• Home
  • »
  • News
  • »
  • himachal-pradesh
  • »
  • कुल्लू में स्थापित किया जाएगा बुनकर सेवा एवं डिजाइन संसाधन केंद्र: पीयूष गोयल

कुल्लू में स्थापित किया जाएगा बुनकर सेवा एवं डिजाइन संसाधन केंद्र: पीयूष गोयल

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने इस कार्यक्रम की अध्यक्षता की.  (फाइल फोटो)

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने इस कार्यक्रम की अध्यक्षता की. (फाइल फोटो)

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल (Union Minister Piyush Goyal) ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में हस्तशिल्प और कारीगरों के कौशल उन्नयन तथा आधुनिक उपकरणों की अपार संभावनाएं हैं. इसके लिए बुनकर सेवा केंद्र में गुणात्मक नए डिजाइन तैयार करने के लिए कारीगरों को प्रशिक्षण दिया जाएगा.

  • Share this:

    शिमला. केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल (Union Minister Piyush Goyal) ने रविवार को कहा कि हिमाचल प्रदेश के कुल्लू (Kullu) में एक बुनकर सेवा एवं डिजाइन संसाधन केंद्र (Weaver Services & Design Resource Center) स्थापित किया जाएगा, ताकि अंतरराष्ट्रीय बाजार में निर्यात के लिए हस्तशिल्प उत्पादों को एक बेहतर मंच प्रदान किया जा सके. केंद्रीय वाणिज्य, उद्योग एवं कपड़ा मंत्री पीयूष गोयल ने हिमाचल प्रदेश को राज्य का दर्जा मिलने के स्वर्ण जयंती समारोह के अवसर पर कुल्लू में सेवा और समर्पण अभियान के तहत हस्तशिल्प और हथकरघा कारीगरों के साथ बातचीत के दौरान यह बात कही. हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने इस कार्यक्रम की अध्यक्षता की.

    गोयल ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में हस्तशिल्प और कारीगरों के कौशल उन्नयन तथा आधुनिक उपकरणों की अपार संभावनाएं हैं. इसके लिए बुनकर सेवा केंद्र में गुणात्मक नए डिजाइन तैयार करने के लिए कारीगरों को प्रशिक्षण दिया जाएगा. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि डिजाइन, गुणवत्ता, पैकेजिंग और मार्केटिंग के आधुनिकीकरण पर अधिक ध्यान देने की जरूरत है ताकि बुनकरों को अंतरराष्ट्रीय बाजार में अपने उत्पादों की बेहतर कीमत मिल सके.

     आजीविका बुनाई और कढ़ाई के कौशल से संबंधित है
    उन्होंने बड़े शहरों, कपड़ा उद्योग से जुड़े लोगों और फाइव स्टार होटलों में इन उत्पादों की जिलेवार प्रदर्शनियां आयोजित करने का सुझाव दिया ताकि राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इनकी ब्रांडिंग की जा सके. गोयल ने जिले के उद्यमियों के साथ बातचीत की और स्थानीय हस्तशिल्प तथा हथकरघा कारीगरों को लकड़ी के शिल्प, हथकरघा, कढ़ाई मशीन और प्रमाण पत्र वितरित किए. मुख्यमंत्री ठाकुर ने कहा कि राज्य के शिल्पकारों को प्रोत्साहित करने के लिए आवश्यक कदम उठाए गए हैं. वर्तमान में राज्य में 13,572 पंजीकृत बुनकर हैं जिनकी आजीविका बुनाई और कढ़ाई के कौशल से संबंधित है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज