VIDEO: मणिकर्ण घाटी के कटागला में बाढ़, लोगों ने मकान किए खाली
Kullu News in Hindi

स्थानीय लोगों की मानें तो एक वर्ष पहले बादल फटने से भारी नुकसान हुआ था, लेकिन प्रशासन ने नाले के बीच की चट्टान नहीं तोड़ी और क्रेट वॉल आरसीसी डंगे का निर्माण नहीं किया. इससे कारण ग्रामीणों को नुक्सान का डर सता रहा है.

  • Share this:
हिमाचल में बारिश तबाही लेकर आई है. कुल्लू की मणिकर्ण घाटी के कटागला में शुक्रवार सुबह सवेरे बाढ़ आने से गांव में दहशत का माहौल है. पहाड़ों पर भारी बारिश के कारण कटागला नाले में पानी के साथ भारी मलबा आया है. इस कारण गांव के लोग घर छोड़ सुरक्षित स्थानों पर भागे हैं.

डर में ग्रामीण
नाले के दोनों तरफ गांव होने के कारण लोग दहशत के साये में जी रहे हैं. कटागला गांव के पीछे नाले के बीच मे एक बड़ी चट्टान होने के कारण बाढ़ का मलबा इधर-उधर फैला है, जिसके कारण ज्यादा नुक्सान तो नहीं हुआ, लेकिन क्रेट वॉल को भारी नुक्सान पहुँचा है.

स्थानीय लोगों की मानें तो एक वर्ष पहले बादल फटने से भारी नुकसान हुआ था, लेकिन प्रशासन ने नाले के बीच की चट्टान नहीं तोड़ी और क्रेट वॉल आरसीसी डंगे का निर्माण नहीं किया. इससे कारण ग्रामीणों को नुक्सान का डर सता रहा है.
जानमाल का नुकसान नहीं


स्थानीय पटवारी दीक्षित ठाकुर ने बताया कि कटागला नाले में बाढ़ के कारण किसी तरह के जानमाल का नुकसान नहीं हुआ है और कुछ सरकारी संपत्ति को नुक्सान हुआ है, जिसमे क्रेटवाल को नुक्सान हुआ है. उन्होंने कहा नुकसान के आकंलन कर रिपोर्ट डीसी को भेजी जाएगी.

ये भी पढ़ें: किन्नौर में 3 जगह फटे बादल, पुल बहा, काजा जाने वाला NH बंद

हिमाचल में नियम बदले, अब बाहरी को आसानी से नहीं मिलेगी ज़ॉब

लैंडस्लाइड: मंडी से औट तक NH-21 बंद, ऐसे पहुंचे कुल्लू-मनाली

हिमाचल कैबिनेट मीटिंग: 1500 पद भरे जाएंगे, ये 30 फैसले हुए

मंडी में चलती जीप पर गिरी विशाल चट्टान, बाल-बाल बचे 5 लोग

कांगड़ा में छात्रा के अश्लील वीडियो केस में युवक गिरफ्तार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज