अपना शहर चुनें

States

HRTC बस कंडक्टर ने दिव्यांग के मुंह पर मारा बस पास, कहा- 50 रु. दे तो ले जाऊंगा

दिव्यांग प्रदीप कुमार ने आरोप लगाया कि उन्हें भरी बस में जलील करने के बाद कंडेक्टर ने उतार दिया.
दिव्यांग प्रदीप कुमार ने आरोप लगाया कि उन्हें भरी बस में जलील करने के बाद कंडेक्टर ने उतार दिया.

कुल्लू में एक दिव्यांग व्यक्ति (Divyang) को भरी बस में जलील करने के बाद कंडक्टर (Conductor) ने बस से उतार दिया.

  • Share this:
कुल्लू. हिमाचल प्रदेश के कुल्लू में एक दिव्यांग (Disabled) व्यक्ति को भरी बस में जलील (Insulted) करने के बाद कंडक्टर ने बस से उतार दिया. यह घटना हिमाचल पथ परिवहन निगम (HRTC) केलांग डिपो की बस नंबर एचपी 66 3814 में घटी. दिव्यांग व्यक्ति प्रदीप कुमार (Pradeep Kumar) ने आरोप लगाया कि बस मनाली से हरिद्वार जा रही थी और वह इसी बस में सीट नंबर 2 पर बैठकर कुल्लू आ रहा था. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि जब बस चालक ने उनसे किराये के लिए कहा तो उन्होंने अपना बस पास दिखाया. लेकिन बस चालक ने पास को दरकिनार करते हुए उनसे 50 रुपये की मांग की. उन्होंने कहा कि वे आज तक इसी पास से सरकारी बस में सफर करते हैं. परिचालक ने पीड़ित व्यक्ति की कोई दलील नहीं सुनी और बस पास को भी उनके मुंह पर फेंक दिया.

'मुझे बस कंडक्टर ने बहुत जलील किया'
पीड़ित व्यक्ति प्रदीप कुमार ने कहा कि कारण वे दिव्यांग हैं इसीलिए उन्हें इस तरह से जलील होना पड़ा. उन्होंने बताया कि मैं अपमानित होकर बस से उतरकर आलू ग्राउंड में रोने लगा. जेब में पैसे कम होने के कारण मुझे मनाली की ओर वापस जाने को बाध्य होना पड़ा. उसके बाद काफी देर वहां बैठकर उन्होंने निगम की दूसरी बस का इंतजार किया तब उन्हें पथ परिवहन निगम की बस एचपी 42 2056 आई. उन्होंने इस बस में पास दिखाया तो उन्होंने उसे मान्य करार दिया और मुझे सफर करने दिया.


'मैं अपने काम से कुल्लू आया था, शिकायत करने में ही गुजर गया दिन'


हैरत की बात तो यह है कि प्रदीप कुमार का दिव्यांग बस पास 18 फरवरी 2025 तक मान्य था. प्रदीप कुमार ने कहा कि वे कुल्लू में तो अपने काम से आए थे लेकिन उनके साथ जो बदतमीजी हुई है, वे इसकी शिकायत करने में ही दिनभर व्यस्त रहे. इस बारे में प्रदीप कुमार ने हिमाचल पथ परिवहन निगम के अधिकारियों से भी बात की.

पीड़ित ने कहा, बस कंडक्टर ने पी रखी थी शराब
उन्होंने कहा कि बस परिचालक ने शराब पीकर हुई थी और उनके मुंह से गंध भी आ रही थी. उन्होंने कहा कि भविष्य में किसी के साथ इस तरह का दुव्र्यवहार नहीं होना चाहिए. अपंग होना कोई गुनाह नहीं है. उन्होंने इंसाफ के लिए लिखित में केलांग डिपू के कुल्लू कार्यलय में कर्मचारियों को लिखित में शिकायत दी है और परिवहन मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर से भी शिकायत कर उचित कार्रवाई की मांग की है.

पीड़ित ने परिवहन मंत्री से लगाई गुहार
उन्होंने कहा कि मुझे इंसाफ मिलना चाहिए और जिस तरह से बस कंडक्टर ने उनकी बेज्जती की है उसी तरह किसी दूसरे अपंग व्यक्ति के साथ इस तरह की घटना नहीं घटित हों इसके लिए डीएम और आरएम से कड़ी कार्रवाई की मांग की है.

यह भी पढ़ें: क्यों, ग्लोबल इन्वेस्टर मीट में हिमाचली उद्योगपतियों से मिलेंगे PM मोदी

हिमाचल: भाई दूज पर HRTC का महिलाओं को तोहफा, फ्री में कर सकेंगी बस यात्रा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज