अटल टनल रोहतांग की सुरक्षा और ट्रैफिक व्यवस्था के लिए 35 जवान तैनात

गत 3 अक्टूबर को पीएम मोदी ने  अटल टनल का उद्घाटन किया
गत 3 अक्टूबर को पीएम मोदी ने अटल टनल का उद्घाटन किया

एसपी कुल्लू गौरव सिंह ने बताया कि अटल टनल (Atal Tunnel) के उद्घाटन के बाद इसकी सुरक्षा व ट्रैफिक कंट्रोल के लिए 35 जवान तैनात किये हैं. टनल के अंदर बिना कारण गाड़ी रोकने, ओवर स्पीड या ओवर टेक करने पर रोक है.

  • Share this:
कुल्लू. दस हजार फीट ऊंचाई पर 9.4 किलोमीटर अटल टनल (Atal Tunnel) के उद्घाटन के बाद इसकी सुरक्षा (Security) का जिम्मा कुल्लू पुलिस ने संभाल लिया है. टनल की सुरक्षा व ट्रैफिक कंट्रोल के लिए 35 पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है. भारत सरकार ने अटल टनल रोहतांग को 3200 करोड़ रुपये खर्च कर तैयार कराया है. गत 3 अक्तूबर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) ने इसे देश को समर्पित किया.

पुलिस ने जारी की एडवाइजरी 

कुल्लू पुलिस ने अब अटल टनल को लेकर एक एडवाइजरी जारी की है. इसके तहत टनल के अंदर बिना कारण रूकने, ओवर स्पीड, ओवर टेक करने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी. टनल के अंदर बिना कारण रूकने वालों पर पुलिस एचपी ट्रैफिक कंट्रोल एक्ट के तहत चालान काटकर कानूनी कार्रवाई करेगी.



एसपी कुल्लू गौरव सिंह ने बताया कि अटल टनल के उद्घाटन के बाद कुल्लू पुलिस ने इसकी सुरक्षा व ट्रैफिक कंट्रोल के लिए 35 जवान तैनात किये हैं. टनल के अंदर बिना कारण गाड़ी रोकने व ओवर स्पीड या ओवर टेक करना अपराध होगा. पुलिस ओवर स्पीड डिक्टेक्ट करने के लिए स्पीड डॉप्लर रडार से नजर रखी रही है.
72 घंटे में हुए तीन हादसे 

बता दें कि मनाली और लेह के बीच की दूरी 46 किमी कम करने वाले अटल टनल का निर्माण कराया गया. लेकिन तीन दिन पहले इसका उद्घाटन होते ही हादसों की खबरें आने लगी हैं. एक-दूसरे से आगे निकलने की होड़ और लापरवाही से ड्राइविंग करने के कारण पिछले 72 घंटे में टनल में तीन दुर्घटनाएं हो चुकी हैं.

बीआरओ के चीफ इंजीनियर ब्रिगेडियर केपी पुरुषोत्तम ने कहा कि उद्घाटन के बाद एक दिन में तीन हादसे हो चुके हैं. टूरिस्ट्स और वाहन चालक ट्रैफिक नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं. वो गाड़ी चलाते वक्त सेल्फी ले रहे हैं. जबकि टनल के अंदर किसी को गाड़ी खड़ी करने की इजाजत नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज