पीएम मोदी से क्यों मिलना चाहते हैं पंडित नेहरू के अंगरक्षक रहे नानक चंद

नानक चंद का कहना है कि आज के समय में पंडित नेहरू को लेकर तरह तरह की टिप्पण्यिां सुनने को मिलती है, लेकिन यह सब गलत है. और वास्तव में ऐसा कुछ नहीं है. उन्होंने बताया कि जल्द ही पीएम मोदी से मिलकर पं. नेहरू के बारे में हो रही चर्चाओं पर विराम लगाने के लिए कोशिश की जाएगी.

Jagbir Singh | News18Hindi
Updated: November 14, 2017, 2:08 PM IST
Jagbir Singh | News18Hindi
Updated: November 14, 2017, 2:08 PM IST
आज बाल दिवस है. एक ओर देश अपने प्रथम प्रधानमंत्री स्व. पं. जवाहर लाल नेहरू की जयंती मना रहा है, वहीं पंडित नेहरू के अंगरक्षक नानक चंद को उनकी अनदेखी करने पर मलाल हो रहा है.

हमीरपुर के बजूरी गांव के रहने वाले 88 वर्षीय नानक चंद पं. नेहरू के वर्ष 1952 से 1955 तक तीनमूर्ति भवन में अंगरक्षक रह चुके हैं. पं. नेहरू की जयंती पर नानक चंद की आंखें भी उन्हें याद करके छलक जाती हैं.

पंडित नेहरू को भूलने की बात पर अब नानक चंद ने इसकी शिकायत जल्द ही पीएम मोदी से करने का मन बनाया है. क्योंकि नानक चंद मानते है कि पंडित नेहरू ने जो देश के लिए किया है, वह अमूल्य है.

नानक चंद का कहना है कि आज के समय में पंडित नेहरू को लेकर तरह तरह की टिप्पण्यिां सुनने को मिलती है, लेकिन यह सब गलत है. और वास्तव में ऐसा कुछ नहीं है. उन्होंने बताया कि जल्द ही पीएम मोदी से मिलकर पं. नेहरू के बारे में हो रही चर्चाओं पर विराम लगाने के लिए कोशिश की जाएगी. क्योंकि पंडित नेहरू को भूलना धर्म के खिलाफ है.

गौरतलब है कि हमीरपुर के बजूरी गांव के निवासी नानक चंद स्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के साथ अंगरक्षक के तौर पर सेवाएं दे चुके हैं. उनका कहना है कि कि पंडित नेहरू के लिए अपशब्द सुनकर उन्हें बहुत दुख पहुंचता है. जल्द ही पीएम मोदी से भी मुलाकात कर इस बारे में बात करेंगे.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर