भांग की खेती खत्म करने के लिए कुल्लू पुलिस ने चलाया अभियान

कुल्लू पुलिस की ओर से भांग को खत्म करने के लिए भांग उखाड़ों अभियान चलाया जा रहा है, जिसमें पुलिस, होमगार्ड और वन विभाग के जवान दूर दराज के क्षेत्रों में जाकर भांग की खेती की खत्म कर रहे हैं. मामले की जानकारी देते हुए कुल्लू एसपी शालिनी अग्निहोत्री ने बताया कि उनके द्वारा जिले भर में भांग को खत्म करने के लिए यह अभियान चलाया जा रहा है.

Sachin Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: September 8, 2018, 2:25 PM IST
भांग की खेती खत्म करने के लिए कुल्लू पुलिस ने चलाया अभियान
चरस का पौधा
Sachin Sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: September 8, 2018, 2:25 PM IST
कुल्लू-मनाली की खूबसूरती को देखने के लिए विदेशी सैलानी यहां आते हैं. यहां की खूबसूरती के साथ ही यहां उगने वाली चरस भी देशी विदेशी पर्यटको को अपनी ओर आकर्षित करती है. मलाणा में उगने वाली चरस को मलाणा क्रीम, काला सोना आदि नामों से भी जाना जाता है.  कुल्लू पुलिस ने भांग की खेती को खत्म करने कि लिए भांग उखाड़ों अभियान चलाया हुआ है.

देवभूमि में नशे का कारोबार खूब फल फूल रहा है. प्रदेश सरकार और पुलिस की ओर से हर साल लोगों को नशे के प्रति जागरूक करने के लिए विभिन्न तरह के कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाता है. इसके अलावा पुलिस की तरफ से हर साल स्पेशल टीम गठित कर भांग उखाड़ों जैसे अभियान भी चलाएं जा रहे हैं, लेकिन इसके बावजूद भी लोग जल्दी अमीर बनने के चक्कर में इसका मोह नहीं छोड़ पा रह हैं.

पुलिस ने भी नशे के खिलाफ अभियान चलाया हुआ है. घाटी में लगातार फल-फूल रहे इस कारोबार पर लगाम लगाना पुलिस ने लिए अब चुनौती बनता जा रहा है. पुलिस द्वारा हर साल भांग की खेती को खत्म करने के लिए भांग उखाड़ो अभियान चलाया जाता है, लेकिन यह कारोबार कम होने की बजाय बढ़ ही रहा है.

कुल्लू पुलिस की ओर से भांग को खत्म करने के लिए भांग उखाड़ों अभियान चलाया जा रहा है, जिसमें पुलिस, होमगार्ड और वन विभाग के जवान दूर दराज के क्षेत्रों में जाकर भांग की खेती की खत्म कर रहे हैं. मामले की जानकारी देते हुए कुल्लू एसपी शालिनी अग्निहोत्री ने बताया कि उनके द्वारा जिले भर में भांग को खत्म करने के लिए यह अभियान चलाया जा रहा है. उन्होंने बताया कि आम जनता को भी नशे के प्रति जागरूक करने के लिए सहभागिता के नाम से एक कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है, जिसके माध्यम से उन्हें नशे के खिलाफ कई शिकायते भी मिल रही है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर