कुल्लू में बर्फीले तूफान ने बढ़ाई प्लम,खुर्मानी,आडू बादाम बागवानों की चिंता

हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले में एक बार फिर से मौसम खराब हो गया है. कुल्लू घाटी में प्लम, खुर्मानी, आड़ू और बादाम के पेड़ो में बंपर फ्लावरिंग हुई है. इससे पेड़ों में खिले फूलों को नुकसान होने का खतरा मंडरा रहा है.

Tulsi Bharti | News18 Himachal Pradesh
Updated: March 17, 2019, 2:22 PM IST
कुल्लू में बर्फीले तूफान ने बढ़ाई प्लम,खुर्मानी,आडू बादाम बागवानों की चिंता
कुल्लू जिले में फल के पेड़ों पर अच्छी फ्लावरिंग हुई है
Tulsi Bharti | News18 Himachal Pradesh
Updated: March 17, 2019, 2:22 PM IST
हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले में एक बार फिर से मौसम खराब हो गया है. कुल्लू घाटी में रविवार की सुबह से मौसम खराब होने से बर्फीली हवाओं के कारण तापमान में भारी गिरावट दर्ज की जा रही है. इससे पेड़ों में खिले फूलों को नुकसान होने का खतरा मंडरा रहा है. कुल्लू घाटी में प्लम, खुर्मानी, आड़ू और बादाम के पेड़ो में बंपर फ्लावरिंग हुई है. जाहिर सी बात है कि इस बदले मौसम के चलते बागवानों की चिंता बढ़ गई है. इस साल सर्दियों में पहाड़ों पर और ऊंचाई वाले क्षेत्रों में भारी बर्फबारी हुई और यही वजह है कि किसानों और बागवानों को अच्छी फसल की उम्मीद थी. लेकिन, लगातार मौसम खराब होने से प्लम, खुर्मानी, आड़ू व बादाम के पेड़ों में दो सप्ताह देरी से फूल खिले हैं. ऐसे में अगर मौसम ने बागवानों का साथ नहीं दिया तो बागवानों को भारी नुकसान झेलना पड़ सकता है.

बागवानों की मानें तो मौसम पिछले 3 माह से अच्छी बर्फबारी व बारिश से अच्छी फसल की उम्मीद लगाई थी लेकिन अब लगातार मौसम खराब होने से नुकसान होने की संभावना जताई जा रही है.

मौसम विभाग के अनुसार आगामी एक सप्ताह तक मौसम खराब रह सकता है और ऐसे में घाटी के प्लम, खुर्मानी, आडू के साथ बादाम की फसल को बहुत नुकसान पहुंच सकता है.



कुल्लू जिले के बागवान सुंदर सिंह ने बताया कि घाटी में प्लम, खुर्मानी, आड़ू और बादाम के पेड़ों पर बंपर फ्लावरिंग हुई है. उन्होंने कहा कि आगामी दो सप्ताह तक घाटी में मौसम साफ रहता तो अच्छी फसल हो सकती थी.

यह भी पढ़ें: कांग्रेस पार्टी की स्क्रीनिंग कमेटी में आज चार सीटों के लिए 8 नामों पर होगा फैसला

 टिकट पर फैसला! प्रदेश नेतृत्व को बीजेपी हाईकमान ने 22 मार्च को बुलाया दिल्ली
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...