पर्यटकों को बिना RT-PCR एंट्री देने के फैसले की रिव्यू करे हिमाचल सरकार - पर्यटन कारोबारी

RT-PCR रिपोर्ट के बगैर टूरिस्टों को एंट्री देने के फैसले से कोरोना संक्रमण के फैलने की आशंका. (फाइल फोटो)

हिमाचल प्रदेश के कारोबारियों का कहना है कि सरकार बिना आरटीपीसीआर टेस्ट के किसी भी पर्यटक को राज्य में एंट्री न दे. अपने फैसले पर पुनर्विचार करते हुए राज्य के लोगों को कोरोना संक्रमण के खतरे से बचा ले.

  • Share this:
कुल्लू. हिमाचल प्रदेश सरकार ने बिना आरटीपीसीआर टेस्ट के पर्यटकों की एंट्री के फैसले पर पर्यटन कारोबारियों ने नाराजगी जताई है. कुल्लू जिला पर्यटन कारोबारियों ने प्रदेश सरकार से इस फैसले पर फिर से विचार करने का आग्रह किया है. कारोबारियों का कहना है कि जब बिना टेस्ट के हजारों-लाखों पर्यटक प्रदेश में आएंगे तो एक बार फिर संक्रमण फैलने का खतरा बना रहेगा. समर पर्यटन सीजन तो कोरोना महामारी की भेंट चढ़ ही चुका है. अगर सरकार ने अपना नहीं बदला और आरटी-पीसीआर टेस्ट रिपोर्ट की बंदिश नहीं लगाई तो स्थिति ज्यादा भयावह हो सकती है. इससे आने विंटर पर्यटन सीजन भी तबाह हो सकता है.

पर्यटन कारोबारी नवनीत सूद ने बताया कि सरकार ने पर्यटकों के लिए सीमाएं खोल दी हैं - यह स्वागत योग्य कदम है. लेकिन बिना आरटी-पीसीआर रिपोर्ट के प्रदेश में हजारों-लाखों पर्यटक आएंगे तो फिर कोरोना संक्रमण फैल सकता है. फिर प्रदेश में लॉकडाउन के हालात पैदा होंगे. प्रदेश में इस महामारी ने अब तक 3300 लोगों की जिंदगी छीन ली है. ऐसे में सरकार को इस फैसले का रिव्यू करना चाहिए, ताकि यहां के लोगों की अनमोल जान बच सके.

जिला युवा कांग्रेस उपाध्यक्ष कुल्लू रोहित महाजन ने भी पर्यटकों के लिए सीमाएं खोले जाने के फैसले का स्वागत किया. उन्होंने कहा कि प्रदेश के 90 प्रतिशत लोगों का व्यवसाय किसी न किसी रूप में पर्यटन से जुड़ा है. लेकिन सरकार को महामारी से रोकने के उपायों को भी अपनाना चाहिए. उन्होंने कहा कि सरकार को प्रदेश में बाहरी राज्यों से आनेवाले पर्यटकों आरटी-पीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट के बाद ही एंट्री देनी चाहिए.

स्थानीय देवेंद्र गोयल ने बताया कि सरकार ने बिना आरटीपीसीआर रिपोर्ट के प्रदेश में पर्यटकों की एंट्री दी है, यह गलत फैसला है और इससे प्रदेश में संक्रमण फैलेगा. जिससे फिर से लोगों को महामारी का प्रकोप झेलना पड़ सकता है. ऐसे में सरकार को लोगों की सुरक्षा के मद्देनजर टेस्ट करवाने के बाद ही पर्यटकों को एंट्री देनी चाहिए.

स्थानीय निवासी राजेश ने बताया कि बिना आरटी-पीसीआर टेस्ट के एंट्री देने से फिर से हालात खराब होंगे. फिर पर्यटन कारोबारियों का विंटर सीजन भी चौपट हो जाएगा. ऐसे में बाहर से आनेवालों का टेस्ट अनिवार्य करना चाहिए.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.