VIDEO: हामटा पास से खड्ड में मिला MBBS छात्रा का शव, चंद्रभागा नदी में मिली प्रिंसिपल की लाश

मनाली के हामटा पास से मिली लाश.

MBBS Student Dead Body at Hampta Pass: एडवेंचर्स टूअर्स ऑपरेटर्स एसोशिएसन मनाली ने प्रशासन से ट्रैकिंग को लेकर नियम बनाने की मांग की है. उन्होंने कहना है कि लोग परमिशन से ज्यादा लोगों को ट्रैकिंग पर ले जाते हैं. एसोशिएसन का कहना है कि मनाली में पिछले तीन साल से मास ट्रैकिंग हो रही है.

  • Share this:
कुल्लू. हिमाचल प्रदेश के कुल्लू (Kullu) जिले में मनाली स्थित हामटा पास के जलौरा नाले में बही एमबीबीएस की स्टूडेंट का शव बरामद कर लिया गया है. एडवेंचर्स टूअर्स ऑपरेटर्स एसोशिएसन मनाली (Manali) की टीम ने युवती के शव को हामटा पास (Hampta Pass) से बरामद किया है. वीडियो में देखा जा सकता है कि नाले में कितना पानी है और इन इलाकों में ट्रैंकिंग (Trekking) कितनी खतरनाक है.

जानकारी के अनुसार, सात लोगों का दल सोमवार को हाम्टा पास की ट्रैकिंग के लिए निकला था. इनमें कुल्लू जिले की निथर निवासी 23 वर्षीय आस्था कटोच हाम्टा डैम के पास जलौरा वाटर फॉल के पास नाले में अचानक पानी में गिर गई. उसके साथ 35 वर्षीय वरुण, 23 वर्षीय दीया ठाकुर, 29 वर्षीय रोहित, 33 वर्षीय परिश, 30 वर्षीय विजेंद्र, 31 वर्षीय अनु ठाकुर शिमला भी थे. उन्होंने पुलिस को सूचना दी थी और बाद में रेस्क्यू टीम ने शव को निकाला है.

क्या कहता एडवेंचर्स टूअर्स ऑपरेटर्स मनाली

एडवेंचर्स टूअर्स ऑपरेटर्स एसोशिएसन मनाली ने प्रशासन से ट्रैकिंग को लेकर नियम बनाने की मांग की है. उन्होंने कहना है कि लोग परमिशन से ज्यादा लोगों को ट्रैकिंग पर ले जाते हैं. एसोशिएसन का कहना है कि मनाली में पिछले तीन साल से मास ट्रैकिंग हो रही है. इससे सुरक्षा के साथ साथ पर्यावरण को भी खतरा पैदा हुआ है. साथ ही स्थानीय लोगों की रोजी रोटी पर भी संकट है. उन्होंने कहा कि जब वह युवती की बॉडी को रेस्क्यू करने के लिए हामटा पास गए थे तो वहां पर दो कैंप साइट पर 300-400 लोग रह रहे थे. हिमाचल से बाहर जो ट्रैकिंग कंपनीज संचालित हैं, वह नियमों की उल्लंघन कर रही है और प्रकृति से खिलवाड़ कर रही हैं.

Manali, Shimla, Tourism, Cloud Burst
युवती के शव को हामटा पास से लाती हुई रेस्क्यू टीम.


चंद्राभागा से मिला स्कूल प्रिसिंपल का शव

लाहौल-स्पीति जिले में स्कूल के प्रिंसिपल कार समेत चंद्रभागा नदी में जा गिरे थे और अब शव कड़ी मशक्कत के बाद बरामद किया गया है. इस ऑपरेशन में 22 घंटे लगे हैं. मृतक की पहचान 52 साल के बीर सिंह पुत्र गोविंद राम निवासी उदयपुर के रूप में हुई है. बीर सिंह मूरिंग पाठशाला के प्रिसिंपल थे. सोमवार को जब भारी बारिश के बाद नदी--नाले उफान पर थे तो उस वक्त वह अपनी वैन में सवार होकर घर लौट रहे थे. उसी दौरान उदयपुर से करीब आठ किलोमीटर पहले चुलिंग गांव के समीप वैन अनियंत्रित होकर नदी में जा गिरी. कुछ लोगों ने वैन के एक हिस्से को नदी के किनारे में फंसा हुआ देखा था. मंगलवार को फिर से रेस्क्यू टीम ने सर्च अभियान चलाया तो बीर सिंह का शव बरामद किया गया.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.