लाइव टीवी

राधा और मीना की रोटियों में क्या खास है, जिसे खाने के बाद ये बड़े नाम हुए दीवाने

Tulsi Bharti | News18 Himachal Pradesh
Updated: October 26, 2019, 12:12 PM IST
राधा और मीना की रोटियों में क्या खास है, जिसे खाने के बाद ये बड़े नाम हुए दीवाने
हिमाचल की राधा और मीना के मक्की और कोदरे की रोटियां 30 साल से बना रही हैं.

राधा और मीना के हाथों की रोटी खाकर सदी के महानायक अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachhan), रणबीर कपूर सहित अंबानी परिवार के सभी सदस्य वाह-वाह कर चुके हैं.

  • Share this:
कुल्लू. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में कुल्लू (Kullu) जिला के ऐतिहासिक ढालपुर मैदान में लगी अस्थाई मार्केट में मक्का, कोदरे की रोटी सरसों के साग का स्वाद लेने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ रही है. यहां पर 2 दुकानदार दशहरा उत्सव पर हर साल स्टॉल लगाकर परंपरागत अनाज मक्की व कोदरे की रोटी (Maize bread) के साथ सरसों के साग, कड़ी, दाल परोसते हैं. इनकी रोटी खाने के लिए सुबह से रात तक लोगों की भीड़ उमड़ती रहती है.

हिमाचल के बिलासपुर जिले की निवासी मीना व सोहन लाल पिछले 30 वर्षों से मक्का की रोटी सरसों के साग, कड़ी, माश की दाल का स्टॉल लगाकर बेच रहे हैं. यहां दूसरे दुकानदार शिमला के रहने वाले मीना और सागर हैं. ये दोनों ही दुकानदार पिछले कई वर्षों से मक्की, कोदरे की रोटी और सरसों के साग, कड़ी, दाल के व्यंजन बेचकर खूब कमा रहे हैं.

पिछले 30 से लोगों को अपने जायके का बना रही हैं दीवाना
पिछले 30 वर्षों से राधा व सोहन लाल यह कारोबार कर रहे हैं और हिमाचल प्रदेश के विभिन्न जिलों में स्टॉल लगाकर मक्का, कोदरे की रोटी को बेचकर व्यवसाय को चला रहे हैं और वाहवाही लूट रहे हैं. हिमाचल प्रदेश में परंपरागत अनाज मक्का, कोदरा व लाल चावल विलुप्त होने की कगार पर है. ऐसे में राधा और मीना दोनों महिलाएं, मक्का की रोटी सरसों का साग कड़ी और मास की दाल जैसे हिमाचली व्यंजन बेचकर परंपरागत अनाज से तैयार खाना बेचकर वाहवाही लूट रही हैं तो दूसरी ओर ये इन अनाजों को लुप्त होने से बचाने में भी मदद कर रही हैं.



दोनों अमिताभ बच्चन सहित कई सेलिब्रेटि से पा चुकी तारीफ
खाद्य बिक्रेता सोहन लाल ने बताया कि वर्ष 1991 से रामपुर लवी के मेले से मक्की की रोटी सरसों का साग, कड़ी, माश की दाल हिमाचली व्यंजनों को बेचने का कार्य शुरू किया था. उन्होंने कहा कि वर्ष 2012 में अनिल अंबानी (Anil Ambani) सिल्वर जुबली समारोह मुंबई में स्टॉल लगाकर राधा और मीना ने सदी के महानायक अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachhan), रणबीर कपूर सहित अंबानी परिवार के सभी सदस्यों व कई नेताओं से प्रशंसा लूटी थी.
Loading...

Breads
ये दोनों ही दुकानदार पिछले कई वर्षों से मक्की, कोदरे की रोटी और सरसों के साग,कड़ी,माश की दाल के व्यंजन बेचकर चांदी कूट रहे है.


'राधा और मीना की रोटियां न सिर्फ स्वादिष्ट हैं बल्कि स्वास्थ्यप्रद भी हैं'
कुल्लू के निवासी पाल्मो ने कहा कि युवा पीढ़ी परंपरागत अनाज को पसंद नहीं करती है और यही वजह है कि अब परंपरागत अनाज से तैयार भोज्य पदार्थ हमारी थालियों से गायब होते जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि बुजुर्गों को परंपरागत अनाज खाना बेहद पसंद है और ऐसे में मक्की कोदरे की रोटी सरसों का साग जैसे स्वादिष्ट व्यंजनों से शरीर को एनर्जी मिलती है.

पाल्मो ने कहा कि यह सभी परंपरागत अनाज शुगर फ्री है और ऐसे में डॉक्टर भी इन अनाज को सेवन के लिए सलाह देते हैं. उन्होंने कहा कि मक्का, गोदरे व लाल चावल शुगर फ्री होते हैं, जिससे स्वादिष्ट भोजन व पौष्टिक आहार से स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है.

यह भी पढ़ें: ब्यास नदी में रिवर राफ्टिंग का बनेगा ​World Record, 230 Km. की दूरी तय करेंगे

कबाड़ बेचना जल निगम को पड़ सकता है महंगा, Vigilance Enquiry की मांग

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कुल्‍लू से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 23, 2019, 7:47 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...