लाइव टीवी

सेब मंडियों में जाने को तैयार, नहीं पहुंचे अबतक खरीददार, रोहतांग दर्रा से ढुलाई पर संकट

News18 Himachal Pradesh
Updated: October 21, 2019, 6:52 PM IST
सेब मंडियों में जाने को तैयार, नहीं पहुंचे अबतक खरीददार, रोहतांग दर्रा से ढुलाई पर संकट
पिछले साल हुए असमय बर्फबारी के चलते सेब के पेड़ को भारी नुकसान पहुंचा

सेब के नुकसान का मुआवजा अभी भी लाहौल के ज्यादातर किसानों को नही मिला है. वहीं दूसरी ओर सेब तैयार होने के बाद अभी तक सेब के खरीददार नहीं पहुंचे हैं.

  • Share this:
केलांग. हिमाचल प्रदेश में लाहौल घाटी (Lahaul Valley) के किसानों ने अपने बलबूते पर लाहौल को सेब (Apple)  जिला बनाने की भरपूर कोशिश की है. लाहौल स्फीति घाटी के करीब 700 हेक्टयर भूमि पर सेब के पेड़ लगे हुए हैं. सेब के बगीचों का दायरा साल दर साल बढ़ रहा है. पिछले साल हुए असमय बर्फबारी के चलते सेब के पेड़ को भारी नुकसान पहुंचा था. करीब 60-70 प्रतिशत सेब के बगीचों को नुकसान पहुंचा था. वहीं एचपीएमसी (HPMC) द्वारा बर्फबारी से हुए सेब के नुकसान का मुआवजा अभी भी लाहौल के ज्यादातर किसानों को नही मिला है. वहीं दूसरी ओर सेब तैयार होने के बाद अभी तक सेब के खरीददार नहीं पहुंचे हैं.

बर्फबारी के चलते वाहनों की आवाजाही पर रोक, बागवान की चिंता बढ़ी

सेब तैयार होकर मंडियो में जाने को तैयार है, लेकिन घाटी में अभी तक सेब के खरीददार नही पहुंचे हैं. इसके चलते बागवानों के माथे पर चिंता की लकीर खींच गई हैं. बर्फबारी के चलते रोहतांग दर्रा वाहनों की आवाजाही के लिए कभी भी बंद हो सकता है.



गुलाबा बैरियर में तैनात जवानों को भी ये आदेश 

घाटी में बदलते मौसम को देखते हुए प्रशासन ने मनाली आने वाले पर्यटकों और आम जनता से आग्रह किया है कि कोई भी व्यक्ति खराब मौसम के दौरान रोहतांग दर्रे की तरफ रूख न करें. गुलाबा बैरियर में तैनात जवानों को भी ये आदेश दे दिए गये हैं कि खराब मौसम वाले दिनों में किसी भी वाहन को बैरियर से आगे जाने की अनुमति न दी जाए.

Rohtang Pass
प्रशासन ने पर्यटकों और आम जनता से आग्रह किया है कि कोई भी व्यक्ति खराब मौसम के दौरान रोहतांग दर्रे की तरफ रूख न करें.

Loading...

सेब का साइज छोटा रह गया

इस साल घाटी के किसान सेब से अच्छी आमदनी की उम्मीद कर रहे थे. कृषि विशेषज्ञ के अनुसार, हालांकि गर्मियों में पर्याप्त मात्रा में गर्मी नहीं पड़ने के कारण सेब का साइज कम रहने की बात कह रहे हैं. हालांकि इसकी गुणवत्ता व अन्य चीजों में कोई कमी नहीं आएगी.

(केलांग से प्रेम लाल की रिर्पोट)

यह भी पढ़ें: यहां कुत्ते हुए पागल, एक दर्जन से ज्यादा लोगों को काटा, पब्लिक लेने लगी जान

VIDEO: युवाओं के खून में बढ़ रहा है नशीला जहर, शिमला बनी चिट्टे की राजधानी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए केलांग से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 21, 2019, 6:14 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...