लाइव टीवी

NIT में खुदकुशी प्रयास मामला: कांग्रेस विधायक राणा ने कहा- प्रताड़ना बंद नहीं हुआ तो सड़कों पर उतरेंगे

Jasbir Kumar | News18 Himachal Pradesh
Updated: October 13, 2019, 2:45 PM IST
NIT में खुदकुशी प्रयास मामला: कांग्रेस विधायक राणा ने कहा- प्रताड़ना बंद नहीं हुआ तो सड़कों पर उतरेंगे
कांग्रेस विधायक राजेंद्र राणा ने कहा कि सरकारी नौकरियों में बाहरी राज्यों के लोगों को तरजीह दी जा रही है.

कांग्रेस विधायक राजेंद्र राणा ने कहा कि उन्होंने एमएचआरडी मंत्री को पत्र लिख कर एनआईटी हमीरपुर में डायरेक्टर की मनमानी की शिकायत की है. उन्होंने चेताया है कि अगर कर्मचारियों को प्रताड़ित करना बंद नहीं हुआ तो सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन किया जाएगा.

  • Share this:
हमीरपुर. एनआईटी (NIT) परिसर में सफाई कर्मचारी (Sweeper) द्वारा पेट्रोल छिड़क कर आत्महत्या (Suicide Attempt) करने के प्रयास पर कांग्रेस (Congress) विधायक राजेन्द्र राणा (MLA Rajendra Rana) ने चिंता जताई है. उन्होंने एनआईटी प्रबंधन पर तानाशाही को लेकर चिंता जाहिर करते हुए संस्थान के डायरेक्टर पर सवाल दागे हैं. साथ ही प्रदेश सरकार और सांसद अनुराग ठाकुर (Anurag Thakur) को भी एनआईटी के मसले को गंभीरता से लेने की नसीहत दी है. राणा ने कहा कि उन्होंने एमएचआरडी मंत्री को पत्र लिख कर एनआईटी हमीरपुर में डायरेक्टर की मनमानी की शिकायत की है. उन्होंने चेताया है कि अगर कर्मचारियों को प्रताड़ित करना बंद नहीं हुआ तो सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन किया जाएगा.

यूपी के लोगों को नौकरी देने का आरोप

गौरतलब है कि राष्ट्रीय प्रौद्यौगिकी संस्थान हमीरपुर में गत शनिवार को एक सफाई कर्मचारी ने स्वयं पर तेल छिड़ककर आत्महत्या का प्रयास किया था. इस मामले में संस्थान प्रबंधन को लपेटते हुए सुजानपुर के कांग्रेस विधायक राजेंद्र राणा ने कहा कि ऐसा पहली दफा हो रहा है कि संस्थान में छोटे व गरीब तबके के कर्मचारी तंग व प्रताड़ित हो रहे हैं. उन्होंने कहा कि संस्थान के वर्तमान निदेशक ने पूरी हिटलरशाही फैला रखी है. उन्होंने हैरानी जताते हुए कहा कि संस्थान को जमीन से लेकर अन्य सुविधाएं हिमाचल सरकार मुहैया करवा रही है, लेकिन संस्थान में भर्तियां यूपी के लोगों की हो रही है. उन्होंने कहा कि हिमाचली युवाओं को दरकिनार किया जा रहा है.

NIT हमीरपुर में गत शनिवार को एक सफाई कर्मचारी ने स्वयं पर तेल छिड़ककर आत्महत्या का प्रयास किया था. (फाइल)


बेरोजगार युवा नाउम्मीद हो रहे हैं

राणा के अनुसार उनके स्थानीय विधायक होने के नाते लोग भी उनसे मिलकर संस्थान निदेशक की शिकायतें कर चुके हैं. उन्हें अधिकतर शिकायतें कर्मचारियों को प्रताड़ित करने व 95 प्रतिशत भर्तियां यूपी के लोगों विशेषकर यादव बिरादरी से करने की मिली है. उन्होंने कहा कि इतने बड़े स्तर पर हो रहे
गड़बड़झाला पर प्रदेश सरकार ने भी कानों में रूई डाल रखी है. उन्होंने कहा कि स्थानीय सांसद यहां पर्यटक बनकर भ्रमण करने आते हैं. उन्हें यहां की समस्याओं से कोई सरोकार ही नहीं है. उन्होंने कहा कि जिस सरकार के नाक के नीचे सचिवालय में ही बड़ी संख्या में बाहरी लोगों की भर्तियां हुई हों, उस सरकार से जनता खासकर बेरोजगार युवाओं को भी कोई उम्मीद नहीं रही है.
Loading...

राण ने कहा कि वर्तमान में प्रदेश सरकार हिमाचल के संसाधनों को बेचने की तैयारी कर रही है. सरकारी नौकरियों में बाहरी राज्यों के लोगों को तरजीह दी जा रही है. उन्होंने कहा कि ये देखते हुए लगता है कि हिमाचल का अस्तित्व खतरे में पड़ने वाला है. हिमाचल के लोगों को गुलामी के चंगुल में फंसाने की साजिश हो रही है.

ये भी पढ़ें - शिमला में बनेगा प्रदेश का पहला एल वन ट्रामा सेंटर

ये भी पढ़ें - पच्छाद उपचुनाव : विकास का दूसरा नाम बीजेपी है - पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हमीरपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 13, 2019, 2:45 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...