Home /News /himachal-pradesh /

Himachal Pradesh Exit Poll Results 2019: एचपी एग्जिट पोल, लोकसभा चुनाव में BJP का क्लीन स्वीप

Himachal Pradesh Exit Poll Results 2019: एचपी एग्जिट पोल, लोकसभा चुनाव में BJP का क्लीन स्वीप

Demo Pic.

Demo Pic.

Himachal Pradesh Exit Poll/Opinion Polls Results 2019: हिमाचल प्रदेश के एग्जिट पोल रिजल्ट आ चुके हैं. हिमाचल प्रदेश की 4 सीटों के लिए NEWS 18- IPSOS एग्जिट पोल के नतीजे सामने आए हैं. हिमाचल प्रदेश के लोकसभा चुनाव परिणाम 23 मई को आएंगे. Lok Sabha Elections Exit Polls Out.

अधिक पढ़ें ...
    Himachal Pradesh Lok Sabha Election exit poll results 2019: लोकसभा चुनाव 2019 में हिमाचल प्रदेश की 4 लोकसभा सीटों के लिए कांग्रेस और बीजेपी के बीच टक्कर है. NEWS 18-IPSOS के आंध्र प्रदेश एग्जिट पोल के नतीजों में हिमाचल प्रदेश में बीजेपी को 4 जबकि कांग्रेस को शून्य सीटें मिलती नज़र आ रही हैं.

    हिमाचल की सियासत
    देश की सियासत में बेशक हिमाचल प्रदेश की चार सीटें शायद इतना महत्व नहीं रखती हों, लेकिन पहाड़ी राज्य से पंडित नेहरू से लेकर अटल तक का खासा लगाव रहा है. हिमाचल में लोकसभा चुनाव के लिए चार सीटों में से मंडी और हमीरपुर हॉट सीट है. मंडी से भाजपा के रामस्वरूप के सामने हिमाचल की राजनीति चाणक्य पंडित सुखराम के पोते आश्रय शर्मा हैं. 2014 में मोदी लहर में जीते रामस्वरूप के लिए इस बार अपनी सीट बचाना चुनौती, क्योंकि सुखराम का मंडी में खासा प्रभाव है. इसके अलावा, हमीरपुर सीट पर पूर्व सीएम के बेटे अनुराग ठाकुर चौथी मर्तबा चुनाव लड़ रहे हैं. उनके सामने हार की हैट्रिक लगा चुके कांग्रेस के रामलाल ठाकुर हैं. अनुराग के लिए जीत इसलिए भी जरूरी है कि उनका राजनीतिक करियर चलता रहे. अगर वह हारते हैं तो उनके पिता की तरह उनके करियर पर भी ग्रहण लग सकता है. हिमाचल में 2009 लोकसभा चुनाव में भाजपा तीन सीटों पर काबिज हुई थी. जबकि 2014 में कांग्रेस राज्य से सूपड़ा (4-0) साफ हो गया था.

    हिमाचल में ये मुद्दे रहे हावी
    हिमाचल में भाजपा मोदी सरकार की उपलब्धियों पर चुनाव लड़ रही है. बुनियादी मुद्दे जैसे सड़क, नशा, सेब उत्पादन, महिलाओं की सुरक्षा और उनके खिलाफ अपराध, रोजगार के लिए पलायन और टूरिज्म पर भाजपा ने कोई बात नहीं की है. हांलाकि, कांग्रेस इन मुद्दों को कुछ हद तक उठाती रही है, लेकिन क्योंकि भाजपा मोदी को चेहरा बनाकर वोट मांग रही है तो कांग्रेस भी मोदी पर ही हमलावर है. इसके अलावा, चाहे सत्ती का बयान हो या अन्य नेताओं का, हिमाचल में नेताओं की भाषा का मुद्दा भी खासा चर्चा में रहा है.

    हिमाचल की राजनीति में जातीय समीकरण की राजनीति इतना ज्यादा महत्व नहीं रखती है. कांगड़ा सीट में गद्दी समुदाय के चार लाख और ओबीसी वर्ग से डेढ से दो लाख वोटर हैं. इस सीट पर जीत ये दोनों वर्ग ही तय करते हैं. शिमला सीट आरक्षित है. हिमाचल प्रदेश में सर्वाधित दलित वोट शिमला संसदीय क्षेत्र में ही आते हैं. 68 विधासभा वाले हिमाचल में हर सीट में 17-17 विधानसभा क्षेत्र आते हैं. 2014 लोकसभा चुनाव में हिमाचल में 64 प्रतिशत मतदान हुआ था. मंडी सीट में राजपूतों और ब्राह्मणों का दबदबा है. इसलिए यहां से दोनों कांग्रेस और भाजपा प्रत्याशी पंडित हैं. हमीरपुर में दो ठाकुरों के बीच जंग है. क्योंकि इस क्षेत्र में भी ठाकुरों की बाहुलता है.

    ऐसा है हिमाचल का परिसीमन
    हिमाचल को मुख्य रूप से दो भागों में बांटा जाता है. अपर हिमाचल और लोअर हिमाचल. अपर में शिमला, किन्नौर, लाहौल स्पीति, चंबा, सिमरमौर के कुछ क्षेत्र और कुल्लू जिला शामिल है. लोअर हिमाचल में मंडी, बिलासपुर, हमीरपुर, सोलन, ऊना शामिल हैं. हिमाचल में अक्सर राजनेताओं की ओर से विकास को लेकर आरोप लगाए जाते हैं कि ऊपरी इलाके में ज्यादा विकास हुआ, क्योंकि, ज्यादातर सीएम यहीं से आए. वीरभद्र सिंह छह बार के सीएम रहे. वह ऊपरी हिमाचल से आते हैं. इसके अलावा, यशवंत सिंह परमार, और रामलाल ठाकुर भी अपर हिमाचल से आते हैं. कांगड़ा से शांता कुमार और धूमल को सीएम बनने का गौरव मिला. सही मायने में पहली बार लोअर हिमाचल से सीएम (जयराम ठाकुर) बना है.

    कांग्रेस पर भारी भाजपा
    हिमाचल में इस बार चुनाव प्रचार में कांग्रेस पर भाजपा भारी रही है. टिकट की घोषणा की बात हो करें तो इसमें भी भाजपा आगे रही थी और उसने अपने चारों प्रत्याशियों की घोषणा अप्रैल मध्य में कर दी थी, जबकि कांग्रेस मई के शुरु तक उम्मीदवारों के नामों पर माथापच्ची करती रही. रैलियों में स्टार प्रचारकों में भाजपा ने पीएम मोदी (दो रैलियां), अमित शाह (तीन रैलियां), स्मृति ईरानी (1 रैली) और राजनाथ सिंह (1 रैली) रैलियां की. हालांकि, सीएम जयराम रैलियां करने में काफी सक्रिय रहे और उन्होंने सभी 68 विधानसभा क्षेत्रों का दौरा किया और रोजाना कम से कम तीन रैलियां की. कांग्रेस की ओर से राहुल गांधी, (दो रैलियां), नवजोत सिंह सिद्धू (दो रैलियां), राजबब्बर (1 रैली) ने रैली की. प्रियंका गांधी की दो रैलियां हिमाचल में नहीं हो पाई. हिमाचल प्रदेश मे कुल 53 लाख वोटर्स हैं, इनमें आधी आबादी महिलाओं की है.

    Tags: Exit poll, Exit Polls 2019, Himachal Pradesh Lok Sabha Elections 2019

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर