• Home
  • »
  • News
  • »
  • himachal-pradesh
  • »
  • Kinnaur Landslide: हादसे से एक दिन पहले ही कुदरत ने दे दी थी चेतावनी, पर न प्रशासन जागा और न पुलिस

Kinnaur Landslide: हादसे से एक दिन पहले ही कुदरत ने दे दी थी चेतावनी, पर न प्रशासन जागा और न पुलिस

टेंपो ट्रैवलर पहाड़ी से दरकी चट्टानों की चपेट में आ गई और इस हादसे में 9 पर्यटकों की मौत हो गई.

टेंपो ट्रैवलर पहाड़ी से दरकी चट्टानों की चपेट में आ गई और इस हादसे में 9 पर्यटकों की मौत हो गई.

Kinnaur Landslide News: पहाड़ों पर जमीन धंस रही हैं तो मैदानों पर पानी से हाहाकार मचा है. इस हाहाकार के बीच कुदरत के कहर की एक हैरान करने वाली तस्वीर किन्नौर से आई है. जहां चट्टान गिरी तो उसकी चपेट में आने से 9 लोगों की मौत हो गई.

  • Share this:
किन्नौर. हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले में बटसेरी के पास जिस जगह चट्टानें गिरने से छितकुल से सांगला (Chitkul to Sangla) की ओर आ रही पर्यटकों की गाड़ी भूस्खलन की चपेट में आ गई. किन्नौर में जहां ये लैंडस्लाइड हुआ (Kinnaur Landslide) वहां पर एक दिन पहले भी पहाड़ी से पत्थर गिर रहे थे. जहां एक गाड़ी चकनाचूर हो गई थी और चालक और पर्यटक ने भागकर जान बचाई थी. इसके बावजूद प्रशासन ने इस हादसे से कोई सबक नहीं लिया. किन्नौर लैंडस्लाइड के बाद भी न तो प्रशासन जागा औऱ न ही पुलिस, जिसके चलते दूसरे ही दिन उसी जगह पर हादसा हो गया और 9 पर्यटकों की जान चली गई. अगर प्रशासन इस मार्ग पर आवाजाही पर रोक लगा देता तो इन लोगों की जान बच जाती, लेकिन पत्थर हटाकर इस मार्ग को बहाल कर दिया गया.

किन्‍नौर भू-स्‍खलन (Kinnaur Landslide) में 9 लोगों के मारे जाने के बाद अब प्रशासन ने इस मार्ग से आवाजाही पर रोक लगा दी है. रोक लगने से छितकुल और रक्षम में दर्जनों पर्यटक फंस गए हैं. बता दें कि रविवार दोपहर को सांगला-छितकुल मार्ग पर बटसेरी में चट्टान गिरने से कई वाहन उसकी चपेट में आ गए. इस दुर्घटना में पर्यटकों से भरी गाड़ी पर भारी पत्थर गिर गया, जिससे उसमें सवार 9 लोगों की मौत हो गई, जबकि तीन लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं. घायलों को सीएचसी सांगला रेफर किया गया है.

ग्रामीणों ने बचाई लोगों की जान
जिस समय ये हादसा पेश आया तो यहां की बटसेरी, रक्षम, थेमगारंग और सांगला पंचायत के दर्जनों ग्रामीण और युवा घटनास्थल पर पहुंचे और रेस्क्यू ऑपरेशन में जुट गए. पुलिस, होमगार्ड, आपदा प्रबंधन और जेएसडब्ल्यू परियोजना के बचाव दल ने करीब चार घंटे तक रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया और हादसे के मृतकों और घायलों को घटनास्थल से बाहर निकालने में सफलता पाई. रेस्क्यू में जुटे ग्रामीणों ने चट्टानों के खतरे के बावजूद जान जोखिम में डालकर रेस्क्यू ऑपरेशन को सफल बनाया.

मृतकों के परिवार को मुआवजे की घोषणा
मृतकों के प्रति पीएम मोदी ने संवेदना जताई है और मृतकों के परिवार को 2-2 लाख रुपए मुआवजे की घोषणा की है. राज्य सरकार ने भी मृतकों के परिजनों के लिए 4-4 लाख रुपये मुआवजे का ऐलान किया है. साथ ही घायलों के लिए भी 50-50 हजार रुपए मुआवजा देने का ऐलान किया गया है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज