले 13 अप्रैल तक जारी है. उन्होंने बताया कि मेलों में हिमाचल के अलावा पंजाब, हरियाणा, चड़ीगढ़, दिल्ली के अलावा बाहरी देशों से भी 24 घंटे श्रद्वालु बाबा के दरबार में माथा टेकने के लिए पहुंच रहे है.

गौरतलब है कि बाबा बालक नाथ मंदिर दियोटसिद्व में मान्यता है कि सच्चे मन से कुछ मांगने पर बाबा कृपा करते हैं. यही वजह है कि साल भर बाबा के दरबार में श्रद्वालुओं का तांता लगा रहता है तो चैत्र मास मेलों में तो लाखो की तादाद में श्रद्वालु बाबा के दरबार में नतमस्तक होते हैं.

यह भी पढ़ें: राहुल गांधी चारों सीट पर चुनाव प्रचार कर लें, लेकिन कांग्रेस को नहीं होगा कोई लाभ: CM

सर्वणों ने दलित महिला के शव को श्मशानघाट में जलाने से रोका, नाले में हुआ अंतिम संस्कार, हंगामा

हमीरपुर सीट: कांग्रेस प्रत्याशी रामलाल ‘हार का चौका’ लगाएंगे या BJP अनुराग ठाकुर जीत का!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हमीरपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 12, 2019, 12:36 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर