अपना शहर चुनें

States

वेस्ट-टू-टैस्ट कैफे: कूड़ा दीजिये, बदले में खाईए पिज्जा-बर्गर-सिड्डू

कुल्लू प्रशासन ने पहल शुरू की है.
कुल्लू प्रशासन ने पहल शुरू की है.

कुल्लू डीसी ने सभी नागरिकों से अपील की है कि वे अपने घरों में अथवा आस-पास पड़े कचरे को जमा करवाकर व्यंजनों का आनंद उठाए और शहर को स्वच्छ बनाने में अपना योगदान दें.

  • Share this:
हिमाचल के कुल्लू जिला प्रशासन ने कुल्लू शहर को साफ-सुथरा बनाने एक लिए एक अनूठी पहल शुरू करने जा रहा है, जिसके तहत ‘वेस्ट टू टेस्ट कैफे’ योजना के तहत शहरवासियों को वेस्ट मैटिरियल देने पर फ्री कूपन मिलेंगे और वह स्वादिष्ट व्यंजनों का आंनद ले पाएंगे.

उपायुक्त डॅा. ऋचा वर्मा ने बताया कि कुल्लू शहर में नगरवासियों के घरों में पड़ी बेकार चीजों को वेल्यू दे रहे बैं कि वेस्ट मटैरियल को इधर-उधर ना फेंके. इस वेस्ट टू टेस्ट योजना के माध्यम से अनुप्युक्त वस्तुओं को प्राप्त करके उन्हें शहर के अच्छे रेस्तरां में स्वादिष्ट व्यंजनों का आनंद लेने का अवसर प्रदान किया जाएगा.

ये चीजें खा सकते हैं
इन व्यंजनों में कॉफी, सिड्डू, आईसक्रीम, पिज्जा, बर्गर एवं परिवार के चार सदस्यों को शानदार डिनर का प्रावधान किया जाएगा. मुफ्त कूपन धारक व्यक्ति को ये व्यंजन कुबेर फास्ट फूड, यानी आईसक्रीम जैसे व्यंजन प्राप्त करने के लिए मुफ्त कूपोन सरवरी स्थित एमआरएफ स्थल पर घर की कुछ बेकार वस्तुओं को जमा करवाना होगा. कॉफी के लिए तीन किलो कांच, आधा किलो प्लास्टिक, दो किलो गत्ता और एक किलो ई-वेस्ट में से कोई एक वस्तु जमा करवानी होगी.
डीसी कुल्लू अधिकारियों के साथ.
डीसी कुल्लू अधिकारियों के साथ.




इतना कूड़ा देना होगा
बर्गर, सिड्डू और मोमोस के लिए चार किलो कांच, एक किलो प्लास्टिक, तीन किलो गत्ता व दो किलो ई.वेस्ट में से कोई एक वस्तु, लंच अथवा सैंडविच्च के लिए क्रमशः पांच किलो, डेढ किलो, चार किलो व तीन किलो कूड़ा में से कोई एक जमा करवानी होगी. परिवार सहित रात्रि भोज के लिए 10 किलो कांच अथवा, तीन किलो प्लास्टिक अथवा सात किलो गत्ता अथवा छः किलो ई-कचरा देना होगा.

Waste to taste Cafe Kullu
कुल्लू प्रशासन ने पहल शुरू की है.


डीसी ने की अपील
डीसी ने सभी नागरिकों से अपील की है कि वे अपने घरों में अथवा आस-पास पड़े कचरे को जमा करवाकर व्यंजनों का आनंद उठाए और शहर को स्वच्छ बनाने में अपना योगदान दें. उन्होंने कहा कि इस कचरे को लोग जगह-जगह फेंक रहे हैं, जिससे न केवल शहर दूषित हो रहा है, बल्कि जल स्त्रोतों पर भी बुरा प्रभाव पड़ रहा है. कुल्लू-मनाली हर वर्ष लाखों देसी व विदेशी सैलानी आते हैं और ऐसे में प्रत्येक व्यक्ति की जिम्मेवारी बनती है कि वह कूड़ा-कचरा हर कहीं पर न डालें, बल्कि ठोस व तरल कूड़ा अलग-अलग से नगर परिषद के कर्मियों को दें.

ये भी पढ़ें: PHOTOS:कहीं बादल फटे, कहीं NH बंद, हिमाचल में बारिश से तबाही

सोलन में SBI का एटीएम काटकर 3.5 लाख रुपये लेकर लुटेरे फरार

किन्नौर में 3 जगह फटे बादल, पुल बहा, काजा जाने वाला NH बंद

हिमाचल में नियम बदले, अब बाहरी को आसानी से नहीं मिलेगी ज़ॉब

मंडी: चंडीगढ़-मनाली हाईवे बहाल, पुलिस निगरानी में आवाजाही

हिमाचल कैबिनेट मीटिंग: 1500 पद भरे जाएंगे, ये 30 फैसले हुए
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज