व्यास नदी का जलस्तर बढ़ने के बाद भुंतर झुग्गी झोपड़ी खाली करने के निर्देश
Kullu News in Hindi

व्यास नदी का जलस्तर बढ़ने के बाद भुंतर झुग्गी झोपड़ी खाली करने के निर्देश
भुंतर में व्यास नदी के किनारे बसी झुग्गी झोपड़ियां

व्यास नदी के बढ़ते जल स्तर को देखते हुए जिला प्रशासन ने भुंतर में रहने वाले झुग्गी झोपड़ी निवासियों को सुरक्षित स्थान पर जाने का अलर्ट दिया है. भुंतर नायब तहसीलदार ने इन झुग्गियों का दौरा कर लोगों को जान-माल के नुकसान को देखते हुए घर छोड़कर अन्यत्र स्थान पर जाने की अपील की.

  • Share this:
कुल्लू जिले में लगातार हो रही बरसात के कारण व्यास नदी के जल स्तर में बढ़ोतरी हो रही है. व्यास और पार्वती नदी के संगम स्थल पर सैंकड़ों झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले परिवारों पर लगातार हो रही बरसात से संकट मंडरा रहा है. भुंतर में इस संगम स्थल पर कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है.

व्यास नदी के बढ़ते जल स्तर को देखते हुए जिला प्रशासन ने भुंतर में रहने वाले झुग्गी झोपड़ी निवासियों को सुरक्षित स्थान पर जाने का अलर्ट दिया है. भुंतर नायब तहसीलदार ने इन झुग्गियों का दौरा कर लोगों को जान-माल के नुकसान को देखते हुए घर छोड़कर अन्यत्र स्थान पर जाने की अपील की.

प्रशासन द्वारा की जाने वाली अपील का भुंतर के लोगों पर कोई असर नहीं हो रहा है. झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले प्रवासी लोग अपने घरों को छोड़कर जाने के लिए तैयार नहीं है. भुंतर नगर पंचायत के प्रधान कर्णसिंह ने कहा कि प्रशासन की तरफ से लिखित में नगर पंचायत को दिशा निर्देश दिए गए थे कि बरसात के चलते भुंतर में झुग्गी झोपड़ी को हटाया जाए. उन्होंने कहा कि तहसीलदार द्वारा लोगों को झोपड़ी हटाने के लिए कहा गया है, लेकिन झुग्गीवासी तैयार नही है.



झुग्गी में रहने वाले मजदूरों का कहना है कि प्रशासन द्वारा इन्हें सुरक्षित स्थान दिया जाए, जिससे जान-माल का नुकसान नहीं हो. उन्होंने कहा कि हर साल बरसात के दिनों में व्यास नदी का पानी बढ़ जाता है, जिससे सभी लोग शमशान घाट के क्षेत्र में शरण लेते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज