डॉक्टर बोलीं-नहा कर आओ, तुमसे बदबू आ रही है, लोगों ने जमकर किया हंगामा

डॉक्टर का कहना है कि उसने घर पर मैड रखी है. मैंने कभी सफाई कर्मचारी से घर का काम नहीं करवाया और न ही मरीजों से दुर्व्यवहार किया है. सीमा के सारे टेस्ट नार्मले थे और बीपी भी ठीक था. मैं हर रोज समय से आती हूं.

Jasbir Kumar | News18 Himachal Pradesh
Updated: May 15, 2019, 6:02 PM IST
डॉक्टर बोलीं-नहा कर आओ, तुमसे बदबू आ रही है, लोगों ने जमकर किया हंगामा
डिस्पेंसरी के बाहर प्रदर्शन करते हुए लोग.
Jasbir Kumar | News18 Himachal Pradesh
Updated: May 15, 2019, 6:02 PM IST
चेकअप के दौरान डॉक्टर ने मरीज से कहा कि नहाकर आओ, तुमसे बदबू आ रही है. बस फिर क्या था, लोगों ने इसी बात पर हंगामा कर दिया.

मामला हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर जिले का है. यहां पर भोटा में पंचायत पांडवीं की सरकारी आयुर्वेदिक डिस्पेंसरी में तैनात डाक्टर के खिलाफ ग्रामीणों ने मोर्चा खोल दिया. लोगों का आरोप है कि महिला चिकित्सक का व्यवहार मरीजों के साथ बिलकुल भी ठीक नहीं है. यहां आने वाले मरीजों को उपचार की बजाय परेशानी झेलनी पड़ रही है. यही नहीं, इलाज करवाने से पहले मरीज को कई तरह के ताने सुनने को मिल रहे हैं.



सफाई कर्मी ने भी लगाए आरोप
महिला डाक्टर की कार्यशैली से तंग आगर ग्रामीणों ने मंगलवार को डिस्पेंसरी का घेराव कर दिया. यही नहीं, डिस्पेंसरी में तैनात सफाई कर्मचारी ने भी चिकित्सक की पोल खोली है. उसका कहना है कि डाक्टर उसे क्वार्टर में काम करने के लिए कहते हैं. जब उसने क्वार्टर पर काम करने से मना किया तो उसे हर रोज प्रताडि़त किया जा रहा है. ग्रामीणों का कहना है कि इस महिला चिकित्सक को यहां से बदला जाए, अगर इसे यहां से नहीं हटाया गया तो लोकसभा चुनावों का बहिष्कार किया जाएगा.

कार्रवाई नहीं की तो चुनाव का बहिष्कार
ग्रामीण ज्ञान चंद, प्रकाश चंद, अमरनाथ, रमेश चंद, सोमानाथ, कचन, सुनीता, राजकुमारी, सीमा देवी, कमला देवी और तुलसी ने कहा कि डॉक्टर का व्यवहार अच्छा नहीं है. अगर इसके खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई तो वह इस बार लोकसभा चुनावों का बहिष्कार करेंगे.

ग्रामीणों ने भी लगाए डाक्टर पर आरोपकंचन शर्मा का कहना है कि जब उसकी बेटी को जुकाम हुआ, तो वह डाक्टर के पास उपचार के लिए गई. डाक्टर ने कहा कि बेटी से घिन्न आ रही है. वहीं, तुलसी देवी ने कहा की उसे 103 बुखार था, तो डाक्टर ने दवाई नहीं दी. बाद में हमीरपुर में जाकर दवाई लेनी पड़ी. ग्रामीण प्रकाश चंद का कहना है कि जब वह दवाई लेने गया तो कहा कि नहाकर आओ, आपसे बदबू आ रही है.

पहले भी लगे हैं आरोप
भोटा से लगभग पांच किलोमीटर दूरी पर पांडवीं पंचायत में सरकारी आयुर्वेदिक डिस्पेंसरी है. स्थानीय ग्रामीण यहां से ही उपचार लेना सुविधाजनक समझते हैं, लेकिन यहां तैनात महिला डाक्टर का व्यवहार किसी को भी रास नहीं आ रहा. ग्रामीणों ने डाक्टर पर कई संगीन आरोप लगाए हैं. बीते सोमवार को डाक्टर ने सफाई कर्मचारी के साथ बहसबाजी की. इसके बाद सफाई कर्मचारी सीमा देवी बेहोश होकर गिर पड़ी. सीमा देवी को उपचार के लिए भोटा पीएचसी अस्पताल लाया गया. यहां से उसे मेडिकल कालेज हमीरपुर रैफर किया गया है.

डॉक्टर बोली, मैंने नहीं किया दुर्व्यवहार
डॉक्टर का कहना है कि उसने घर पर मैड रखी है. मैंने कभी सफाई कर्मचारी से घर का काम नहीं करवाया और न ही मरीजों से दुर्व्यवहार किया है. सीमा के सारे टेस्ट नार्मले थे और बीपी भी ठीक था. मैं हर रोज समय से आती हूं.

ये भी पढ़ें: PHOTOS: खज्जियार में भारी भूस्खलन, लापता चालक की तलाश जारी

इतिहास में पहली बार किसी पीएम को ‘नीच’ कहा गया: स्मृति ईरानी

सुरेश कश्यप: अपने साढ़ू का ही टिकट काटा, अब फौजी से ही जंग

आनी प्रधान के विकास कार्यों के खर्च में गड़बड़ी, सस्पेंड

हिमाचल में मौसम: रोहतांग में बर्फबारी, 4 दिन तक मौसम खराब
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार