36 घंटे, चार दर्रे और 1072 किमी: HRTC की दिल्ली-लेह बस सर्विस का आगाज

दिल्ली-मनाली-लेह रूट की दूरी 1072 किलोमीटर है. एचआरटीसी की ओर से 1500 रुपये किराया तय किया गया है.

News18 Himachal Pradesh
Updated: June 20, 2019, 3:52 PM IST
36 घंटे, चार दर्रे और 1072 किमी: HRTC की दिल्ली-लेह बस सर्विस का आगाज
दिल्ली लेह बस सर्विस लाहौल के केलॉन्ग से गुरुवार को शुरू हुई है.
News18 Himachal Pradesh
Updated: June 20, 2019, 3:52 PM IST
विश्व के सबसे ऊंचे रूट दिल्ली-मनाली-लेह पर गुरुवार से हिमाचल पथ परिवहन निगम (एचआरटीसी) की बस सेवा का आगाज हो गया. गुरुवार सुबह हिमाचल के लाहौल स्पीति के जिला मुख्यालय केलॉंग से इस बस सेवा का आगाज हुआ है.

हिमाचल पथ परिवहन निगम (एचआरटीसी) के केल़ॉन्ग डिपो के मैनेजर मंगल चंद मनेपा बस और एसडीएमस केलॉन्ग ने बस को हरी झंड़ी दिखाई. केल़ॉन्ग डिपो के मैनेजर मंगल चंद मनेपा में बस सेवा शुरू होने की पुष्टि की है.

उन्होंने बताया कि एचआरटीसी की यह बस चार दर्रे पार कर 1072 किलोमीटर लंबा सफर 36 घंटों में लेह पहुंचेगी. उन्होंने बताया कि सुबह साढ़े पांच केलॉन्ग से लेह के लिए बस रवाना की गई है. इसमें 37 सवारियां थी. बस शाम पांच बजे के करीब लेह पहुंचेंगी.

दिल्ली लेह बस सेवा का शुरू हुई.(FILE PHOTO)


साल 2008 में शुरू हुई थी सेवा
जानकारी के अनुसार, देश के सबसे ऊंचे और लंबे रूट लेह-मनाली-दिल्ली पर साल मई 2008 में सबसे पहले बस सेवा शुरू हुई थी और अब बीते दस साल से हर साल यह बस सेवा लेह जाने वाले के लिए उपलब्ध रहती है.

1072 किमी का सफर 1500 रुपये किराया
Loading...

दिल्ली-मनाली-लेह रूट की दूरी 1072 किलोमीटर है. एचआरटीसी की ओर से 1500 रुपये किराया तय किया गया है. दिल्ली से लेह पहुंचने के लिए यात्रियों को 36 घंटे का समय लगेगा. केलांग के एचआरटीसी के रिजनल मैनेजर मंगल चंद मनेपा ने बताया कि पूरे सफर के दौरान तीन ड्राइवर और दो कंडक्टर बदलेंगे. केलांग में रात को बस के लिए हॉल्ट रहेगा. यहां से फिर सुबह बस चलेगी. रोहतांग समेत लाहौल की ऊंची चोटियों पर भारी बर्फबारी के चलते बीते साल 15 अक्तूबर से यह बस सेवा बंद थी.

दिल्ली से लेह का किराया 1500 रुपये है.(FILE PHOTO)


लेह हाईवे रूट पूरी तरह से बहाल
मंगल सिंह चनेपा, एचआरटीसी, आरएम केलांग, ने बताया कि बीआरओ की ओर से लेह हाईवे को बहाल कर दिया गया है. पूरा रास्ता बहाल है. बता दें कि इस बस सेवा के शुरू होने से देश-विदेश के सैलानियों को लाभ मिलेगा. एचआरटीसी की वेबसाइट पर ऑनलाइन भी बुकिंग करवाई जा सकती है.

विश्व के टॉप सबसे चार ऊंचे दरों से गुजरेगी
दिल्ली से लेह के रोमांचक सफर में यह बस और सैलानी रोहतांग पास (13050फीट), बारालाचा पास (16043 फीट) और तंगलांगला (17480फीट) और लाचूंगला पास (16598 फीट) से गुजरेंगे. इस दौरान सैलानी खतरनाक रास्तों के अलावा, प्रकृति के अदभुत नजारों का लुत्फ भी ले सकेंगे. यह बस केलांग, पटसू, जिंगजिंग बार, 21 लूप्स, व्हिस्की नाला और सूरजताल से होते हुए कई रमणीय स्थानों से गुजरेगी. लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज: आरएम केलॉंन्ग ने बताया कि दिल्ली से लेह तक चलने वाली इस बस सेवा का नाम लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज है. बता दें कि लेह रूट का हमारे देश के लिए सामरिक दृष्टि से बहुत महत्व है. कारगिल युद्ध के दौरान इस रूट का प्रयोग भारतीय सेना ने असला बारूद पहुंचाने के लिए किया था.

तंगलंग ला से गुजरती बस. (FILE PHOTO)


दिल्ली से ढाई बजे चलेगी
बता दें कि बस सेवा के दौरान तीन चालक बदेंलेंगे. यात्रियों को अपने स्तर पर खाने-पीने और सोने का प्रबंध करना होता है. दोपहर 2.30 बजे यह बस दिल्ली से लेह के लिए निकलेगी, जबकि लेह से यह बस दिल्ली के लिए सुबह पांच बजे रवाना होगी. गौरतलब है कि एचआरटीसी के नाम एशिया के सबसे ऊंचे गांव किब्बर तक बस सेवा चलाने का भी लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज है. किब्बर स्पीति के काजा में आता है.

ये भी पढ़ें: VIRAL VIDEO: परिजनों ने कॉलेज भेजा, जंगल में कर रहे थे नशा

मंडी में HRTC बस हादसे में घायल दो वर्षीय दीवांशी की मौत

कार्यसमिति की बैठक: 30 दिन में 3 लाख नए सदस्य बनाएगी ‌BJP

शहीद अनिल को विदाई, बहन बोली-खून का बदला-खून से लो

दागी कर्मी-अफसरों की सूची सौंपने के लिए HC से मांगा समय

नेताओं पर अभद्र टिप्पणी करने वालों को कांग्रेस देगी ‘सजा‘

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए केलांग से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 20, 2019, 3:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...