लाहौल-स्पीति के पहले डॉक्टर प्रेम चंद का निधन, 88 साल की उम्र में दुनिया को कहा अलविदा
Kullu News in Hindi

लाहौल-स्पीति के पहले डॉक्टर प्रेम चंद का निधन, 88 साल की उम्र में दुनिया को कहा अलविदा
डॉक्टर प्रेम चंद का निधन.

Lahaul Spiti First Doctor Dies: वह वर्ष 1958 में गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज अमृतसर से स्नातक करने वाले एचपी ट्राइबल एरिया से पहले एमबीबीएस थे.

  • Share this:
कुल्लू. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के जनजातीय जिला लाहौल स्पीति के पहले डॉक्टर प्रेम चंद का निधन हो गया है. वे 88 वर्ष के थे. उन्होंने गुरुवार को कुल्लू (Kullu) जिले में स्थित निवास में अंतिम सांस ली. डॉ. प्रेम चंद का जन्म जनजातीय जिला लाहौल-स्पीति (Lahaul Spiti) के ठोलंग गांव में 1932 में हुआ था.

साल 1958 में की थी डॉक्टरी
वह वर्ष 1958 में गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज अमृतसर से स्नातक करने वाले एचपी ट्राइबल एरिया से पहले एमबीबीएस थे. साल 1972 में लंदन और एडिनबर्ग से पहले एमआरसीपी (रॉयल कॉलेज ऑफ़ फिजिशियन का सदस्य) बने. साल 1968 में ग्लासगो इंग्लैंड से चिल्ड्रन हेल्थ में डिप्लोमा किया और क्षेत्रीय अस्पताल कुल्लू 1991 से मुख्य चिकित्सा अधिकारी के रूप में सेवानिवृत्त हुए. साल 1952 में आयोजित मैट्रिक परीक्षा में पूरे जिला में टॉप किया था. तब कुल्लू और लाहौल स्पीति कांगड़ा जिला का हिस्सा हुआ करता था. लाहुल और स्पीति और पूरे से पहले एलोपैथिक डॉक्टर बन गए थे.

ठोलंग गांव का दबदबा
बता दें कि लाहौल के ठोलंग गांव सरकारी सेवाओं में नौकरी के लिए अव्वल माना जाता है. इस गांव से प्रदेश के अलावा अन्य राज्यों को भी कई अफसर मिले हैं. यहां से कई आईएएस के अलावा, डॉक्टर और अफसर निकले हैं, जिन्होंने गांव और प्रदेश का नाम रोशन किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज